सरकारी स्कूलों को क्वारंटाइन फ़ैसिलिटी में बदल रही है बिहार सरकार, कोरोना मामलों को रोकने के लिए उठाया गया है बड़ा कदम

By yourstory हिन्दी
April 01, 2020, Updated on : Wed Apr 01 2020 12:31:30 GMT+0000
सरकारी स्कूलों को क्वारंटाइन फ़ैसिलिटी में बदल रही है बिहार सरकार, कोरोना मामलों को रोकने के लिए उठाया गया है बड़ा कदम
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

राज्य और देश में कोरोनोवायरस मामलों की बढ़ती संख्या से निपटने के लिए बिहार सरकार ने सभी जिला मजिस्ट्रेटों को सरकारी स्कूलों को क्वारंटाइन फ़ैसिलिटी में बदलने का निर्देश दिया है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ COVID-19 पर चर्चा के लिए कोर बैठक

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ COVID-19 पर चर्चा के लिए कोर बैठक (चित्र: हिंदुस्तान टाइम्स)



पिछले कुछ दिनों में बिहार सरकार ने सभी जिला मजिस्ट्रेटों को सरकारी स्कूलों को क्वारंटाइन फ़ैसिलिटी में बदलने का निर्देश दिया है। यह कदम राज्य और देश में कोरोनोवायरस मामलों की बढ़ती संख्या से निपटने के लिए उठाया गया था।


जब अन्य राज्यों से आए लोग अपने गांवों में जाने में असमर्थ हुए, तो स्कूलों को क्वारंटाइन फ़ैसिलिटी में बदलने का निर्णय लिया गया। गौरतलब है कि बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के 16 मामलों की पुष्टि हो चुकी है।


रिपब्लिक वर्ल्ड से बात करते हुए बिहार के गृह सचिव आमिर सुभानी ने कहा,

"लोगों को स्वस्थ भारत के लिए घर रहना चाहिए। फिलहाल हमें सामुदायिक स्तर पर COVID-19 के प्रसार को रोकना चाहिए। देश के विभिन्न हिस्सों से आने वाले ग्रामीणों को इन स्कूलों में रहना चाहिए।"

इसके परिणामस्वरूप 101 पंचायतों के स्कूलों को क्वारंटाइन सुविधाओं में बदल दिया गया है। प्रत्येक पंचायत में दो स्कूलों को परिवर्तित किया गया है, जिसमें कुल 202 फ़ैसिलिटी शामिल हैं। इसका उद्देश्य इस मामले में संदिग्ध रोगियों को सुरक्षित रूप से समायोजित करना है।


एडेक्स लाइव के अनुसार सिविल सर्जन डॉ. पुरुषोत्तम कुमार ने कहा,

"सरकार जिले में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए सामाजिक रूप से दूर करने और अलगाव के उपायों को प्रभावी ढंग से लागू कर रही है।"

बिहार के लोग स्थानीय रूप से डॉक्टरों, चिकित्सा अधिकारियों और जिला स्वास्थ्य अधिकारियों से कोरोनोवायरस के बारे में चिकित्सा जानकारी ले सकते हैं। जिला प्रशासन ने इस उद्देश्य के लिए, हंटिंग लाइन, वायरस संदिग्धों को खोजने के लिए एक उपकरण विकसित किया गया है, साथ ही साथ स्वास्थ्य संबंधी जानकारी और सलाह भी प्रदान की जा रही है। हंटिंग लाइन के कार्यान्वयन के साथ कोई भी 06344-228442 डायल कर सकता है।


सर्जन ने यह भी बताया कि 25 मार्च तक संदिग्ध COVID-19 रोगियों के बारे में 80 से अधिक जानकारी 48 घंटे के भीतर हंटिंग लाइन के माध्यम से बताई गई है। टीम सत्यापन के लिए रक्त के नमूने एकत्र करने की भी व्यवस्था कर रही है।