लुप्तप्राय गिद्धों और बाघों को बचाने के लिए राजस्थान के इस शख्स ने की 1200 किमी की यात्रा

लुप्तप्राय गिद्धों और बाघों को बचाने के लिए राजस्थान के इस शख्स ने की 1200 किमी की यात्रा

Wednesday July 29, 2020,

2 min Read

2002 में, बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी (BHNS) के स्वयंसेवक पर्यावरणविद् डॉ. धर्मेंद्र खांडल ने भारत में गिद्धों की घटती आबादी पर सर्वे करने के लिए मुंबई से अपने गृहनगर राजस्थान के चुरू तक बाइक से यात्रा की।


क

पर्यावरणविद् डॉ. धर्मेद्रं खांडल (फोटो साभार: breathedreamgo)


राजस्थान के चूरू जिले के रामगढ़ शहर के निवासी, धर्मेंद्र अपने परिवार के साथ 2002 में वेटलैंड इकोलॉजी में पीएचडी पूरी करने के बाद मुंबई चले गए।


नए पर्यावरणविद् धर्मेंद्र, वह कंस्ट्रक्शन के अपने फैमिली बिजनेस में पार्ट-टाइम काम करते थे जबकि शहर के अलग-अलग संगठनों में वॉलेंटियर के रूप में स्वयं सेवा करते थे।


“यह उस समय की बात है, जब मैं वन्यजीव फोटोग्राफर और पर्यावरणविद बिभास अमोनकर, आइजैक केहिमकर, जो कि ‘बटरफ्लाई मैन ऑफ इंडिया’ के रूप में जाने जाते हैं, और शुभलक्ष्मी, एक एंटोमोलॉजिस्ट, के साथ स्वेच्छा से बीएनएचएस जॉइन किया। इन सभी व्यक्तियों ने मुझे प्रेरित किया और इस क्षेत्र में काम करने के अपने जुनून को मजबूत किया। एक साल के मूल्यवान अनुभव को इकट्ठा करने के बाद, मुझे एक फील्ड निर्देशक के रूप में टाइगर वॉच में शामिल होने का अवसर मिला, जिसके हेड फतेह सिंह थे,” बीएनएचएस जॉइन के बारे में बात करते हुए धर्मेंद्र ने द बेटर इंडिया को बताया।


1990 के दशक में, गिद्धों की आबादी में खतरनाक गिरावट की कई रिपोर्ट सामने आने के बाद, भारत ने देश भर में नौ गिद्ध संरक्षण और प्रजनन केंद्र (वीसीबीसी) स्थापित किए थे, जिनमें से तीन बीएनएचएस के तहत आते है।


लेकिन, बाइक यात्रा धर्मेंद्र के लिए पर्यावरण संरक्षण और अवैध शिकार विरोधी प्रयासों की 17 साल की लंबी यात्रा की शुरुआत थी, जो आज रणथंभौर टाइगर रिजर्व में टाइगर वॉच नामक एक संगठन के प्रमुख हैं।


2005 से, जब बाघों की आबादी सिर्फ 18 थी, अब 2020 तक ये संख्या बढ़ाकर 70 करने में सक्षम हो गए हैं। 2003 में लगभग उसी समय, उन्होंने मोगिया समुदाय के कुछ युवा सदस्यों के पुनर्वास के अपने प्रयासों को भी शुरू किया है।