जीरो ट्रेडिंग फीस वाले क्रिप्टो स्टार्टअप weTrade की कहानी

By रविकांत पारीक
January 11, 2023, Updated on : Sat Jan 28 2023 07:31:26 GMT+0000
जीरो ट्रेडिंग फीस वाले क्रिप्टो स्टार्टअप weTrade की कहानी
भारत में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर काफी दिलचस्पी है. हालांकि, अधिकांश निवेशक उन विकल्पों से अनभिज्ञ हैं जो उपलब्ध हैं जिनके माध्यम से वे सुरक्षित लेनदेन कर सकते हैं. weTrade की स्थापना आईआईटी कानपुर के पूर्व छात्र, प्रशांत कुमार ने जनवरी 2022 में की थी.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (World Economic Forum) के आंकड़ों के अनुसार साल 2020 में क्रिप्टोकरेंसी सेक्टर में टोटल मार्केट कैपिटलाइजेशन में 187.5 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखने को मिली थी. पूरे क्रिप्टो बाजार में सिर्फ बिटकॉइन ने ही लगभग 60 प्रतिशत (59.8%) रिटर्न दिया था.


साल 2021 में क्रिप्टोकरेंसी के बाजार में 2020 की तुलना में साढ़े 15 प्रतिशत की वृद्धि देखने को मिली थी. जहां 2020 में भारतीय निवेशकों ने क्रिप्टोकरेंसी में महज 28.10 मिलियन यूएस डॉलर का निवेश किया था वहीं साल 2021 में यह बढ़कर लगभग 438.18 मिलियन यूएस डॉलर हो गया था. साल 2022 के बीते छह महीनों में क्रिप्टोकरेंसी में लगभग 139.9 मिलियन डॉलर का निवेश देखने को मिला है.


साल 2022 में भारत में क्रप्टो से जुड़े कुछ नए नियम भी प्रभाव में आए हैं. क्रिप्टो से होने वाली आमदनी पर 30 प्रतिशत टैक्स और क्रिप्टो की लेनदेन में 1 प्रतिशत TDS का प्रावधान इनमें शामिल है. जानकार मानते हैं कि इसका असर क्रिप्टोकरेंसी में निवेश के आकड़ों पर देखने को मिल रहा है.


भारत में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर काफी दिलचस्पी है. हालांकि, अधिकांश निवेशक उन विकल्पों से अनभिज्ञ हैं जो उपलब्ध हैं जिनके माध्यम से वे सुरक्षित लेनदेन कर सकते हैं.


क्रिप्टो एक्सचेंज प्लेटफॉर्म weTradeको शुरू करने का उद्देश्य एक सिक्योर और रिवार्ड देने वाला प्लेटफॉर्म तैयार करना है जो किसी के लिए भी क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेडिंग करना आसान बनाता है.

weTrade की शुरुआत

weTrade की स्थापना आईआईटी कानपुर (IIT Kanpur) के पूर्व छात्र, प्रशांत कुमार ने जनवरी 2022 में की थी. प्रशांत को टेक सेक्टर में 20 वर्षों का अनुभव है. weTrade शुरू करने से पहले वे फ्लिपकार्ट होलसेल में इंजीनियरिंग टीम के लीडर रह चुके हैं. वे 8 वर्षों तक फ्लिपकार्ट लीडरशिप का हिस्सा रहे हैं.


YourStory से बात करते हुए प्रशांत बताते हैं, "weTrade को हम एक डिस्र्प्टीव क्रिप्टो इंजन बनाना चाहते हैं जो हमारे ग्राहकों के लिए वैल्यू जोड़ता है. हमारा लक्ष्य देश में सभी कर नियमों का पालन करते हुए क्रिप्टो को भारतीय ग्राहकों के करीब लाना है. यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जिसके जरिए कोई भी शख्स या कम्यूनिटी ट्रेडिंग करना और सटीक निर्णय लेना सीख सकते हैं. इसके लिए हम कई अनोखे कम्युनिटी चैनल बना रहे हैं ताकि हमारे ग्राहक सीख सकें और आगे बढ़ सकें."

crypto-story-bengaluru-based-cryptocurrency-startup-wetrade-zero-trading-fees

बिजनेस मॉडल और फंडिंग

weTrade एक टेक प्लेटफॉर्म है, जिसमें ब्लॉकचेन और फाइनेंस सेक्टर में गहरी विशेषज्ञता है. अपने इन-हाउस इंजन का उपयोग करते हुए, कंपनी वैल्यू एड करने के लिए पारंपरिक और बाजार तटस्थ तकनीकों को लागू करती हैं और इस प्रकार अपने ग्राहकों की मदद करती है.


