बैटरी टेक स्टार्टअप e-TRNL Energy ने जुटाई 7.5 करोड़ रुपये की फंडिंग, एनर्जी टेक्नोलॉजी लाने में करेगी उपयोग

By yourstory हिन्दी
December 20, 2022, Updated on : Tue Dec 20 2022 10:03:59 GMT+0000
बैटरी टेक स्टार्टअप e-TRNL Energy ने जुटाई 7.5 करोड़ रुपये की फंडिंग, एनर्जी टेक्नोलॉजी लाने में करेगी उपयोग
इस फंडिंग राउंड का नेतृत्व एक डीप टेक वेंचर कैपिटल फर्म स्पेशल इंवेस्ट (Speciale Invest) ने किया. वहीं, अन्य इंवेस्टर्स में एक क्लीन मोबिलिटी फंड मिसेलियो मोबिलिटी (Micelio Mobility) और IIM अहमदाबाद में निर्मित नवाचार निरंतरता CIIE शामिल थे.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

बैटरी टेक स्टार्टअप e-TRNL Energy एनर्जी ने 7.5 करोड़ रुपये की की फंडिंग जुटाने की घोषणा की है. उसने बताया कि इस प्री-सीड राउंड की फंडिंग में कई इंवेस्टर्स ने निवेश किया. इस फंडिंग का उपयोग e-TRNL एनर्जी मार्केट में एनर्जी टेक्नोलॉजी लाने के लिए करेगी.


इस फंडिंग राउंड का नेतृत्व एक डीप टेक वेंचर कैपिटल फर्म स्पेशल इंवेस्ट (Speciale Invest) ने किया. वहीं, अन्य इंवेस्टर्स में एक क्लीन मोबिलिटी फंड मिसेलियो मोबिलिटी (Micelio Mobility) और IIM अहमदाबाद में निर्मित नवाचार निरंतरता CIIE शामिल थे.


e-TRNL एनर्जी इस निवेश का उपयोग अपने ग्राहकों को उत्पादों को वितरित करने के लिए समय-सीमा को कम करते हुए उत्पाद चक्र को तेज करने के लिए करना चाहती है. कंपनी ने एडवांस बैटरी तकनीक विकसित की है जो सुरक्षित है. विशेष रूप से भारतीय जलवायु में इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के कठोर परिस्थितियों का सामना करने के बावजूद यह फास्ट चार्जिंग और लागत दक्षता के साथ वैल्यू एड प्रदान करती है.


e-TRNL एनर्जी की स्थापना साल 2021 में आईआईटी से पढ़ाई करने वाले दो छात्रों ने की थी. अपूर्व शालीग्राम आईआईटी रुड़की और मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र हैं. वहीं, डॉ. उत्तम कुमार सेन आईआईटी बॉम्बे के पूर्व छात्र हैं और उनके पास हाई एनर्जी डेंसिटी बैटरीज की एक्सपर्टीज है. इस तरह e-TRNL एनर्जी के पास 27 सालों का रिसर्च अनुभव है. e-TRNL एनर्जी का मिशन 2030 तक भारत के 100 फीसदी इलेक्ट्रिक वाहनों के बड़े लक्ष्य को हासिल करने का समर्थन करता है.


e-TRNL एनर्जी एडवांस बैटरी केमिस्ट्री के लिए भारत के पहले ग्राउंड अप विकसित बैटरी सेल डिजाइन और विनिर्माण प्रौद्योगिकी प्लेटफॉर्म पर भी काम कर रही है.


Edited by Vishal Jaiswal