[फंडिंग अलर्ट] आनंद महिंद्रा ने गुरुग्राम स्थित स्टार्टअप Hapramp में किया 1 मिलियन डॉलर का निवेश

By yourstory हिन्दी
June 11, 2020, Updated on : Sun Jun 14 2020 04:42:31 GMT+0000
[फंडिंग अलर्ट] आनंद महिंद्रा ने गुरुग्राम स्थित स्टार्टअप Hapramp में किया 1 मिलियन डॉलर का निवेश
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

दो साल पहले कैंब्रिज एनालिटिका-फेसबुक घोटाला शुरू होने के आद आनंद भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में निवेश करने के लिए विचार कर रहे थे।

(बाएं से) Hapramp के सह-संस्थापक और सीटीओ प्रत्युष सिंह, महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा, Hapramp के सह-संस्थापक और सीईओ शुभेंद्र विक्रम।

(बाएं से) Hapramp के सह-संस्थापक और सीटीओ प्रत्युष सिंह, महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा, Hapramp के सह-संस्थापक और सीईओ शुभेंद्र विक्रम।



महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा गुरुग्राम स्थित स्टार्टअप हापरम्प में मुख्य निवेशक के रूप में सामने आए हैं। कंपनी ने महिंद्रा से 1 मिलियन डॉलर का सीड राउंड फंड जुटाया है।


कैम्ब्रिज एनालिटिका-फेसबुक घोटाला जिसने दो साल पहले सोशल नेटवर्क और डिजिटल दुनिया को हिलाकर रख दिया था, घटना ने डेटा सुरक्षा जैसी चुनौतियों का सामना कर रहा था। आनंद महिंद्रा ने उस समय ट्विटर पर इस तरह की चिंताओं से निपटने में कंपनियों की मदद करने की इच्छा व्यक्त की थी।


इस तरह के स्टार्टअप को खोजने का काम महिंद्रा के तत्कालीन मुख्य डिजिटल अधिकारी जसप्रीत बिंद्रा को दिया गया था। जसप्रीत अब कार्यकारी सलाहकार हैं और स्टार्टअप के लिए एक संरक्षक हैं।


जसप्रीत कहते हैं, "आनंद एक भारतीय स्टार्टअप में निवेश की तलाश कर रहे थे।"


दो साल बाद, समूह ने Hapramp को शॉर्टलिस्ट किया। यह ब्लॉकचेन और सोशल मीडिया जैसी तकनीकों पर काम करने वाला एक स्टार्टअप है। स्टार्टअप की स्थापना 2018 में पांच इंजीनियरों- प्रत्युष सिंह, मोफिद अंसारी, अंकित कुमार, शुभेंद्र विक्रम और रजत डांगी ने भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईआईटी) -वडोदरा से की थी।


अपने प्रमुख सोशल नेटवर्किंग सॉल्यूशन GoSocial के अलावा, Hapramp 1Ramp.io को भी संचालित करता है, जो एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है, जो स्टीम ब्लॉकचेन और एस्टेरिया प्रोटोकॉल द्वारा संचालित है।


GoSocial के बारे में बात करते हुए, Hapramp के सह-संस्थापक और सीईओ शुभेंद्र विक्रम का कहना है कि मंच उपयोगकर्ताओं को फोटोग्राफर्स, कलाकारों, लेखकों और डिजाइनरों द्वारा डिज़ाइन की गई रचनात्मक चुनौतियों को लेने और पुरस्कृत करने की अनुमति देता है।


योरस्टोरी से बात करते हुए, शुभेंद्र ने कहा, "हमारी तकनीक टीम में अधिक लोगों को काम पर रखने के लिए धन का उपयोग करने, हमारी मार्केटिंग रणनीतियों में निवेश करने और साथ ही विस्तार के लिए योजना है।"

कंपनी ने अपने प्लेटफॉर्म पर 50,000 साइन-अप दर्ज किए हैं। मंच का लक्ष्य अगले तीन महीनों में 100,000 साइन-अप और इस साल के अंत तक एक मिलियन तक पहुंचने का है।