Coinbase के पूर्व-मैनेजर के भाई को इनसाइडर ट्रेडिंग मामले में दोषी ठहराया गया

By रविकांत पारीक
September 13, 2022, Updated on : Tue Sep 13 2022 10:29:39 GMT+0000
Coinbase के पूर्व-मैनेजर के भाई को इनसाइडर ट्रेडिंग मामले में दोषी ठहराया गया
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

Coinbase Global Inc के एक एक्स-प्रोडक्ट मैनेजर के भाई को सोमवार को धोखाधड़ी, साजिश के आरोप में दोषी ठहराया गया है. अमेरिकी अभियोजकों (U.S. prosecutors) ने क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े पहले इनसाइडर ट्रेडिंग मामले में ये कार्यवाही की है.


26 वर्षीय निखिल वाही ने मैनहट्टन में अमेरिकी जिला न्यायाधीश लोरेटा प्रेस्का के समक्ष एक वर्चुअल अदालत की सुनवाई के दौरान स्वीकार किया कि उसने गोपनीय कॉइनबेस जानकारी के आधार पर ट्रेडिंग की थी.


अभियोजकों का कहना है कि एक्स-प्रोडक्ट मैनेजर ईशान वाही ने अपने भाई और उनके दोस्त समीर रमानी के साथ नई डिजिटल एसेट्स के बारे में गोपनीय जानकारी साझा की, जिसके बारे में कॉइनबेस यूजर्स के लिए ट्रेडिंग करने के लिए योजना बना रहा था.


निखिल वाही और रमानी ने कथित तौर पर एसेट्स हासिल करने के लिए एथेरियम ब्लॉकचेन वॉलेट का इस्तेमाल किया और जून 2021 और अप्रैल 2022 में कॉइनबेस की घोषणा से पहले कम से कम 14 बार ट्रेडिंग की.


अभियोजकों ने कहा कि उन घोषणाओं ने आम तौर पर एसेट्स की कीमत में वृद्धि की और कम से कम 1.5 मिलियन डॉलर का लाभ कमाया.


"मुझे पता था कि कॉइनबेस की गोपनीय जानकारी प्राप्त करना और उस गोपनीय जानकारी के आधार पर ट्रेड करना गलत था," निखिल वाही ने न्यायाधीश को बताया.


उन्होंने कहा कि वह समझते हैं कि उसकी दोषी याचिका का मतलब है कि उसे अंततः संयुक्त राज्य अमेरिका से निर्वासित (deported) कर दिया जाएगा और "मैंने जो कुछ भी काम किया है, वह सब कुछ खो दिया."


निखिल वाही को पिछले महीने दोषी ठहराया था, लेकिन उन्होंने अभियोजकों के साथ एक समझौते के माध्यम से अपनी दलील बदल दी. उन्हें सजा दिसंबर में होगी.


ईशान वाही ने खुद को दोषी नहीं माना है और उसे 22 मार्च को अदालत में पेश होना है. रमानी, जिस पर भी आरोप लगाया गया था, फरार है.


कॉइनबेस,जोकि दुनिया के सबसे बड़े क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों में से एक है, ने कहा कि उसने अभियोजकों के साथ ट्रेडिंग की आंतरिक जांच से अपने निष्कर्षों को साझा किया,


अमेरिकी सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (Securities and Exchange Commission - SEC) बीते कुछ समय से क्रिप्टो एक्सचेंज में होने वाली इनसाइडर ट्रेडिंग को रोकने के प्रयास कर रहा है. जब कोई ट्रेडर किसी अंदरूनी सूत्र (Insider Source) से मिली 'टिप' का फायदा उठाता है या भविष्य के ट्रांजेक्शन के बारे में जानकारी लेता है जो क्रिप्टो कॉइन की कीमत को काफी हद तक प्रभावित करने वाली है, इनसाइडर ट्रेडिंग कहलाती है.


इसे और भी आसान भाषा में समझे, तो इनसाइडर ट्रेडिंग, ट्रेडिंग और मार्केट में हेरफेर का एक तरीका है.