गुदड़ी का लाल बना एक पल में करोड़पति, फैक्ट्री मजदूर के बेटे को मुंबई इंडियंस ने 3.20 करोड़ में खरीदा.

By Rimpi kumari
February 07, 2016, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:18:13 GMT+0000
गुदड़ी का लाल बना एक पल में करोड़पति, फैक्ट्री मजदूर के बेटे को मुंबई इंडियंस ने 3.20 करोड़ में खरीदा.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

फैक्ट्री में मजदूरी करनेवाले के बेटे को मिला मुंबई इंडियंस की टीम से तीन करोड़ 20 लाख . चार साल पहले हीं ब्याज पर कर्ज लेकर क्रिकेट खेलना शुरु किया था.

image


जयपुर के गरीब परिवार के बेटे और तेज गेंदबाज नाथू सिंह के मुंबई इंडियंस टीम में तीन करोड़ 20 लाख में खरीदे जाने पर उनके घर में खुशियों का माहौल है. एक फैक्ट्री में दिन रात मजदूरी कर बेटे को इस मुकाम पर पहुंचानेवाले मां-बाप को विश्वास नही हो रहा है कि बेटे को इतनी रकम मिली है. क्रिकेट के किट तक के लिए मोहताज रहने नाथू सिंह को अबतक यकीन नही हो रहा है कि मुंबई इंडियन ने इन्हें इतनी रकम दी है. नाथू सिंह इस रकम से घर की मरम्मत करवाना चाहते हैं.परिवार का तो बस यही सपना है कि बेटा अब इंडियन टीम में शामिल हो जाए.

image


image


चार साल पहले पिता भरत सिंह ने एक व्यपारी से दो रुपए सैंकड़ा के ब्याज दर से 10 हजार रुपए कर्ज लाकर क्रिकेट की कोचिंग के लिए सुराणा क्रिकेट अकादमी में नाथू सिंह का एडमिशन करवाया था. पिता तैयार नही थे फैक्ट्री में ओवरटाईम कर 12 से लेकर 16 घंटे तक काम कर परिवार पालते थे. लेकिन आज जयपुर के बाहरी इलाके में शहर से करीब 15 कि.मी. दूर भरत सिंह के दो कमरे के एक छोटे साॉे मकान में बेटे नाथू सिंह को बधाई देनेवालों का तांता लगा हुआ है. बेटे ने पिता और परिवार का नाम रौशन किया है. आईपीएल में मुंबई इंडियंस ने तेज गेंदबाज नाथू सिंह को तीन करोड़ बीस लाख में इस सीजन के लिए खरीदा है. 140 से 142 किं.मी. की स्पीड से गेंद फेंकनेवाले नाथू पिछले साल से लगातार देवधर और रणजी ट्राफी में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. लेकिन जब आईपीएल की निलामी हो रही थी तो टेंशन की वजह से दोस्त के यहां बैठे थे. जैसे हीं दस लाख में निलामी में नाम आया नाथू सिं दोस्तों के साथ मस्ती में झूमने लगे. उन्हें तो शाम तक पता चला कि निलामी उंची चढाई चढते हुए मुंबई इंडियंस की टीम में तीन करोड़ 20 लाख तक पहुंच गए. दोस्तों ने बताया तो नाथू सिंह को यकीन तक नही हुआ. नाथू सिंह कहते हैं कि खिलाड़ियों के आक्शन के समय में इतना नर्वस था कि दिन भर एक दोस्त के घर में बंद रहा. कुल 351 खिलाड़ी थे आक्शन में लेकिन जब रायल चैलेंजर बेंगलूर ने दस लाख में मुझे खरीदने के लिए बोली लगाई तो खुशी का ठिकाना नही रहा. मुझे तो तीन करोड़ 20 लाख याद हीं नही है अभी तक वो दस लाख हीं जहन में बसा है.


image


नाथू सिंह से के एक छोटे से कमरे में एक खाट आ सकती है और उसी में सोते हैं बगल के रैक पर सफलता के पदक रखते हैं. बीते दिनों को याद करते हैं कि दूसरे सीनियर खिलाड़ियों के सेकेंड हैंड किट और स्पाईक खरीद कर अपना काम चलाता था. लेकिन मन में विश्वास था कि एक दिन मैं टीम इंडिया के लिए खेलूंगा. ये सफलता मेरे लिए बड़ी है लेकिन मैं तभई खुद को सफल कहूंगा जब टीम इंडिया के लिए खेलूं.

पिता भरत सिंह कहते थे कि मैं तो अपनी जिंदगी में सबसे ज्यादा 12 हजार रुपए कमाए हैं मैं नही चाहता था कि क्रिकेट खेले क्योंकि मेरे पास पैसे नही है मैं तो दो-दो शिफ्ट कर बारह-बारह-सोलह-सोलह घंटे काम करता था. लेकिन रिश्तेदारों के कहने पर हुआ. लेकिन आज बेहद खुश हैं. घूंघट के अंदर से मां सरोज कंवर कहती है कि बहुत खुशी है बेटा बड़ा आदमी बन गया. इसके लिए इन्होने भी बेहद संघर्ष किया है.

image


पिछले साल अक्टूबर में दिल्ली के खिलाफ अपने पहले हीं रणजी में दिल्ली के खिलाफ 6 विकेट लेकर नाथू सिंह ने सबको चौंका दिया था. गौतम गंभीर ने भी आउट होने बाद कहा था कि लड़के में दम है. आईपीएल के इस नौवें संस्करण के में कुल 138 करोड़ की बोली लगी थी. और नाथू के लिए रायल चैलेंजर बैंगलूर, दिल्ली डेयर डेविल्स और मुंबई इंडिंयंस ने बोली लगाई थी.

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close