कहानी अनमोल फीड्स की : 5 लाख रुपये उधार लेकर शुरू किया था बिजनेस, अब कमा रहे 470 करोड़ रुपये का राजस्व

कोलकाता स्थित Anmol Feeds की शुरुआत वर्ष 2000 में अमित सरावगी ने की थी। कंपनी भारत के 20 राज्यों में मुख्य रूप से झींगा, मछली, मवेशी और मुर्गी पालन के लिए विभिन्न प्रकार के फ़ीड बनाती और बेचती है।

Bhavya Kaushal

रविकांत पारीक

कहानी अनमोल फीड्स की : 5 लाख रुपये उधार लेकर शुरू किया था बिजनेस, अब कमा रहे 470 करोड़ रुपये का राजस्व

Monday June 28, 2021,

5 min Read

"अक्सर यह कहा जाता है कि व्यापार में सबसे अच्छी वृद्धि की कहानी डिजिटलीकरण को अपनाने से है। अनमोल फीड्स अलग नहीं है। इंजीनियर होने के नाते अमित टेक्नोलॉजी के महत्व को समझते थे। वह याद करते हैं कि बंगलौर से बिहार लौटने पर, उन्होंने ऐसे वातावरण में काम करना चुनौतीपूर्ण पाया जहां टेक्नोलॉजी तक पहुंच सीमित थी।"

f

बिहार के रहने वाले अमित सरावगी 1994 और 1998 के बीच रमैया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, बैंगलोर से इंजीनियरिंग कर रहे थे। वह अक्सर अपनी गर्मी की छुट्टियों के दौरान बिहार में अपने परिवार के सदस्यों और विशेष रूप से रामनगर में अपने चाचा से मिलने जाते थे।


उनके चाचा किराने की दुकान चलाने के अलावा पोल्ट्री फीड भी बेचते थे। अपने खाली समय में अपने चाचा की सहायता करते हुए, अमित ने महसूस किया कि पशुओं के चारे की मांग और आपूर्ति में असंतुलन था। अमित कहते हैं, "उत्पाद कम आपूर्ति में था, और उस समय, बिहार में इसका उत्पादन करने वाली कई कंपनियां नहीं थीं।"


स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद, अमित बिहार में वापस आ गये, और पशुओं के चारे की मांग और आपूर्ति के अंतर को पाटने के लिए विचारों पर काम करना शुरू कर दिया। उन्होंने जल्द ही अपने विचार पर काम करने के लिए एक फैक्ट्री की जगह किराए पर ली। मुजफ्फरपुर में अपने संयंत्र से बाहर काम करते हुए और अपने पिता से 5 लाख रुपये उधार लेकर, अमित ने वर्ष 2000 में अपनी आंत्रप्रेन्योरशिप की यात्रा शुरू की।


अपने शुरुआती दिनों में, अमित ने जमीनी स्तर पर काम करने में संकोच नहीं किया, यहां तक ​​​​कि परीक्षण और त्रुटि विधियों का उपयोग करके ब्रॉयलर फ़ीड बनाना भी सीखा। क्षेत्र में उनकी विशेषज्ञता को देखते हुए, उन्हें अक्सर अपने चाचा से फ़ीड की गुणवत्ता पर विशेषज्ञ सुझाव मिलते थे। इस तरह Anmol Feeds Pvt. Ltd. अस्तित्व में आया। आज, कंपनी मुख्य रूप से झींगा, मछली, मवेशी और मुर्गी पालन के लिए विभिन्न प्रकार के पशु आहार बनाती और बेचती है।

टेक्नोलॉजी का मिला लाभ

अक्सर यह कहा जाता है कि व्यापार में सबसे अच्छी वृद्धि की कहानी डिजिटलीकरण को अपनाने से है। अनमोल फीड्स अलग नहीं है। इंजीनियर होने के नाते अमित टेक्नोलॉजी के महत्व को समझते थे। वह याद करते हैं कि बंगलौर से बिहार लौटने पर, उन्होंने ऐसे वातावरण में काम करना चुनौतीपूर्ण पाया जहां टेक्नोलॉजी तक पहुंच सीमित थी।


इसके अतिरिक्त, उन्हें अन्य चुनौतियों का सामना करना पड़ा और उन्हें दूर करना पड़ा, जैसे कुशल जनशक्ति में गंभीर कमी, कानून और व्यवस्था के मुद्दे और लालफीताशाही। हालांकि, सबसे बड़ी चुनौती गंभीर बाधाओं का सामना करते हुए आगे बढ़ते रहना था।


