Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

क्यों एक मार्केटिंग एग्जिक्यूटिव और फाइनेंस प्रोफेशनल ने शुरू किया D2C क्लीन मेकअप ब्रांड

गुरुग्राम और पेरिस स्थित Belora Cosmetics एक D2C मेकअप ब्रांड है जो स्वच्छ, क्रूरता-मुक्त, शाकाहारी प्रोडक्ट्स पर केंद्रित है। इसकी शुरुआत 2019 में हुई। हालांकि महामारी के बीच यह ब्रांड अच्छा आकर्षण देख रहा है और जैसा कि मांग में वृद्धि हो रही है, यह और भी विकास की ओर अग्रसर है।

क्यों एक मार्केटिंग एग्जिक्यूटिव और फाइनेंस प्रोफेशनल ने शुरू किया D2C क्लीन मेकअप ब्रांड

Tuesday May 04, 2021 , 6 min Read

ऐनारा कौर और अकालज्योत कौर में एक बात समान थी: उन्होंने पांच साल पहले एक स्वच्छ और स्वस्थ जीवन शैली को अपनाया था। यूरोप में बैकपैकिंग ट्रिप के दौरान ऐनारा ने स्वच्छ और प्राकृतिक मेकअप के बारे में सीखा; दूसरी ओर, अकालज्योत को थायराइड और त्वचा की समस्याओं के कारण इस संभावित स्विच के बारे में पता चला।


हमेशा से ही एक प्रोडक्ट कंपनी को शुरू करने की उत्सुक इस जोड़ी ने उपलब्ध विकल्पों पर गौर किया और गुरुग्राम और पेरिस में 2019 में स्वच्छ सौंदर्य ब्रांड बेलोरा कॉस्मेटिक्स लॉन्च किया।


ऐनारा कहती हैं, "हम दो चीजों के बारे में स्पष्ट थे: पहला कि कंपनी को एक उपभोक्ता श्रेणी में होना चाहिए और दूसरा यह कि हम स्वास्थ्य के नजरिए से एक समस्या को हल करना चाहते थे। हमने जितना ज्यादा ब्यूटी पर रिसर्च किया, हमें एक ऐसे मेकअप ब्रांड के लिए खाली जगह दिखी जो क्लीन / नॉन टॉक्सिक फॉर्मुलेशन के साथ रहते हुए भी बेहतर परफॉर्म कर सके।"

ि

प्रोडक्ट का निर्माण

मेकअप उपभोक्ताओं के रूप में, खुद संस्थापक हाई इम्पैक्ट वाले मेकअप को पसंद करती हैं लेकिन विषाक्त पदार्थों यानी टॉक्सिन की उपस्थिति के कारण इसका उपयोग बहुत ही सीमित रूप से करती हैं।


वे कहती हैं, "वास्तव में, दुनिया भर में, टॉक्सिन को बिना किसी रोकटोक के मेकअप में इस्तेमाल किया जाता है। यही वो समस्या है जिसे हमने बेलोरा को लॉन्च करके हल करने का फैसला किया है। यह एक हाई क्वालिटी वाला मेकअप ब्रांड है जो हाई कलर पेऑफ और लंबे समय तक रहने की शक्ति प्रदान करने के लिए अच्छे स्किनकेयर फॉर्मूले का इस्तेमाल करता है।


ऐनारा ने पहले कैनावालिशियस (Canavalicious) की स्थापना की थी, जोकि एक क्रिएटिव टेक एजेंसी थी। इसके अलावा वह मिंत्रा जैसी कंपनी में सीनियर मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव भी रही हैं। दूसरी ओर, अकालज्योत अमेरिकन एक्सप्रेस और मेटलाइफ जैसी कंपनियों में महत्वपूर्ण पदों पर रही हैं। आज, अकालज्योत सेफ कॉस्मेटिक की चैंपियन होने के अलावा एक सर्टिफाइड फिटनेस ट्रेनर है।


ऐनारा बताती हैं कि उनका प्रोडक्ट एथोस यूरोपीय संघ के दिशानिर्देशों पर आधारित है। वह बताती हैं कि वहां ऐसे 1,500 के करीब इनग्रेडिएंट्स का इस्तेमाल नहीं करते हैं जिन्हें उपयोग के लिए सुरक्षित नहीं माना जाता है।


वे कहती हैं, “हम भी उसी को ही फॉलो करते हैं और हमारे पास तो 500 अन्य इनग्रेडिएंट्स की एक लिस्ट है जिनका हम कभी इस्तेमाल नहीं करने का वादा करते हैं - हम इसे बीएस या बैड स्टफ लिस्ट कहते हैं। यहां तक कि हम MADE SAFE™ सर्टिफिकेट प्राप्त करने वाले यूरोप और एशिया में पहला मेकअप ब्रांड हैं, जिसका शाब्दिक अर्थ है कि हमारे प्रोडक्ट को सेफ इनग्रेडिएंट्स के साथ बनाया गया है इसके बारे में ईमानदारी से खुलासा किया गया है।”

