Coinbase करेगी 20% कर्मचारियों की छंटनी, पूर्व मैनेजर के भाई को क्रिप्टो फ्रॉड में हुई 10 महीने की जेल

By रविकांत पारीक
January 11, 2023, Updated on : Thu Jan 12 2023 05:19:22 GMT+0000
Coinbase करेगी 20% कर्मचारियों की छंटनी, पूर्व मैनेजर के भाई को क्रिप्टो फ्रॉड में हुई 10 महीने की जेल
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

दुनियाभर की कंपनियों में कर्मचारियों की छंटनी पर लगाम नहीं लग पा रही है. क्रिप्टो मार्केट तो दोहरी मार झेल रहा है. जहां एक ओर क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में गिरावट लगातार बनी हुई है, वहीं इसका असर नौकरियों पर भी पड़ रहा है. ऐसे में कंपनियों की खर्चों को कंट्रोल में रखने के लिए कर्मचारियों की छंटनी का सहारा लेना पड़ रहा है.


हाल ही में क्रिप्टो एक्सचेंज कंपनी Coinbase Global Inc. ने अपने 20 फीसदी कर्मचारियों की छंटनी का ऐलान किया है. कंपनी के को फाउंडर Brian Armstrong ने अपने आधिकारिक पोस्ट में यह जानकारी दी है कि कंपनी के तिमाही के नतीजे अच्छे नहीं रहे हैं और ऐसे में कंपनी को अपने खर्च में 25 फीसदी की कमी करनी होगी. इसके लिए करीब 950 कर्मचारियों की छंटनी की जाएगी. इसके साथ ही कंपनी अपने ऐसे प्रोजेक्ट्स को भी बंद करने वाली है जो उन्हें प्रॉफिट दिलाने में असमर्थ है.


Coinbase के फाउंडर आर्मस्ट्रांग ने इस मामले पर कहा कि हमें अपने सभी तरह के खर्च को कम करने की कोशिश की है. इसके लिए हमने कई विकल्पों पर ध्यान दिया है, लेकिन हमें सबसे अच्छा विकल्प सही लगा कि हम कंपनी में छंटनी करके खर्च को कम करें. इसके अलावा हमारे पास दूसरा कोई अच्छा विकल्प नहीं हैं. कंपनी ने नौकरी से निकाले जाने वाले कर्मचारियों को इसकी जानकारी दे दी है.


Coinbase ने पिछले साल जून में भी भारी छंटनी की थी. पिछले साल 2022 में क्रिप्टो एक्सचेंज कॉइनबेस ने 18 फीसदी कर्मियों को बाहर निकाल दिया था. इसमें से 8 फीसदी एंप्लॉयीज भारत से थे. उस समय आर्मस्ट्रांग ने कहा था कि कंपनी ने जरूरत से अधिक एंप्लॉयीज को काम पर रख लिया था जिसके चलते छंटनी का फैसला करना पड़ा.

पूर्व प्रोडक्ट मैनेजर के भाई को 10 महीने की सजा

Coinbase के एक पूर्व प्रोडक्ट मैनेजर के भाई को मंगलवार को एक मामले में 10 महीने की सजा सुनाई है. दरअसल, यह मामला एक गोपनीय सूचना पर ट्रेड की योजना में उसकी भूमिका से जुड़ा है जब क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज एक नया टोकन लिस्ट करने जा रहा था. इस शख्स का नाम निखिल वाही (Nikhil Wahi) है, जिसकी उम्र 26 साल है.


ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, निखिल वाही को वायर फ्रॉड की साजिश रचने के लिए सितंबर में दोषी ठहराया गया था. प्रोसिक्यूटर्स ने दावा किया कि अपने भाई से मिले टिप्स के दम पर वाही और उसके एक दोस्त समीर रमानी ने ट्रेड्स पर 10 लाख डॉलर (लगभग 8.2 करोड़ रुपये) से ज्यादा की कमाई की.


वाही और उसके भाई ईशान वाही - दोनों को जुलाई में गिरफ्तार किया गया था. हालांकि, ईशान वाही को दोषी नहीं ठहराया गया है. रमानी उस समय अमेरिका की कस्टडी में नहीं था और वह कोर्ट में पेश नहीं हुआ.

यह भी पढ़ें
Goldman Sachs करेगी 3,200 कर्मचारियों की छंटनी, Twitter में भी छंटनी जारी