लोगों ने कहा बेवकूफ़ तो नाम रख लिया – बंच ऑफ फूल्स

By Ravi Verma
April 18, 2016, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:17:16 GMT+0000
लोगों ने कहा बेवकूफ़ तो नाम रख लिया  – बंच ऑफ फूल्स
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

छतीसगढ़ की राजधानी रायपुर में साप्ताहिक छुट्टी के दिनों में अगर किसी स्थान की नाली साफ़ करते या चौक चौराहे पर रंग रोगन करते कुछ युवा दिख जाएं तो समझिए के ये बंच ऑफ फूल्स हैं।


image


2 अक्टूबर 2014 को, मोदी के स्वच्छ भारत अभियान ने रायपुर के आठ युवा दोस्तों को इतना प्रभावित किया कि इन लोगों ने अपनी छुट्टियां शहर को साफ़ करने में बिताने के लिए बाकायदा एक ग्रुप बना लिया. इनका मानना है कि पढ़े लिखे बेवकूफ ही ज़्यादा गंदगी फैलाते हैं और सफ़ाई करने वालों को बेवकूफ़ कहकर मज़ाक उड़ाते हैं। इसलिए ग्रुप का नाम रखा 'बंच ऑफ फूल्स‘। 


image


बंच ऑफ फूल्स के युवा सदस्यों की टोली पहले शहर के गंदे स्थानों का चयन करती है और फिर इसे साफ़ करने की बाकायदा योजना बनाकर काम शुरू किया जाता है. रविवार या अन्य छुट्टियों के दिन सुबह छ: बजे से ग्रुप के लोग पूर्वनिश्चित स्थान पर सफ़ाई के लिए पहुँच जाते हैं। अब इस समूह के साथ बड़ी संख्या में बुज़ुर्ग और महिलाएं भी जुड़ गए हैं।


image


बड़ी बात यह है कि किसी भी स्थान को साफ़ करने के बाद ये लोग उसी जगह पर नुक्कड़ नाटक या जागरूकता अभियान चलाकर लोगों को उनकी गलती का अहसास कराने के साथ उन्हें इसे अच्छा बनाए रखने के लिए प्रेरित भी करते हैं. जिस स्थान पर काम किया गया था उसकी तारीख़ नोट करके रखी जाती है और नियमित रूप से बंच ऑफ फूल्स उस स्थान पर निगाह रखते हैं। जो लोग पहले इन्हें बेवकूफ़ कहकर हँसते थे, उनमें से काफी लोग अब इनकी टोली में नज़र आते हैं. बंच ऑफ फूल्स आज भी किसी से आर्थिक सहायता स्वीकार नहीं करते, हां अगर लोग साथ मिलकर श्रमदान करना चाहें,तो उनका स्वागत है. अब इस ग्रुप में डॉक्टर, वकील, सी.ए., व्यापारी सभी तरह के लोग शामिल हैं।


image


बंच ऑफ फूल्स को क्लीन इंडिया कैम्पेन के तहत 2015 में मुम्बई में स्वच्छता सेनानी का एवार्ड मिल चुका है. इनके कामों को सराहने वालों में ख़ुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी हैं। जब बंच ऑफ फूल्स ने रायपुर शहर में चौक चौराहों पर लगी महापुरुषों की प्रतिमाओं को धोकर चमकाना और प्रतिमाओं के आसपास के क्षेत्र को साफ़ रखने की शुरुआत की और ट्विटर पर इसे पोस्ट किया तो स्वयं प्रधानमंत्री ने इनके इस ट्वीट को री ट्वीट किया. इसके बाद छतीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने भी इन्हें इनके मिलने बुलाया और अभियान के लिए हर संभव सहायता देने की पेशकश की. उन्होंने ही इस समूह की वेबसाईट को लॉन्च किया।


image


पिछले लगभग 65 हफ़्तों में इन लोगों ने 75 स्थानों को चमका दिया है और धीरे धीरे ये मुहिम तेज़ हो रही है. इलाके की सफ़ाई के बाद उस स्थान को स्पोर्ट्स या पार्किंग जैसी एक्टीविटी के लिए उपयोग किया जाता है,जिससे वहां दोबारा गंदगी होने की आशंका कम हो।


image


शहर में साफ़ सफ़ाई के साथ ही अब इन लोगों ने बेटी बचाओ, पानी बचाओ अभियान से भी अपने ग्रुप को जोड़ा है और छोटे छोटे दुकानदारों को डस्टबिन देने की शुरुआत की है।


ऐसी ही अन्य प्रेरणादायक कहानियां पढ़ने के लिए फेसबुक पेज पर जाएं और शेयर करें

बनारस की गलियों में 'खुशहाली' के दीप जलाते एक डॉक्टर, तैयार कर रहे हैं 'हैप्पीनेस आर्मी'

कल तक जिन साहूकारों से कर्ज लेती थी, आज वही महिलाएं उन साहूकारों को दे रही हैं कर्ज 

भले ही अकेला चना भांड नहीं फोड़ता हो, पर अकेली लड़की पूरे पंचायत का कायापलट कर सकती है,नाम है छवि राजावत