नॉन टॉक्सिक फॉर्मुलेशन के लिए R&D

बेलोरा कॉस्मेटिक्स लिपस्टिक, आई मेकअप और फेस मेकअप ऑफर करता है। ऐनारा का कहना है कि प्रोडक्ट को डेवलप करने और लॉन्च करने के लिए करीब 10 लोगों की एक टीम को डेढ़ साल लगे, क्योंकि वे बड़े पैमाने पर प्रीमियम श्रेणी में हाई परफॉर्मेंस और नॉन टॉक्सिक फॉर्मुलेशन का संयोजन चाहते थे, जो आसानी से उपलब्ध नहीं था।


वे कहती हैं, "इसलिए, हमने आर एंड डी में निवेश किया और ऐसा करना जारी रखा। हमने इस समय का इस्तेमाल इस बात को भी गहराई से समझने के लिए किया कि उपभोक्ता आखिर चाहता क्या है और क्या वर्तमान में उनकी जरूरतें पूरी नहीं हो रही हैं। उपभोक्ता की जरूरत और एक मजबूत आरएंडडी आधार को गहराई से समझने के संयोजन ने हमें सभी सब-कैटेगरीज में तेजी से लॉन्च करने का मौका दिया।"


प्रोडक्ट्स को वर्तमान में यूरोप के विभिन्न हिस्सों से सोर्स करके मैन्युफैक्चर किया जाता है। टीम ने थर्ड-पार्टी मैन्युफैक्चरर और डिस्ट्रीब्यूटर्स के साथ समझौता किया है। इनकी कीमत 299 रुपये से 1,599 रुपये तक है, और औसत ऑर्डर प्राइस 500 रुपये से 800 रुपये के बीच है। कॉस्मेटिक्स उनकी वेबसाइट और अन्य ईकामर्स प्लेटफार्मों पर उपलब्ध हैं।


ऐनारा कहती हैं, "हम पहले ही देख रहे हैं कि लोग हमारे प्रोडक्ट्स को दोबारा खरीद रहे हैं। हमें यह फीडबैक मिल रहा है कि महिलाएं हमारे लीव नो एविडेंस लिक्विड लिपस्टिक और नेचुरल फेस कलेक्शन को काफी पसंद कर रही हैं। यह इसलिए संभव हो पाया है क्योंकि हमने सभी हानिकारक केमिकल्स को हटा दिया है, और प्राकृतिक तेलों और विटामिनों को जोड़ा है। यह हमारे विश्वास को और पुख्ता करता है कि भले ही एक ऐसे फॉर्मुलेशन को क्रैक करना मुश्किल हो जो हाई इम्पैक्ट होने के बावजूद टॉक्सिन फ्री हों, लेकिन यह बिल्कुल इसके लायक है।"


महामारी जिसने शुरू में ट्रांसपोर्ट और सप्लाई चैन में समस्याएं पैदा कीं अब इसके कारण यूजर बेस में वृद्धि हुई। संस्थापकों का कहना है कि क्रूरता-मुक्त उत्पादों को खरीदने के इच्छुक लोगों की संख्या बढ़ रही है।

बाजार और भविष्य

रिसर्च एंड मार्केट्स के अनुसार, ग्लोबल वीगन कॉस्मेटिक्स मार्केट साइज यानी वैश्विक शाकाहारी सौंदर्य प्रसाधन बाजार का आकार 2025 तक 20.8 बिलियन डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है, जो कि पूर्वानुमान अवधि के दौरान 6.3 प्रतिशत के सीएजीआर पर प्रगति कर रहा है।


कई स्टार्टअप हैं जो ऐसे सेगमेंट की ओर देख रहे हैं जिसमें जानवरों को नुकसान न पहुंचाया जाए यानी जो क्रूरता-मुक्त हों। जिनमें डिस्गाइज़, रूबी कॉस्मेटिक्स और माय ग्लैम शामिल हैं।


हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू का कहना है कि महिलाओं के प्रोडक्ट्स के लिए सेगमेंट तेजी से बढ़ रहा है, जिससे वैश्विक रूप से महिलाएं वार्षिक उपभोक्ता खर्च में लगभग 20 ट्रिलियन डॉलर का नियंत्रण करती हैं, और यह आंकड़ा अगले पांच वर्षों में 28 ट्रिलियन डॉलर के उच्च स्तर तक चढ़ सकता है।


ऐनारा कहती हैं, "जो चीज हमें अलग करती है, वह दोनों मापदंडों पर हमारा गहरा ध्यान है जो मेकअप की खरीद पर प्रभाव डालता है: हाई परफॉर्मेंस और आपकी त्वचा के लिए स्वच्छ / अच्छे इनग्रेडिएंट्स। आइडिया यह है कि प्रोडक्ट आपके चेहरे पर अच्छा दिखें और आपकी त्वचा को बेहतर बनाने पर काम करें।"


ऐनारा का कहना है कि भविष्य में बेलोरा कॉस्मेटिक्स अधिक प्रोडक्ट्स को लॉन्च करने और नए बाजारों में विस्तार करने की योजना बना रहा है, “हालांकि हमने भारत से शुरुआत की है, जोकि हमेशा एक महत्वपूर्ण फोकस बना रहेगा। हमें लगता है कि स्वास्थ्यवर्धक और हेल्थ के लिए अच्छे प्रोडक्ट्स की गहरी आवश्यकता है और महामारी के बाद यह और भी बढ़ गई है।”