प्रशांत कहते हैं, "हमारे लिए, हमारे उपयोगकर्ताओं का विश्वास जरूरी है. हम उन्हें एक ऐसा प्लेटफॉर्म देना चाहते हैं जहां उनके फंड सुरक्षित हों. यह अत्यंत महत्वपूर्ण है."


क्रिप्टो एक्सचेंज प्लेटफॉर्म के रूप में, एक उपयोगकर्ता एक मिनट से भी कम समय में ट्रेडिंग शुरू कर सकता है. उन्हें बस ऐप डाउनलोड करना है, अपना केवाईसी पूरा करना है, अपने बैंक अकाउंट का उपयोग करके पैसे जोड़ें और वे ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं.


प्रशांत बताते हैं, "हमारे पास यह सुनिश्चित करने के लिए सख्त केवाईसी मानदंड हैं कि हम अधिकृत ग्राहकों को ऑनबोर्ड करते हैं. ऐप रिवॉर्ड्स में ग्राहकों की मदद के लिए रोजमर्रा की टेक्नीकल मार्केट अपडेट्स के साथ NFT (non-fungible token), जीरो ट्रेडिंग फीस और कैशबैक शामिल हैं."


weTrade ने लगभग 15 करोड़ रुपये का सीड राउंड जुटाया है. कंपनी के निदेशक मंडल में Flipkart के पूर्व सीटीओ रवि गरिकीपति हैं.

चैलेंज और रेवेन्यू

भारत में क्रिप्टो इकोसिस्टम बढ़ रहा है. जबकि टैक्स को लेकर नियम-कानून बनाए गए हैं, लेकिन इस इकोसिस्टम को लेकर कानून-कायदे अभी भी तय नहीं हैं. क्रिप्टो इकोसिस्टम अभी भी रोशनी की तलाश में है. ऐसे में जब मौजूदा नियमों का पालन करने की बात आती है तो weTrade जैसी कंपनियां अनुपालन करती जा रही हैं.


प्रशांत बताते हैं, "एक कंपनी के रूप में, हमारे पास यह सुनिश्चित करने के लिए मजबूत केवाईसी नियम हैं कि हमारे पास अधिकृत ग्राहक हैं. ऐसे समय में, भारत की अध्यक्षता में G20 के वैश्विक स्तर पर विनियमों पर चर्चा करने की उम्मीद है और हमें आशा है कि इसका इंडस्ट्री पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा."


रेवेन्यू के बारे में पूछने पर, प्रशांत बताते हैं, "weTrade को प्लेटफॉर्म पर होने वाले ट्रांजेक्शन से रेवेन्यू हासिल होता है. हमारा ऐप लॉन्च होने के केवल छह महीनों में, हमारे पास 1.25 लाख से अधिक ट्रेडिंग कस्टमर हैं. हमारा लक्ष्य 2023 के अंत तक 50 लाख ट्रेडिंग यूजर को ऑनबोर्ड करने का है."

भविष्य की योजनाएं

कंपनी की योजना वर्तमान पेशकशों को दोहराना, उनका विस्तार करना और यह सुनिश्चित करना है कि इसके पास एक मिलियन से अधिक इंस्टाल हो. इनमें से 10% से अधिक ट्रांजेक्शन करने वाले यूजर हैं. कंपनी इंटरनेशनल मार्केट में कदम रखना चाहती है. weTrade गेमिफिकेशन पर ध्यान केंद्रित करने और शैक्षिक वीडियो और पॉडकास्ट को शामिल करने के लिए अपने कंटेंट का विस्तार करने की भी योजना बना रहा है.


प्रशांत बताते हैं, "ऐप लॉन्च के बाद से, हमने विभिन्न स्कीमें लॉन्च की हैं जिनके जरिये हमारे ग्राहक अपने निवेश पर अतिरिक्त लाभ अर्जित कर सकते हैं. इनमें साइन-अप पर मुफ़्त NFT, ट्रांजेक्शन पर जीरो ट्रेडिंग फीस और 50+ कॉइन पर 1% कैशबैक शामिल हैं. साथ ही, हमारी योजना - weSave, ग्राहकों को उनके USDT निवेश पर 9% ब्याज अर्जित करने का अवसर देती है. यह ब्याज प्रतिदिन जमा किया जाता है और इसकी कोई न्यूनतम लॉक-इन अवधि नहीं है."


अंत में, प्रशांत बताते हैं, "हमारे पास 20+ पेशेवरों की एक अनुभवी टीम है जो Google, Microsoft, और Flipkart जैसी नामचीन कंपनियों में काम अनुभव रखते हैं. अगर एजुकेशनल बैकग्राउंड की बात करें तो IIT और IIM सहित टॉप यूनिवर्सिटीज शामिल हैं. लगभग 1000 रिव्यू वाले इस ऐप की प्ले स्टोर पर 4.7 और आईओएस पर 4.8 की रेटिंग है."