कैसे किसान के दो बेटों ने खड़ा किया सीड-टू-शेल्फ ऑर्गेनिक प्रोडक्ट D2C ब्रांड, 12 करोड़ रुपये का है कारोबार

By Bhavya Kaushal
June 20, 2021, Updated on : Wed Jun 23 2021 05:34:48 GMT+0000
कैसे किसान के दो बेटों ने खड़ा किया सीड-टू-शेल्फ ऑर्गेनिक प्रोडक्ट D2C ब्रांड, 12 करोड़ रुपये का है कारोबार
टू ब्रदर्स ऑर्गेनिक फार्म्स की शुरुआत अजिंक्य और सत्यजीत हंगे ने की थी, जिन्होंने ज्यादा सैलरी वाली जॉब हासिल करने के बावजूद, अपनी कृषि जड़ों से आकर्षित महसूस किया। आज, कंपनी दुनिया भर के 680 शहरों में प्रोडक्ट बेच रही है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

जड़ों की ओर लौटना और जमीन से शुरुआत करना हर किसी के बस की बात नहीं होती। हालांकि, लगभग एक दशक तक कॉरपोरेट्स के लिए काम करने के बाद, दो भाइयों - सत्यजीत और अजिंक्य हांगे - ने कृषि क्षेत्र में अपनी असली रुचि पाई।


सत्यजीत ने YourStory को बताया, “मैं Citibank के साथ काम कर रहा था और अजिंक्य HSBC के साथ काम कर रहा था। हमने कुछ कॉरपोरेट्स के साथ काम किया था और बाद में, हमें एहसास हुआ कि हम ऐसा नहीं करना चाहते थे।”

 

सत्यजीत आगे कहते हैं कि उनके पिता नहीं चाहते थे कि वे खेती करें क्योंकि यह "टिकाऊ, आर्थिक और सामाजिक रूप से स्वीकार्य नहीं" रहा गया था। सत्यजीत का कहना है कि मुंबई, गुड़गांव और पुणे जैसे शहरों में रहने के बावजूद वे और उनके भाई अपनी जड़ों से जुड़े हुए थे।


2013 से थोड़ा पहले, भाइयों ने अपनी ज्यादा सैलरी वाली जॉब छोड़ दी और अपने पैतृक गांव में शिफ्ट हो गए। उन्होंने जैविक खेती का पता लगाने का फैसला किया और खेती के लिए अपने जुनून को अपने द्वारा विकसित व्यावसायिक कौशल के साथ मिलाया।


अपने पिता और पूर्वजों से विरासत में मिली भूमि और अपनी व्यक्तिगत बचत का उपयोग करके, उन्होंने 2014 में Two Brothers Organic Farms (TBOF) को सीड-टू-शेल्फ ऑर्गेनिक प्रोडक्ट कंपनी के रूप में शुरू किया। विभिन्न फसलों को उगाने के लिए स्थायी खेती के तरीकों का उपयोग करते हुए, उन्होंने वित्त वर्ष 2021 में 12 करोड़ रुपये का कारोबार किया


वह कहते हैं, "हमने खेतों पर अपने स्वयं के प्रयोग करने का फैसला किया जिसमें पॉली-क्रॉपिंग, प्राकृतिक खाद और उर्वरकों का उपयोग आदि जैसे तरीके शामिल थे।"


धीरे-धीरे, वे मॉल और किसानों के बाजारों में बेचने लगे। चार साल की लगातार कड़ी मेहनत के बाद, भाइयों ने घी, गुड़, मोरिंगा पाउडर, आटा, हल्दी, आदि जैसे उत्पादों का निर्माण और बिक्री भी शुरू कर दी।

ि

एक वैश्विक D2C ब्रांड का निर्माण

आज, भाई पूरे भारत में बेच रहे हैं और यहां तक कि लगभग 45 देशों में निर्यात भी कर रहे हैं। टीबीओएफ के शीर्ष अंतरराष्ट्रीय बाजारों में अमेरिका, न्यूजीलैंड, सिंगापुर, मध्य पूर्व और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं।


