FY23 के लिए अनिल अग्रवाल की वेदांता का ​तीसरा लाभांश घोषित, जानिए प्रति इक्विटी शेयर कितना मिलेगा

By yourstory हिन्दी
November 23, 2022, Updated on : Wed Nov 23 2022 05:48:42 GMT+0000
FY23 के लिए अनिल अग्रवाल की वेदांता का ​तीसरा लाभांश घोषित, जानिए प्रति इक्विटी शेयर कितना मिलेगा
कंपनी ने कहा कि लाभांश के भुगतान के लिए रिकॉर्ड तिथि 30 नवंबर 2022 है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

खनन क्षेत्र की प्रमुख कंपनी वेदांता (Vedanta) ने चालू वित्त वर्ष के लिए 17.50 रुपये प्रति इक्विटी शेयर के तीसरे अंतरिम लाभांश की घोषणा की है. इस हिसाब से भुगतान की कुल राशि 6,505 करोड़ रुपये बैठती है. कंपनी ने मंगलवार को यह जानकारी दी. कंपनी का सकल ऋण 30 सितंबर 2022 को 58,597 करोड़ रुपये था.


वेदांता ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा, ‘‘कंपनी के निदेशक मंडल ने मंगलवार को एक प्रस्ताव के माध्यम से वित्त वर्ष 2022-23 के लिए 17.50 रुपये प्रति इक्विटी शेयर के तीसरे अंतरिम लाभांश यानी एक रुपये प्रति शेयर के अंकित मूल्य पर 1,750 प्रतिशत के लाभांश को मंजूरी दी है, जो 6,505 करोड़ रुपये बैठेगा.''

पहले दो बार में कितना था लाभांश

कंपनी ने कहा कि लाभांश के भुगतान के लिए रिकॉर्ड तिथि 30 नवंबर है. अंतरिम लाभांश को कानून के तहत निर्धारित समयसीमा के भीतर दिया जाएगा. वेदांता ने पहले 31.5 रुपये के पहले अंतरिम लाभांश और 19.50 रुपये प्रति इक्विटी शेयर के दूसरे अंतरिम लाभांश को मंजूरी दी थी. वेदांता लिमिटेड (वीडीएल) तेल व गैस, जस्ता, सीसा, चांदी, एल्यूमीनियम, लौह अयस्क, स्टील और बिजली व्यवसायों में प​रिचालन करती है. लंदन मुख्यालय वाली वेदांता रिसोर्सेज (VRL), वेदांता लिमिटेड की पेरेंट कंपनी है और इसमें 69.7% की मालिक है. अग्रवाल का फैमिली इन्वेस्टमेंट व्हीकल Volcan, वेदांता रिसोर्सेज में 100% मालिक है.

स्टील कारोबार से बाहर निकल रहे हैं अनिल अग्रवाल

हाल ही में खबर आई थी कि अनिल अग्रवाल (Anil Agarwal) की अगुवाई वाले वेदांता ग्रुप (Vedanta Group) ने स्टील कंपनी Electrosteel Steels Limited को बेचने का फैसला किया है. इस कंपनी को ग्रुप ने 4 साल पहले खरीदा था. इकनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया कि ग्रुप अब अपने मुख्य कारोबार खनन व इंडस्ट्रियल बिजनेस पर फोकस करना चाहता है और बैलेंस शीट में उधार कम करना चाहता है. मार्च अंत तक वेदांता ग्रुप पर 11.7 अरब डॉलर का कर्ज था.

दूसरी तिमाही में शुद्ध लाभ 61 प्रतिशत घटा

चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर में वेदांता का एकीकृत शुद्ध लाभ 60.8 प्रतिशत गिरकर 1,808 करोड़ रुपये रह गया. पिछले वर्ष समान तिमाही में उसे 4,615 करोड़ रुपये का लाभ हुआ था. जुलाई से सितंबर 2022 के बीच कंपनी का खर्च बढ़कर 33,221 करोड़ रुपये हो गया, जो पिछले वर्ष की समान अवधि में 23,171 करोड़ रुपये था. दूसरी तिमाही में एकीकृत आय बढ़कर 37,351 करोड़ रुपये हो गई. एक वर्ष पहले की समान तिमाही में उसे 31,074 करोड़ रुपये की एकीकृत आय हुई थी.



Edited by Ritika Singh