फेमिनिन केयर मार्केट में उतरेगी डाबर, Whisper और Stayfree को टक्कर देने की तैयारी

By yourstory हिन्दी
December 07, 2022, Updated on : Wed Dec 07 2022 11:04:43 GMT+0000
फेमिनिन केयर मार्केट में उतरेगी डाबर, Whisper और Stayfree को टक्कर देने की तैयारी
देश के अधिकांश हिस्सों में आज भी कई महिलाएं पीरियड्स के प्रोटेक्शन के हाइजीनिक तरीकों का उपयोग नहीं करती हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कंज्यूमर गुड्स कंपनी डाबर (Dabur India) अपने 'फेम' ब्रांड के जरिए भारत के फेमिनिन केयर मार्केट में प्रवेश करने की तैयारी में है. इस मार्केट में पहले से बहुराष्ट्रीय कंपनियों प्रॉक्टर एंड गैंबल (P&G), जॉनसन एंड जॉनसन (J&J) और यूनिचार्म का दबदबा है. इकनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 5,400 करोड़ रुपये के सैनिटरी नैपकिन सेगमेंट में फेम ब्रांड के तहत डाबर का नया उत्पाद पीएंडजी के व्हिस्पर और जेएंडजे के स्टेफ्री के साथ प्रतिस्पर्धा करेगा.


सैनिटरी नैपकिन सेगमेंट की कपनियां म​हिलाओं को पैड का उपयोग करने के लिए राजी करने के लिए शिक्षा, जागरूकता अभियानों और विज्ञापनों के माध्यम से लगातार प्रयासरत हैं. इसके बावजूद देश के अधिकांश हिस्सों में आज भी कई महिलाएं पीरियड्स (मासिक धर्म या माहवारी) के प्रोटेक्शन के हाइजीनिक तरीकों का उपयोग नहीं करती हैं.

हाइजीन सभी के लिए सबसे बड़ी चिंताओं में से एक

रिपोर्ट में डाबर में ई-कॉमर्स और मॉडर्न ट्रेड के बिजनेस हेड स्मर्थ खन्ना के हवाले से कहा गया है, "कोविड के बाद हमारे आसपास की दुनिया तेजी से विकसित हो रही है और हाइजीन सभी के लिए सबसे बड़ी चिंताओं में से एक बन गई है. उन्होंने आगे कहा, 'हमने अपने उपभोक्ताओं की जरूरतों को देखा और समझा और फेमिनिन हाइजीन के क्षेत्र में गैप को महसूस किया, जहां उपभोक्ताओं को जेब के अनुकूल कीमत पर एक बेहतर उत्पाद मिलना चाहिए.'

शुरुआत में फ्लिपकार्ट पर किया जाएगा लॉन्च

कंपनी शुरुआत में ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म फ्लिपकार्ट के माध्यम से नया उत्पाद लॉन्च करेगी. इसके बाद अन्य चैनलों, विशेष रूप से आधुनिक व्यापार में नए उत्पाद को पेश किया जाएगा. भारत में सैनिटरी नैपकिन का उपयोग बहुत कम केवल 22% है. शहरी क्षेत्रों में दो तिहाई से अधिक महिलाएं पीरियड्स के दौरान सुरक्षा के हाइजीनिक तरीकों का उपयोग करती हैं. लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है और ग्रामीण क्षेत्र डाबर के लिए एक बड़ा बाजार हैं. सैनिटरी नैपकिन के मामले में ऑनलाइन चैनल कुल बिक्री में 600 करोड़ रुपये का योगदान करते हैं. डाबर की बात करें तो इसके डिजिटल फर्स्ट उत्पादों की वार्षिक बिक्री 100 करोड़ रुपये है.

1884 में शुरू हुई थी डाबर

डाबर लिमिटेड भारत की एक मल्टीनेशनल कंज्यूमर गुड्स कंपनी है. इसकी शुरुआत 1884 में एसके बर्मन ने की थी. कंपनी का हेडक्वार्टर उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में है. कंपनी, भारत की सबसे बड़ी एमएमसीजी कंपनियों में से एक है. वर्तमान में अमित बर्मन डाबर के चेयरमैन और मोहित बर्मन सीईओ हैं.


Edited by Ritika Singh