कुल मिलाकर, यह अपने उत्पादों को 680 से अधिक शहरों में बेच रहा है।


शुरुआत में, ब्रांड ने खुद को Shopify पर लॉन्च किया था लेकिन आज, यह अपनी वेबसाइट और Amazon और Flipkart जैसे ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म के माध्यम से बेचता है। सत्यजीत का कहना है कि ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर बेचने वालों की तुलना में उनकी वेबसाइट को अपने उत्पादों के लिए दोगुना अधिक कर्षण मिलता है, और वे ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म पर ज्यादा समय नहीं बिताते हैं क्योंकि वे अभी भी "बिचौलियों से डरते हैं"


सत्यजीत कहते हैं, "अभी भी ऐसे ग्राहक हैं जो अमेजॉन से खरीदना पसंद करते हैं, इसलिए, हमने खुद को उनके लिए उपलब्ध कराया है।"

कंपनी सोशल मीडिया पर फोकस करके कर्षण हासिल करने में सफल रही है। वह कहते हैं, "सोशल मीडिया रुचि पैदा करने और आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक लाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।"

सोशल मीडिया पर, टू ब्रदर्स ऑर्गेनिक फार्म ब्लॉग लिखता है, अपनी गतिविधियों के वीडियो शेयर करता है, विभिन्न प्रकार के पोस्ट आदि डालता है। ब्रांड ने पुणे में स्कूलों के साथ मिलकर 'ऑर्गेनिक फार्मिंग क्लब' शुरू किया है और लगभग 9,000 किसानों को विभिन्न जैविक खेती तकनीकों के साथ प्रशिक्षण देकर प्रभावित करने का दावा किया है।

प्रतिस्पर्धा और ब्रांड की यूएसपी

IMARC समूह के अनुसार, भारतीय जैविक खाद्य बाजार 2021-2026 के दौरान 24 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ने की उम्मीद है। इसके अलावा, भारत में कई जैविक खाद्य ब्रांड हैं जैसे कि ऑर्गेनिक इंडिया, ऑर्गेनिक तत्व, डाबर, पतंजलि, प्रो नेचर ऑर्गेनिक फूड्स आदि।

लेकिन जब प्रतिस्पर्धा की बात आती है तो सत्यजीत बेफिक्र रहते हैं। वह कहते हैं, ''बाजार में ज्यादातर अन्य ब्रांड केवल एग्रीगेटर हैं। ऐसा कोई एक ब्रांड नहीं है जिसका स्वामित्व किसान के पास हो या जो खेती के बारे में विवरण जानता हो।"

सत्यजीत और अजिंक्य का कहना है कि वे कृषि को देखते हुए बड़े हुए हैं और इस क्षेत्र की नब्ज को अपने किसी भी प्रतियोगी से बेहतर समझते हैं।

टेक्नोलॉजी के साथ आगे बढ़ना

आगे बढ़ते हुए, सत्यजीत कहते हैं कि वे कृषि क्षेत्र में एक पूर्ण क्रांति लाने के लिए टेक्नोलॉजी का लाभ उठाने की योजना बना रहे हैं, जिसमें इनोवेशन और टेक्नोलॉजिकल अपग्रेडेशन की आवश्यकता है।


कंपनी एक ऐसा मौसम स्टेशन विकसित करने पर भी काम कर रही है जिसे खेतों में लगाया जा सके। इस स्टेशन में एक सिम कार्ड होगा जो नमी, हवा की गति, कीटों के हमलों आदि की निगरानी करेगा और ये सभी सूचनाएं टीओबीएफ टीम के सदस्यों के मोबाइल फोन पर आ जाएंगी।


कंपनी स्मार्ट, इंटेलीजेंट और डेटा-संचालित व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए अपने दिन-प्रतिदिन के कार्यों में ईआरपी सिस्टम पेश करने की भी योजना बना रही है।


इसके अलावा, सत्यजीत और अजिंक्य युवाओं के बीच इस धारणा को तोड़ने के लिए दृढ़ हैं कि खेती में करियर आकर्षक नहीं है। वे न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होने का भी सपना देखते हैं।

वह कहते हैं, "अगर इतनी सारी आईटी कंपनियां सूचीबद्ध हो सकती हैं, तो किसान की कंपनी क्यों नहीं?"

Edited by रविकांत पारीक