Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

30 साल का ये शख्स कभी कॉलेज नहीं गया फिर भी Deloitte से सालाना कमा रहा 10 करोड़ रुपये

जानिए कैसे बेन न्यूटन ने Deloitte के अप्रेंटिसशिप प्रोग्राम के जरिए अपना रास्ता बनाया और सालाना 10 करोड़ रुपये कमाने में सफल हुए. उन्होंने कॉलेज जाए बगैर करियर बनाने की एक मिसाल कायम की है. कॉलेज की डिग्री हासिल करने से ज्यादा उन्होंने खुद को स्किल्ड बनाने पर जोर दिया.

30 साल का ये शख्स कभी कॉलेज नहीं गया फिर भी Deloitte से सालाना कमा रहा 10 करोड़ रुपये

Wednesday April 17, 2024 , 3 min Read

आज की दुनिया में करियर की सफलता के बदलते मानकों को दर्शाने वाली बेन न्यूटन (Ben Newton) की यात्रा बेहद प्रेरणादायक है. बेन, जो कि 30 वर्ष के हैं, उन्होंने उच्च शिक्षा के पारंपरिक मार्ग को छोड़कर, स्कूल के तुरंत बाद डेलॉयट (Deloitte) के ब्राइटस्टार्ट अप्रेंटिसशिप प्रोग्राम (Deloitte's BrightStart apprenticeship) में भाग लिया. इस निर्णय ने उन्हें एक ऐसे रास्ते पर ला खड़ा किया, जिसने उन्हें डेलॉयट में पहले अप्रेंटिस के रूप में पार्टनर बनने की उपलब्धि दी, जिसका सालाना मुआवजा 10 करोड़ रुपये है.

बेन का जन्म जर्मनी में हुआ था और वह बहुत छोटी उम्र में डॉरसेट, इंग्लैंड चले आए थे. एक अर्ध-ग्रामीण वातावरण में पले-बढ़े बेन पर उनके माता-पिता का गहरा प्रभाव पड़ा—उनके पिता एक अनुशासित पूर्व सैनिक थे और उनकी माँ एक मिलनसार हाई-स्ट्रीट ट्रैवल एजेंट थीं. इन प्रभावों ने संभवतः उनकी गणितीय समस्या सुलझाने और लोगों का प्रबंधन करने की क्षमताओं को तेज किया, जो कि उनकी वर्तमान भूमिका में महत्वपूर्ण हैं.

University of Warwick में जाने की योजना के बजाय, बेन ने स्कूल के तुरंत बाद वास्तविक दुनिया को अनुभव के लिए चुना. उन्होंने अप्रेंटिसशिप (शिक्षुता) को व्यावहारिक अनुभव प्राप्त करने का एक शॉर्टकट माना, साथ ही स्टूडेंट लोन के बोझ के बिना ACA योग्यता जैसे शैक्षणिक प्रमाणपत्र भी हासिल किए.

अपने करियर के दौरान, बेन ने अपने काम में लचीलापन, नवाचार, और प्रत्यक्ष प्रभाव पर जोर दिया है, जो मूल्य उन्हें उनके क्षेत्र के शीर्ष पर ले गए हैं.

Deloitte का अप्रेंटिसशिप प्रोग्राम इसकी समावेशिता और प्रगतिशीलता के लिए जाना जाता है, जो विविध पृष्ठभूमि के प्रतिभाशाली व्यक्तियों को लक्षित करता है. इस कार्यक्रम का डिज़ाइन न केवल ट्रेनिंग देने के लिए है बल्कि अप्रेंटिस को ऐसे काम में लगाना है जो कंपनी और इसके ग्राहकों पर प्रभाव डालता है. इस दृष्टिकोण ने बेन जैसे कई युवा पेशेवरों को सीधे स्कूल से सफल करियर शुरू करने में मदद की है.

मुख्य सीख और विचार

बेन न्यूटन की कहानी कई युवा व्यक्तियों के लिए प्रेरणा है जो अपने भविष्य के करियर पथ पर विचार कर रहे हैं. इसमें कई मुख्य पाठ सामने आते हैं:

  1. अपरंपरागत मार्ग से असाधारण सफलता संभव है: कॉलेज का चयन न करना आवश्यक रूप से दरवाजे बंद नहीं करता है, बल्कि नए दरवाजे खोल सकता है, खासकर जब फर्में जैसे कि Deloitte अप्रेंटिसशिप के माध्यम से मजबूत प्रशिक्षण और करियर प्रगति प्रदान करती हैं.
  2. लचीलापन और अनुकूलनशीलता महत्वपूर्ण हैं: बदलते वातावरण और नौकरी की आवश्यकताओं को स्वीकार करने और उनके अनुकूल होने की इच्छा आज के गतिशील कार्य परिदृश्य में अनिवार्य है.
  3. व्यावहारिक अनुभव का महत्व: कार्यस्थल पर प्रशिक्षण कभी-कभी करियर की उन्नति के लिए एक तेज़ और अधिक कुशल मार्ग प्रदान कर सकता है, जो वास्तविक दुनिया की क्षमताओं को व्यावसायिक विकास के साथ जोड़ता है.

बेन की यात्रा पेशेवर दुनिया में एक बड़े बदलाव को दर्शाती है जहाँ कौशल, अनुकूलनशीलता, और अनुभव पारंपरिक शैक्षणिक योग्यताओं के रूप में मूल्यवान हो रहे हैं. उनकी सफलता की कहानी यह दिखाती है कि कैसे वैकल्पिक मार्ग उच्च स्तरीय पदों और महत्वपूर्ण वित्तीय सफलता की ओर ले जा सकते हैं.

यह भी पढ़ें
जानिए कैसे सहेली चटर्जी ने 110 रु से खड़ा किया 1,64,20,000 रु वाला बिजनेस
यह भी पढ़ें
मिलें IIT स्टूडेंट मुकुल से, जिनकी चाय की दुकान बनी कनेक्शन और कला का अड्डा