एक ऐसा मोमो वाला जिसके यहाँ सिर्फ व्यव्हार और उम्दा क्वालिटी के लिए लगती है लम्बी लाइन

एक ऐसा मोमो वाला जिसके यहाँ सिर्फ व्यव्हार और उम्दा क्वालिटी के लिए लगती है लम्बी लाइन। 25 – 30 किलोमीटर दूर से ड्राइव करके या ऑटो में मोटा किराया खर्च कर आते हैं कस्टमर।  

एक ऐसा मोमो वाला जिसके यहाँ सिर्फ व्यव्हार और उम्दा क्वालिटी के लिए लगती है लम्बी लाइन

Thursday May 26, 2016,

3 min Read

अक्सर ही हमने अपने बड़े बुजुर्गों से सुना है कि किसी भी व्यक्ति के लिए मीठी जुबान बेहद फायदेमंद है, जो व्यक्ति को रंक से राजा बना सकती है। व्यक्ति की जुबान में वो तासीर होती है कि वो उसे सफलता के उस मुकाम पर पहुंचा सकती है जिसकी कल्पना हर वो व्यक्ति करता है जो कामयाब होना चाहता है। तो इसी क्रम में आज हम आपको अवगत करा रहे हैं एक ऐसी जुबान यानी एक ऐसे व्यक्ति से जो है तो एक आम मोमो बेचने वाला छोटा सा व्यापारी, मगर इसके बात करने का लहजा इतना मनमोहक इतना जिंदादिल है कि दूर – दूर से लोग तीन से चार गुना किराया खर्च करके इसका 60 रुपए में बिकने वाला मोमो खाने आते हैं। 

image


जी हाँ हम बात कर रहे हैं बैंगलोर के कोरामंगला स्थित ज्योति निवास कॉलेज के सामने हॉट दार्जलिंग स्टाइल मोमो बेचने वाले दावा की। आज से कोई 10 – 12 साल पहले काम की तलाश में दावा दार्जलिंग से बैंगलोर आया था और कई जगहों पर काम करने के बाद जिसने कुछ साल पहले कोरामंगला स्थित ज्योति निवास कॉलेज के सामने अपनी छोटी सी दुकान खोली। आज आलम ये है कि 5 बजे से ही दावा की छोटी सी दुकान के सामने लाइन लगना शुरू हो जाती है। मज़े की बात ये है कि यहाँ मोमो खाने वाले सिर्फ़ आस पास के कॉलेज के लड़के लड़कियां नहीं हैं बल्कि 25 – 30 किलोमीटर दूर से ड्राइव करके या ऑटो में मोटा किराया खर्च कर आने वाले लोग भी हैं। 

image


ना सिर्फ मोमो और उसकी चटनी का टेस्ट बल्कि ये दावा का हंसमुख चेहरा, उसका व्यवहार और बात करने का लहजा ही वो कारण हैं जिसके चलते शाम पांच बजे से लेके रात 9 बजे तक दावा को सांस लेने की फुर्सत नहीं मिलती। 

image


इतनी भीड़ को मैनेज करने के विषय में पूछे जाने पर दार्जलिंग के दावा ने हँसते हुए बताया कि दुनिया में पैसा तो कोई भी कमा सकता है लेकिन व्यक्ति को व्यव्हार कमाना चाहिए ताकि लोग उसे याद रख सकें। भीड़ के विषय पर दावा ने कहा है कि उसके व्यव्हार के अलावा यहाँ लोगों के ज्यादा आने का कारण उसके द्वारा परोसे जाने वाले मोमो की शुद्धता और चटनी की गुणवत्ता है। दावा ने बताया कि मोमो बनाने के बाद वो पहले खुद उसे चखता है और यदि कोई कमी रह गयी तो उसका निवारण किया जाता है अथवा नया माल तैयार किया जाता है। दावा ने ये भी कहा कि चूँकि हमारी चटनी हमारी पहचान है अतः हम उसके साथ भी कोई समझौता नहीं करते और आज भी हम अपनी चटनी के लिए ख़ास दार्जलिंग मिर्चों का इस्तेमाल करते हैं।

image


अंत में आपको बताते चलें कि आज ये दावा का व्यव्हार और कड़ी मेहनत ही है जिसके चलते वो शहर भर में अपने आउटलेट खोलने पर विचार कर रहे हैं और साथ ही शहर के लोग भी उनके इस काम में उनकी मदद करने को आतुर हैं। इस पर पूछे जाने पर दावा ने बताया कि यदि ईश्वर की मर्ज़ी और भाग्य में लिखा होगा तो इसे कोई रोक नहीं सकता लेकिन हमेशा की तरह वो क्वालिटी और मान सम्मान को प्राथमिकता देंगे।

image


बहरहाल, यदि आप दावा के बेहतरीन व्यक्तित्त्व और उनके ज़ायकेदार मोमो का लुत्फ़ लेना चाहते हैं और अगर बैंगलोर में हैं तो अवश्य ही एक बार कोरामंगला स्थित ज्योति निवास कॉलेज के सामने हॉट दार्जलिंग स्टाइल दावा मोमो कार्नर का रुख करें।  

तस्वीरें - साभार https://desitraveltadka.wordpress.com/