भारत की वृद्धि बरकरार, धुंधलाती दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्थाएं: OECD रिपोर्ट

By रविकांत पारीक
July 13, 2022, Updated on : Wed Jul 13 2022 11:46:12 GMT+0000
भारत की वृद्धि बरकरार, धुंधलाती दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्थाएं: OECD रिपोर्ट
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (Organisation for Economic Co-operation and Development - OECD) द्वारा जारी कंपोजिट लीडिंग इंडिकेटर (CLI) पर एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में आर्थिक विकास स्थिर बना हुआ है, जबकि अमेरिका और चीन सहित अधिकांश अन्य प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में यह गति खो रहा है.


अमेरिका के लिए विकास के दृष्टिकोण को पिछले महीने की रिलीज में 'स्थिर विकास' से इस महीने 'विकास की गति खोने' के लिए डाउनग्रेड किया गया है.

economic-growth-in-india-remains-stable-while-most-other-economies-lose-momentum-oecd-report

सांकेतिक चित्र

OECD ने अपने एनालिसिस में कहा, "यूनाइटेड किंगडम, कनाडा और पूरे यूरो क्षेत्र में, जर्मनी, फ्रांस और इटली में CLI का अनुमान है कि आर्थिक विकास गति खो सकता है. बढ़ती मुद्रास्फीति (inflation), कम उपभोक्ता विश्वास और शेयर की कीमतों में गिरावट को इसके लिए जिम्मेदार माना गया है."


CLI को व्यावसायिक चक्रों में अपने दीर्घकालिक संभावित स्तर के आसपास आर्थिक गतिविधि के उतार-चढ़ाव को दर्शाने वाले महत्वपूर्ण मोड़ के शुरुआती संकेत प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है. यह ऑर्डर बुक, कॉन्फिडेंस इंडिकेटर, बिल्डिंग परमिट, लंबी अवधि की ब्याज दरों और नई कार पंजीकरण जैसे अन्य संकेतकों के आधार पर संकलित किया गया है.


OECD, हालांकि, आगाह करता है कि चल रहे रूस-यूक्रेन युद्ध से संबंधित अनिश्चितताओं के कारण इसके CLI घटकों में अधिक मात्रा में उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है.

प्रमुख उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं में, भारत के स्थिर विकास को बनाए रखने का अनुमान है. इस बीच, चीन और ब्राजील में विकास की गति कम होने की उम्मीद है.


देश की 'शून्य कोविड नीति' (‘zero COVID policy) से प्रभावित औद्योगिक केंद्रों में बड़े पैमाने पर तालाबंदी ने चीनी अर्थव्यवस्था को पंगु बना दिया है और 2022 में देश के 5.5 प्रतिशत की वृद्धि के लक्ष्य को संदेह में डाल दिया है.


ब्राजील में, बढ़ती मुद्रास्फीति और सख्त वित्तीय स्थितियों ने आर्थिक भावना और क्रय शक्ति को नष्ट कर दिया है. इसके अलावा, आगामी राष्ट्रपति चुनाव अनिश्चितता बढ़ा रहे हैं क्योंकि 2023 तक देश में निवेश कम रहने की उम्मीद है.


भारत के लिए, हालांकि ताजा CLI संकेत देता है कि देश की वृद्धि अपेक्षाकृत स्थिर बनी हुई है, अर्थव्यवस्था अपने उच्च स्तर से नीचे आ गई है. मार्च में जहां देश का CLI 100.3 था, वहीं जून में यह घटकर 100.1 पर आ गया.


OECD ने इससे पहले के अपने आर्थिक पूर्वानुमान सारांश (Economic Forecast Summary) में कहा था, "2021 में G20 में सबसे मजबूत जीडीपी रिबाउंड दर्ज करने के बाद, भारतीय अर्थव्यवस्था गति खो रही है क्योंकि बढ़ती वैश्विक ऊर्जा और खाद्य कीमतों, मौद्रिक नीति सामान्य होने और वैश्विक स्थितियों के बिगड़ने के कारण मुद्रास्फीति की उम्मीदें बढ़ रही हैं."


हालांकि भारत में मुद्रास्फीति के धीरे-धीरे कम होने की उम्मीद है, ऊर्जा आयात में वृद्धि से देश का चालू खाता घाटा (current account deficit) बढ़ने की उम्मीद है.