MockBank से परीक्षा की तैयारी हुई आसान

By Sahil
July 01, 2015, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:20:58 GMT+0000
MockBank से परीक्षा की तैयारी हुई आसान
कोई भी प्रतियोगी इम्तिहान... MockBank रखेगा आपका ध्यान
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारत में टेस्ट प्रिपेरेशन का मार्केट काफी विशाल है। बड़ी तादाद में इस क्षेत्र में शुरू होने वाले स्टार्टअप इसे साबित करते हैं। इस सेक्टर में कोचिंग सेक्टर और टेक्नोलॉजी स्टार्टअप जो कोचिंग इंस्टीट्यूट्स या सीधे स्टुडेंट को सेवा देने हैं, ज्यादा प्रभावी हैं। MockBank कोनार्क सिंघल का ऐसा ही एक प्रयास है जिन्होंने इससे पहले सोर्सवेब को शुरू किया था।

कोनार्क आईआईएम बेंगलोर के एलुमनी हैं जिन्होंने स्टार्टअप की दुनिया में कदम रखने से पहले बेन एंड कंपनी के साथ 3 साल तक काम किया है। कोनार्क बताते हैं- “मैं कई सालों से स्टार्टअप के क्षेत्र में कार्यरत हूं। सबसे पहले MapMyIndia और फिर सोर्स वेब के साथ सफर शुरू किया।” उनका पहला स्टार्टअप सोर्सवेब धीरे-धीरे एक प्योर प्ले सर्विस कंपनी के रूप में विकसित हो गई जिसके बाद उन्होंने कुछ और भी ज्यादा रोमांचकारी करने का फैसला लिया।

कोनार्क बताते हैं कि भारत में करीब 1.5 करोड़ छात्र प्रतियोगी परीक्षाओं (IIT JEE, CAT, BANKING,ETC) की तैयारी करते हैं जिनमें से 80 फीसदी से ज्यादा टॉप 10 मेट्रो शहरों से बाहर के हैं। टॉप 10 मेट्रो शहरों से बाहर 80 फीसदी प्रतियोगी छात्र का दावा हो सकता है कि कुछ ज्यादा हो मगर बैंकिंग जैसी परीक्षाओं के मामले में शायद ये सच भी है।

कोनार्क ने इस क्षेत्र में स्टार्टअप का फैसला मुख्यतः दो वजहों लिया। पहली वजह ये कि बहुत बड़ी तादाद में छात्र इन परीक्षाओं में बैठते हैं दूसरी ये कि इस सेगमेंट में औरों के मुकाबले कोचिंग सेंटर्स और टेक्नोलॉजी स्टार्टअप ना के बराबर थे। कोनार्क कहते हैं- जब कोई टेस्ट प्रिपेरेशन की बात करता है तो आम तौर पर इसे CAT और IIT JEE समझा जाता है। हम चाहते हैं कि हम भी उनके लिए भी जाने जाए मगर कम भीड़ वाले क्षेत्र में काम शुरू करना हमें ज्यादा मुफीद लगा।

MockBank के पास मॉक टेस्ट का भंडार है जिसे स्टुडेंट खरीद सकते हैं (हां, क्योंकि हम कोई फ्रीमियम नहीं देते)। शुरू-शुरू में कंपनी मॉक टेस्ट्स के छोटे सेट के साथ शुरू हुई फिर बाद में डिमांड की वजह से हर परीक्षा के 7-7 मॉक टेस्ट तक पहुंच गई। 7 मॉक टेस्टों की एक सीरीज 1500 रुपये तक की रेंज में उपलब्ध है और 4 मॉक टेस्ट की सीरीज 400 रुपये तक की रेंज में उपलब्ध है। कोनार्क बताते हैं- “स्टुडेंट्स की तरफ से इन टेस्ट्स की क्वालिटी को लेकर बहुत ही शानदार रिस्पॉन्स मिला। हमारे पास बड़ी तादाद में और भी ज्यादा टेस्ट पेपर्स की रिक्वेस्ट आती है मगर फिलहाल हम सीमित रिसोर्स की वजह से बंधे हुए हैं। हमारे टेस्ट पेपर्स की डिमांड इतनी ज्यादा है कि उसे पूरा करने के लिए इस वक्त हमारे पास पर्याप्त रिसोर्स नहीं है।”MockBankके पास 600 से ज्यादा पेड यूजर हैं जिनकी औसतन टिकट साइज 2 हजार रुपये है।

image


MockBankके तीन मुख्य डिस्ट्रिब्यूशन चैनल हैं-

1. ऑनलाइन चैनल: सर्च और 50 फीसदी से ज्यादा ट्रैफिक वाले सोशल मीडिया अकाउंट। इसके बाद कुछ पेड ऐड भी हैं।

2. ऑफलाइन टेस्ट प्रिपेरेशन इंस्टीट्यूट (B2B2C): MockBankका कॉन्सेप्ट ‘टू मॉम एंड पॉप कोचिंग क्लासेज’ पर आधारित है।

3. ऑफलाइन डिस्ट्रिब्यूशन: MockBankबुक स्टोर्स पर स्क्रैच कार्ड देता है जिसके जरिये स्टुडेंट हमारी साइट पर आकर डिस्काउंट पाते हैं।

MockBankकी टीम पूरी तरह से अपनी कंटेंट देती है और इसके हाई स्टैंडर्ड होने का शायद यहीं कारण भी है। कोनार्क इस बात को अच्छी तरह से जानते हैं कि फंड के लिए ऑनलाइन प्रोडक्ट की पुनर्सज्जा बेहद जरूरी है। इस समय कंपनी पर्याप्त मात्रा में टेस्ट बेच रही है जो कंपनी के टिके रहने के लिए जरूरी है।

इस फील्ड में TestBazaar, TestBook, Examify, 100marks जैसे और भी बहुत सारे प्लेयर आ रहे हैं। निवेशकों ने भी तमाम प्लेयर्स को सपोर्ट करते हुए इस क्षेत्र में रूचि दिखाया है। आने वाले महीनों में इस क्षेत्र में बहुत सारे स्टार्टअप स्थापित होंगे और तब भारत में टेस्ट प्रिपेरेशन फील्ड की सही तस्वीर साफ हो जाएगी।