संस्करणों
प्रेरणा

‘द ग्लोबल टीचर प्राईज़ 2017’ की दौड़ में भारतीय शिक्षिका भी हुईं शामिल

अनूठे तरीके से फिज़िक्स पढ़ाने वाली भारतीय टीचर कविता सांघवी उन शीर्ष 50 दावेदारों में शामिल हैं, जो 10 लाख डॉलर के वैश्विक पुरस्कार की दौड़ में हैं।

PTI Bhasha
14th Dec 2016
1+ Shares
  • Share Icon
  • Facebook Icon
  • Twitter Icon
  • LinkedIn Icon
  • Reddit Icon
  • WhatsApp Icon
Share on

अनूठे तरीके से भौतिकी पढ़ाने वाली एक भारतीय शिक्षिका उन शीर्ष 50 दावेदारों में शामिल हैं, जो 10 लाख डॉलर के वैश्विक पुरस्कार की दौड़ में हैं। इस शिक्षिका को उनके भौतिकी पढ़ाने के प्रयोगधर्मी अंदाज के लिए पहचाना जाता है। ‘द ग्लोबल टीचर प्राइज 2017’ की ओर से मुंबई के एमईटी ऋषीकुल विद्यालय की प्रधानाचार्य कविता सांघवी को भौतिकी जैसे जटिल विषय को दिलचस्प तरीके से पढ़ाने के लिए दावेदारों में शामिल किया गया है।

फोटो साभार: कविता सांघवी के ट्वीटर प्रोफाईल से

फोटो साभार: कविता सांघवी के ट्वीटर प्रोफाईल से


कुछ दिन पहले, जब से जानकारी मिली है और मैंने अपना नाम शीर्ष 50 में देखा है, तब से मैं बादलों पर चल रही हूं, मुस्कुरा रही हूं और उन सभी लोगों के प्रति आभार महसूस कर रही हूं, जिन्होंने पेशेवर तौर पर मेरी ताकत और क्षमताओं को विकसित करने में मेरी मदद की : कविता सांघवी 

कविता सांघवी ने अपने छात्रों को किताबी सिद्धांतों को असल जिंदगी की स्थितियों से जोड़कर देखने में मदद की है। 

कविता सांघवी कहती हैं, कि ‘यह पहचान मुझे वाकई खास महसूस कराती है और मुझे मेरी योग्यताओं एवं क्षमताओं को और अधिक विकसित करने के लिए प्रेरित करती है। यह पुरस्कार मुझे लगातार याद दिलाता रहेगा, कि मैं अपने छात्रों और शिक्षकों के शैक्षणिक, पर्यावरणीय और सामाजिक विकास को लेकर समुदाय के प्रति जिम्मेदार एवं जवाबदेह हूं।’

इस साल के इन 50 शीर्ष दावेदारों को दुनिया भर के 179 देशों से आए 20 हजार से अधिक नामांकनों और आवेदनों में से चुना गया है।

शीर्ष 50 दावेदारों में से 10 लोगों को फरवरी 2017 तक चुना जाएगा और इसके बाद ग्लोबल टीचर प्राईज़ एकेडमी अंतिम 10 लोगों में से एक विजेता का चयन करेगी। 

गौरतलब है कि 'ग्लोबल टीचर प्राइज' का यह तीसरा साल है। इसकी स्थापना भारतीय मूल के उद्यमी सनी वारके ने की थी। इस पुरस्कार का उद्देश्य उस एक अद्भुत शिक्षक की पहचान करना है, जिसने अपने पेशे में अनूठा योगदान दिया हो। इसके साथ ही इसका उद्देश्य समाज में शिक्षकों की अहम भूमिका पर रोशनी डालना भी है। चुने गए अंतिम 10 उम्मीदवारों को पुरस्कार समारोह के लिए अगले साल 19 मार्च को दुबई में आयोजित किए जाने वाले वार्षिक 'ग्लोबल एजुकेशन एंड स्किल्स फोरम' में बुलाया जाएगा। जहां सीधे प्रसारण के दौरान विजेता के नाम की घोषणा की जाएगी।

1+ Shares
  • Share Icon
  • Facebook Icon
  • Twitter Icon
  • LinkedIn Icon
  • Reddit Icon
  • WhatsApp Icon
Share on
Report an issue
Authors

Related Tags