BYJU’S ने तीन बोर्ड सदस्यों के इस्तीफा देने की खबरों का खंडन किया

एक रिपोर्ट में कहा गया है कि Peak XV Partners के मैनेजिंग डायरेक्टर जीवी रविशंकर, Prosus के रसेल ड्रेसेनस्टॉक और Chan Zuckerberg Initiative के विवियन वू ने बोर्ड से इस्तीफा दे दिया है.

BYJU’S ने तीन बोर्ड सदस्यों के इस्तीफा देने की खबरों का खंडन किया

Thursday June 22, 2023,

2 min Read

एडटेक सेक्टर की दिग्गज कंपनी BYJU'S ने कंपनी के तीन बोर्ड सदस्यों के अपने पदों से इस्तीफा देने की खबरों का खंडन किया है.

BYJU'S के शुरुआती समर्थक जीवी रविशंकर, Peak XV Partners (पूर्व में Sequoia Capital India) के मैनेजिंग डायरेक्टर, Prosus (पहले Naspers) के रसेल ड्रेसेनस्टॉक, और Chan Zuckerberg Initiative के विवियन वू — सभी ने इस्तीफा दे दिया है. द इकोनॉमिक टाइम्स ने इसकी जानकारी दी थी, ये बताते हुए कि इस्तीफे अभी BYJU'S द्वारा स्वीकार किए जाने बाकी हैं.

“BYJU'S के बोर्ड सदस्यों के इस्तीफे का सुझाव देने वाली एक हालिया मीडिया रिपोर्ट पूरी तरह से अटकलों पर आधारित है. BYJU'S इन दावों का दृढ़ता से खंडन करता है और मीडिया से आग्रह करता है कि वे असत्यापित जानकारी फैलाने या आधारहीन अटकलों में शामिल होने से बचें," BYJU'S के प्रवक्ता ने ईमेल किए गए प्रश्नों के जवाब में YourStory को बताया.

बयान में कहा गया है, "हमारी कंपनी के भीतर कोई भी महत्वपूर्ण विकास या बदलाव आधिकारिक चैनलों और घोषणाओं के माध्यम से साझा किया जाता है."

द इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि बोर्ड के सदस्यों का यूं बाहर निकलना एडटेक कंपनी से संबंधित महत्वपूर्ण कारोबारी मामलों पर फाउंडर बायजू रवींद्रन के साथ असहमति के कारण हुआ है.

YourStory स्वतंत्र रूप से रिपोर्ट की पुष्टि नहीं कर सका.

यह विकास ऐसे समय में हुआ है जब एडटेक दिग्गज बड़ी फंडिंग का इंतजार कर रही है, जबकि 1.2 बिलियन डॉलर के टर्म लोन बी (TLB) को लेकर अपने लेनदारों के साथ विवादों में भी उलझी हुई है.

महामारी के कारण एडटेक बूम की समाप्ति के बाद एडटेक यूनिकॉर्न बढ़ते घाटे, छंटनी और कर्जे से त्रस्त हो गया है.

इस सप्ताह की शुरुआत में, कंपनी ने कर्मचारियों की छंटनी शुरू की, जिसका असर 1,000 से अधिक लोगों पर पड़ेगा.

BYJU'S ने अभी तक वित्त वर्ष 22 के लिए अपना वित्तीय विवरण दाखिल नहीं किया है. एडटेक फर्म ने सितंबर 2022 में 18 महीने की देरी के बाद भारत में नियमित लेखा निकायों के साथ वित्त वर्ष 21 के वित्तीय विवरण दाखिल किए थे.

(Translated by: रविकांंत पारीक)


Edited by रविकांत पारीक