96% MSMEs को उम्मीद, 2023 में बढ़ेगा मुनाफा: रिपोर्ट

By yourstory हिन्दी
January 05, 2023, Updated on : Thu Jan 05 2023 06:08:09 GMT+0000
96% MSMEs को उम्मीद, 2023 में बढ़ेगा मुनाफा: रिपोर्ट
इस अध्ययन में 25 से ज्यादा शहरों और 70 से ज्यादा व्यावसायिक क्षेत्रों में भारत के MSME मालिकों की अपेक्षाओं को शामिल किया गया है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

देश के लगभग 96 प्रतिशत MSMEs को उम्मीद है कि साल 2023 में मुनाफा बढ़ेगा. भारत में एमएसएमई-फोकस्ड डिजिटल ऋणदाता नियोग्रोथ की ओर से जारी एमएसएमई बिजनेस कॉन्फिडेंस स्टडी से यह संकेत मिलता है. लगभग 3,000 MSME मालिकों की प्रतिक्रियाओं के साथ MSME बिजनेस कॉन्फिडेंस स्टडी देश भर में आयोजित की गई थी. इस अध्ययन में 25 से ज्यादा शहरों और 70 से ज्यादा व्यावसायिक क्षेत्रों में भारत के एमएसएमई मालिकों की अपेक्षाओं को शामिल किया गया है, क्योंकि वे वैश्विक अस्थिरता के बीच 2023 में प्रवेश कर रहे हैं.


MSMEs को भारत की आर्थिक रीढ़ कहा जाता है. एमएसएमई के बीच आशावाद इस अनिश्चित समय में एक उत्साहजनक संकेत है. स्टडी में भाग लेने वाले एमएसएमई में से हर 4 में से 3 साल 2023 में आर्थिक विकास को लेकर आश्वस्त थे, 20% तटस्थ थे और केवल 5% नकारात्मक थे. उत्तरदाताओं में, विनिर्माण और सेवा क्षेत्र की 80% महिला MSME ने कहा कि वे भारत की आर्थिक वृद्धि के बारे में आशावादी हैं.

MSME उपभोक्ता मांग

75 प्रतिशत एमएसएमई मालिकों ने 2023 में उपभोक्ता मांग में वृद्धि की उम्मीद जताई है, 21% एमएसएमई मालिकों ने महसूस किया कि यह 2022 जैसी ही रहेगी और केवल 4% एमएसएमई मालिकों ने अनुमान लगाया कि यह घट जाएगी. चेन्नई के एमएसएमई ने लगभग 86% अपेक्षित वृद्धि के साथ उच्चतम आशावाद दर्ज किया, इसके बाद हैदराबाद के एमएसएमई ने 83% और मुंबई के ने 81% की वृद्धि की उम्मीद जताई.


इंडस्ट्रीज सेगमेंट के मामले में, खुदरा और व्यापार खंड में एमएसएमई मालिकों ने कहा कि वे 2023 में एक मजबूत उपभोक्ता मांग के बारे में सकारात्मक थे. व्यापार और थोक उद्योग से महिलाओं के नेतृत्व वाले एमएसएमई ने अन्य उत्तरदाताओं की तुलना में आने वाले वर्ष में स्वस्थ उपभोक्ता मांग की उम्मीद की.

व्यावसायिक लाभ की उम्मीदें

MSMEs के छियानवे प्रतिशत हिस्से ने 2023 में अपने मुनाफे में वृद्धि की उम्मीद की; इनमें से 66% ने मुनाफे में 30% से अधिक की वृद्धि का अनुमान लगाया, जबकि 30% एमएसएमई ने महसूस किया कि यह 30% से कम बढ़ेगा. केवल 4% MSMEs ने व्यावसायिक लाभप्रदता में कमी की उम्मीद की. चेन्नई के MSMEs 2023 में लाभप्रदता के बारे में सबसे अधिक आश्वस्त थे.

डिजिटल और रोजगार को लेकर क्या

60 प्रतिशत एमएसएमई मालिकों ने कहा कि उन्होंने 2023 में प्रौद्योगिकी या डिजिटल निवेश को बढ़ाने की योजना बनाई है. 61 प्रतिशत एमएसएमई मालिकों ने कहा कि उनका इरादा 2023 में सेवाओं और विनिर्माण उद्योग क्षेत्रों में उच्च भर्ती की उम्मीद के साथ अपने कार्यबल का विस्तार करना है. चेन्नई स्थित 4 में से 3 एमएसएमई ने 2023 में अधिक कर्मचारियों को नियुक्त करने की योजना बनाई है, जो देश में सबसे अधिक है.


नियोग्रोथ के प्रबंध निदेशक और सीईओ अरुण नय्यर ने कहा, "यह खुशी की बात है कि एमएसएमई अपने विकास, लाभप्रदता और अन्य व्यावसायिक संकेतकों के बारे में आश्वस्त हैं .हमारा मानना है कि भारत में मजबूत डिजिटल इकोसिस्टम, आने वाले वर्ष में एमएसएमई ऋण देने के लिए उत्प्रेरक का काम करेगा. एमएसएमई, क्रेडिट अंडरराइटिंग के पारंपरिक तरीकों से प्रभावित हुए बिना अपने कारोबार को आसानी से बनाने और बढ़ाने के लिए नए क्रेडिट विकल्पों का लाभ उठा रहे हैं. 2023 एमएसएमई के लिए एक महत्वपूर्ण वर्ष होगा, जो एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा क्योंकि भारत 5 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था के अपने विजन को साकार करने के लिए एक कदम और करीब आया है.


Edited by Ritika Singh