‘सामाजिक प्रगति’ के मामले में बिहार और झारखंड सबसे खराब राज्य, पुदुचेरी, लक्षद्वीप और गोवा बेस्ट

By yourstory हिन्दी
December 21, 2022, Updated on : Wed Dec 21 2022 12:22:02 GMT+0000
‘सामाजिक प्रगति’ के मामले में बिहार और झारखंड सबसे खराब राज्य, पुदुचेरी, लक्षद्वीप और गोवा बेस्ट
व्यक्तिगत स्वतंत्रता और पसंद, आश्रय, और पानी और स्वच्छता जैसे घटकों में उल्लेखनीय प्रदर्शन के लिए पुदुचेरी का उच्चतम स्कोर 65.99 था. लक्षद्वीप और गोवा क्रमशः 65.89 और 65.53 के स्कोर के साथ दूसरे स्थान पर रहे.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

पुदुचेरी, लक्षद्वीप और गोवा सामाजिक प्रगति सूचकांक (एसपीआई) में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्य रहे हैं. प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (ईएसी-पीएम) ने यह रिपोर्ट तैयार करवाई है. ईएसी-पीएम के चेयरमैन विवेक देवरॉय ने मंगलवार को यह रिपोर्ट जारी की.


रिपोर्ट के अनुसार, व्यक्तिगत स्वतंत्रता और पसंद, आश्रय, और पानी और स्वच्छता जैसे घटकों में उल्लेखनीय प्रदर्शन के लिए पुदुचेरी का उच्चतम स्कोर 65.99 था. लक्षद्वीप और गोवा क्रमशः 65.89 और 65.53 के स्कोर के साथ दूसरे स्थान पर रहे. रिपोर्ट के अनुसार, झारखंड और बिहार क्रमश: 43.95 और 44.47 के स्कोर के साथ सबसे नीचे रहे.


इस रिपोर्ट के अनुसार, आइजोल (मिजोरम), सोलन (हिमाचल प्रदेश) और शिमला (हिमाचल प्रदेश) सामाजिक प्रगति के मामले में तीन सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले जिले रहे हैं.


यह रिपोर्ट प्रतिस्पर्धा संस्थान और अमेरिका के गैर-लाभकारी संगठन 'सोशल प्रोग्रेस इम्पेरेटिव' ने तैयार की है. इसके लिए एसपीआई को आधार बनाया गया है जो देश में राष्ट्रीय और उप-राष्ट्रीय स्तर पर देश की सामाजिक प्रगति को मापने का पैमाना है.


आधिकारिक बयान के अनुसार, दीर्घावधि में सतत आर्थिक वृद्धि के लिए सामाजिक प्रगति जरूरी है. यह सूचकांक आर्थिक वृद्धि और विकास के परंपरागत उपायों का पूरक है.


एसपीआई में सामाजिक प्रगति के तीन क्षेत्रों...बुनियादी मानवीय जरूरतों, बेहतर जीवनशैली के आधार और अवसरों के लिहाज से राज्यों के प्रदर्शन को आंका जाता है. मानवीय जरूरतों के मामले में किसी राज्य या जिले में पोषण और स्वास्थ्य देखभाल, जल और स्वच्छता, व्यक्तिगत सुरक्षा और रहने की स्थिति का आकलन किया जाता है.


वहीं रहन-सहन या जीवनस्तर के मामले में मूल ज्ञान, सूचना तक पहुंच, संचार, स्वास्थ्य और देखभाल और पर्यावरण की गुणवत्ता को देखा जाता है. इसके अलावा अवसरों के मामले में व्यक्तिगत अधिकार, निजी आजादी और चयन, समावेशन और आधुनिक शिक्षा तक पहुंच की स्थिति को आंका जाता है.


मिजोरम, हिमाचल प्रदेश, लद्दाख और गोवा फाउंडेशन ऑफ वेलबीइंग के लिए सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्यों के रूप में उभरे.

एक्सेस टू बेसिक नॉलेज कंपोनेंट के लिए आयाम के भीतर, पंजाब का 62.92 का उच्चतम स्कोर था, जबकि दिल्ली 71.30 के स्कोर के साथ सूचना और संचार तक पहुंच की सूची में सबसे ऊपर था.


स्वास्थ्य और कल्याण के लिए, राजस्थान का उच्चतम घटक स्कोर 73.74 था. पर्यावरणीय गुणवत्ता के लिए, शीर्ष तीन राज्य मिजोरम, नागालैंड और मेघालय पूर्वोत्तर के हैं.


अवसर आयाम के लिए तमिलनाडु ने 72.00 का उच्चतम घटक स्कोर हासिल किया. इस आयाम के भीतर, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में व्यक्तिगत अधिकारों के लिए उच्चतम घटक स्कोर है, जबकि सिक्किम समावेशिता के लिए सूची में सबसे ऊपर है. पुदुचेरी को इस आयाम में दो घटकों, यानी व्यक्तिगत स्वतंत्रता और पसंद और उन्नत शिक्षा तक पहुंच में उच्चतम स्कोर प्राप्त करना सराहनीय है.


Edited by Vishal Jaiswal