अमित ने हिम्मत नहीं हारी और यहां तक ​​कि अपना कारोबार बढ़ाने के लिए आधुनिक तरीकों को अपनाया, सबसे पहले तो कारोबार को बढ़ाने के लिए तकनीक का इस्तेमाल किया। उन्होंने साझा किया कि अनमोल फीड्स ने अनाज और उनके प्रोटीन और ऊर्जा सामग्री के विश्लेषण के लिए इस्तेमाल की जाने वाली NIR मशीनों जैसी परिष्कृत मशीनरी स्थापित की। उन्होंने उत्पादकता और दक्षता बढ़ाने के लिए SAP और ERP सिस्टम भी लागू किए।


कंपनी ने लॉजिस्टिक्स के लिए Software as a Service (SaaS) प्लेटफॉर्म के रूप में एक इन-हाउस सॉफ्टवेयर भी डेवलप किया है जो डिलीवरी ट्रकों की एंड-टू-एंड ट्रैकिंग में मदद करता है।


अमित कहते हैं, “हमारे देश की लॉजिस्टिक्स लागत 14 प्रतिशत है; दुनिया के अन्य देशों में, लागत लगभग 8 प्रतिशत है। हम दुनिया की तुलना में 6 प्रतिशत अधिक अक्षम हैं।”


उनका कहना है कि ‘e-Parivahan’ नाम के इस SaaS प्लेटफॉर्म ने लॉजिस्टिक्स की लागत को कम करने में मदद की है, लेकिन अभी एक लंबा रास्ता तय करना है। कंपनी ने अंततः 2004 में कोलकाता में अपना कॉर्पोरेट ऑफिस स्थापित किया, और उसके बाद के वर्षों में उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखंड, हरियाणा और जम्मू और कश्मीर में अपनी छह मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट्स लगाईं।


अनमोल फीड्स ने 2014 में Nutri Choice ब्रांड नाम के तहत प्रोडक्ट्स की एक नई रेंज भी लॉन्च की। प्रोडक्ट्स की इस कैटेगरी के बारे में विशेष बताते हुए, अमित कहते हैं, "हम Nutri Choice के तहत बेहतर फ़ीड रूपांतरण अनुपात (FCR) के साथ प्रीमियम प्रोटीन पोल्ट्री फीड का निर्माण और बिक्री करते हैं।" यह भारत के 20 राज्यों में बिकता है।


बाहरी फंडिंग के संदर्भ में, अमित बहुत अधिक विवरण नहीं बताते हैं, लेकिन यह कहते हैं कि कंपनी ने बीच-बीच में टर्म लोन भी लिया। वर्तमान में, कंपनी कर्ज मुक्त है, और पिछले कुछ वर्षों में लगातार बढ़ी है।


YourStory द्वारा एक्सेस किए गए कंपनी के वित्तीय आंकड़ों के अनुसार, कंपनी ने वित्त वर्ष 2020 में 470 करोड़ रुपये कमाए। अनमोल फीड्स एक बड़े समूह, Nouriture Group का हिस्सा है, जिसमें Saraogi Agroware और Herbal Industries भी शामिल हैं। उनके अनुसार, कुल मिलाकर, समूह का कारोबार 600 करोड़ रुपये है।

f

गेम चेंजर साबित हुई कोविड-19 महामारी

बहुत सारे उद्योगों की तरह, साल 2020 में कोरोनावायरस महामारी एक गेम चेंजर साबित हुई है। अमित कहते हैं, "हमने डिजिटल के मूल्य और इस तथ्य को महसूस किया है कि हमें सर्वाइव करने और आगे बढ़ने के लिए टेक्नोलॉजी में निवेश करना होगा।"


एक और प्रवृत्ति जो महामारी से मजबूती से उभरी है, वह है स्थानीय अर्थव्यवस्थाओं का उदय, विशेष रूप से टियर II और III शहरों का। अमित कहते हैं कि वह इस प्रवृत्ति के बारे में आशावादी हैं क्योंकि "स्थान अब महत्वपूर्ण नहीं है"


आंत्रप्रेन्योर के अनुसार, छोटे शहर महानगरीय शहरों के बराबर हैं और उनमें समान सुविधाएं हो सकती हैं। "मैंने पिछले दो महीनों में अपने ऑफिस का दौरा नहीं किया है, लेकिन कोई व्यवधान नहीं है।"


आगे बढ़ते हुए, कंपनी आने वाले कुछ वर्षों में एक "टेक्नोलॉजी कंपनी" बनने पर ध्यान केंद्रित करने की योजना बना रही है। अमित का कहना है कि वह और उनकी टीम 2019 में लॉन्च की गई कंपनी की वेबसाइट को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं ताकि ग्राहक ऑनलाइन सामान एक्सेस कर सकें। भविष्य की योजनाओं में बिहार और पश्चिम बंगाल में एक्वा प्रो की मौजूदा लाइन का विस्तार करने के लिए कारखाने खोलना शामिल है।


Edited by Ranjana Tripathi