कचरा मुक्त शहर 2.0 के लिए स्टार्टअप गेटवे; MoHUA से मिलेगी 20 लाख रुपये की फंडिंग

शहरी क्षेत्रों में अपशिष्ट प्रबंधन और स्वच्छता को बढ़ावा देने को MoHUA ने स्टार्टअप के दूसरे समूह के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं. कचरा मुक्त शहरों के लिए स्टार्टअप गेटवे के लिए आवेदन दाखिल करने की अंतिम तिथि 15 दिसंबर 2023 है.

कचरा मुक्त शहर 2.0 के लिए स्टार्टअप गेटवे; MoHUA से मिलेगी 20 लाख रुपये की फंडिंग

Wednesday December 06, 2023,

4 min Read

दुनिया में तीसरे स्थान पर मौजूद भारत अब 100 से अधिक यूनिकॉर्न कंपनियों का केंद्र है. टेक्नोलॉजी और इनोवेशन पर भारत के जोर ने देश भर के युवा उद्यमियों को चुनौतियों से निपटने और नए समाधान तैयार करने के लिए प्रेरित किया है. विशेष रूप से, ये स्टार्टअप केवल महानगरीय या प्रमुख शहरों तक ही सीमित नहीं हैं, बल्कि टियर-2 और टियर-3 शहरों में भी फलते-फूलते हैं.

आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय (MoHUA) ने स्टार्टअप्स के दूसरे समूह से आवेदन आमंत्रित करने के लिए 19 सितंबर 2023 को स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (SIIC) आईआईटी कानपुर के सहयोग से कचरा मुक्त शहरों के लिए स्टार्टअप गेटवे शुरू किया. यह सहयोग अपशिष्ट प्रबंधन की दक्षता में सुधार, सामाजिक प्रभाव को बढ़ाने, अपशिष्ट मूल्य श्रृंखला की पारदर्शिता में सुधार करके भारत की अपशिष्ट प्रबंधन चुनौतियों को हल करने के लिए टेक्नोलॉजी और सामाजिक इनोवेशंस के गठजोड़ पर काम करने वाले स्टार्टअप को सपोर्ट करेगा.

'स्वच्छ भारत मिशन-शहरी' की प्रमुख पहल के तहत भारतीय अपशिष्ट क्षेत्र से विकसित स्टार्टअप ईकोसिस्टम को बढ़ावा देने के लिए 2022 में 'स्वच्छता स्टार्टअप चैलेंज' शुरू किया गया था. मंत्रालय की इस पहल में 4 विषयगत क्षेत्रों (i) सामाजिक समावेशन (ii) जीरो डंप (ठोस अपशिष्ट प्रबंधन) (iii) प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन और (iv) पारदर्शिता (डिजिटल सक्षमता) के तहत 30 सर्वश्रेष्ठ विचारों को शॉर्टलिस्ट किया गया था. 20 लाख रुपये के अनुदान के अलावा, स्टार्टअप को आईआईटी कानपुर परिसर में अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे, अनुसंधान एवं विकास सुविधाओं और कार्यालय स्थान, विषय-विशिष्ट विशेषज्ञों के एक समूह के माध्यम से तकनीकी और व्यावसायिक सलाह तक पहुंच, व्यवसाय विकास तक पहुंच मिलेगी, जिसमें राज्य और शहरी स्थानीय निकाय (यूएलबी) के साथ जुड़ाव के माध्यम से समर्थन, नेटवर्किंग और निवेशक धन जुटाने समेत इसे आगे बढ़ाने और व्यापार में तेजी लाने के लिए जुड़ सकते हैं.

SIIC आईआईटी कानपुर इन स्टार्टअप्स को अपशिष्ट से धन क्षेत्र में स्वदेशी टेक्नोलॉजी के माध्यम से प्रभावशाली व्यवसाय बनाने में मदद कर रहा है. जुलाई 2023 में SIIC आईआईटी कानपुर ने वेस्ट टू वैल्यू स्टार्टअप्स के लिए एक बूटकैंप का आयोजन किया, जिसका लक्ष्य कचरा-मुक्त शहरों के लिए स्टार्टअप गेटवे कार्यक्रम के तहत फले-फूले असाधारण स्टार्टअप्स को सामने लाना था. यूएलबी के साथ जुड़ाव से लेकर धन जुटाने पर वेबिनार और कार्यशालाओं से लेकर बाजार साझेदारी तक, नेटवर्किंग कार्यक्रमों से लेकर विचार नेतृत्व और ईकोसिस्टम विकास गतिविधियों तक सर्वेक्षण के लिए क्षेत्र के दौरों तक, स्टार्ट-अप को एसआईआईसी आईआईटी कानपुर द्वारा 1 वर्ष की अवधि के भीतर मार्गदर्शन और विस्तार दिया गया है.

स्टार्टअप्स ने गेटवे के लॉन्च के बाद से महत्वपूर्ण प्रगति की है. जिसमें ईकोकारी, एक सामाजिक उद्यम जो सिंगल-यूज प्लास्टिक बैग को सुंदर और कार्यात्मक उत्पादों में बदलता है, उसने यूरोपीय बाजारों तक अपनी पहुंच का विस्तार किया है. विलग्रो ने सालटेक के लिए ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण (GNIDA) और तमिलनाडु सरकार के नगर निगम प्रशासन आयुक्तालय जैसे यूएलबी के साथ साझेदारी की सुविधा प्रदान की है. साल्टेक को दोनों राज्यों में प्लास्टिक रीसाइक्लिंग प्लांट स्थापित करने के लिए दोनों यूएलबी से गहरी दिलचस्पी हासिल हुई है. मिनीमाइन्स क्लीनटेक सॉल्यूशंस वर्तमान पायलट प्रक्रिया से उत्पन्न यौगिकों को ली-आयन बैटरी पर काम करने वाले शोधकर्ताओं के लिए विभिन्न सरकारी प्रयोगशालाओं (CSIR) और शैक्षणिक संस्थानों (IIT) को आपूर्ति की जाती है. साल्टेक ने अपने सैनिटरी कचरे को रीसाइक्लिंग करने और उससे बिल्डिंग ब्लॉक बनाने के लिए पैडकेयर के साथ साझेदारी की है. जलसेवक ने ग्रे वॉटर रीसाइक्लिंग के लिए सार्वजनिक शौचालय खंड में पायलट संचालन के लिए गर्व टॉयलेट्स के साथ साझेदारी की है.

कचरा मुक्त शहरों के लिए स्टार्टअप गेटवे के लिए आवेदन दाखिल करने की अंतिम तिथि 15 दिसंबर 2023 है. 75 तक स्केल करने के लिए, इसके दूसरे चरण में इस कार्यक्रम के माध्यम से स्टार्टअप के अगले सेट की पहचान की जाएगी. MoHUA से 20 लाख रुपये की फंडिंग सहायता के साथ, इन स्टार्ट-अप को व्यवसाय विकास सहायता और निवेशक संपर्क प्रदान किया जाएगा. एक वर्ष के लिए ऊष्मायन सहायता प्रदान की जाएगी.