तिब्बत को आर्थिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का बड़ा केन्द्र बनाने हिमालय के आर-पार जाने वाली रेल लाइन में चीन की दिलचस्पी बढ़ी

By YS TEAM
August 08, 2016, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:17:15 GMT+0000
तिब्बत को आर्थिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का बड़ा केन्द्र बनाने हिमालय के आर-पार जाने वाली रेल लाइन में चीन की दिलचस्पी बढ़ी
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

चीन के अधिकारियों का कहना है कि तिब्बत को भारत और नेपाल से जोड़ने वाली इस पार से उस पार जाने वाली हिमालय रेलवे आर्थिक और तकनीकी रूप से संभव है। चीन तिब्बत को आर्थिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का बड़ा केन्द्र बनाना चाहता है और इस क्षेत्र के ज़रिए दक्षिण एशिया तक पहुंच बनाना चाहता है।

image


बीजिंग प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के उप निदेशक झोंग गैंग ने तिब्बत से जुड़े शोध केन्द्र द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कहा, ‘‘हिमालय क्षेत्र में इस पार से उस पार जाने वाली रेल लाइन का निर्माण अब आर्थिक और तकनीकी रूप से व्यावहारिक है।’’ चीन के सरकारी समाचार पत्र ने चीनी शोधकर्ताओं के हवाले से कहा है कि हिमालय के आर-पार जाने वाली यह रेल तिब्बत के एक शहर सिगाझे से शुरू होकर चीन सीमा पर बने बंदरगाह गिरांग जायेगी और वहां से इसे नेपाल तक पहुंचाया जा सकता है। हालांकि, उन्होंने कहा कि यह तीव्र गति से चलने वाली रेल नहीं होगी।

चीन ने तिब्बत के शहर को जोड़ने वाली 1,100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली तीव्र गति की रेलवे का निर्माण 2006 में किया है जिसमें तिब्बत को चीन के साथ जोड़ा गया है। इसके बाद इसमें 250 किलोमीटर का और विस्तार कर इसे तिब्बत प्रांत की राजधानी ल्हासा के साथ जोड़ा गया है।

चीन अब नेपाल और यादोंग के लिये भी रेलवे संपर्क मार्ग पर विचार कर रहा है। यह शहर सिक्किम के करीब है। चीन के अधिकारियों का कहना है कि भविष्य में इसे भारत के साथ जोड़ा जा सकता है।- पीटीआई 

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close