संस्करणों
स्टार्टअप स्टोरी

क्वालिटी फैशन के साथ-साथ वर्कर्स के लिए आरामदायक वर्कस्पेस भी उपलब्ध करा रहा है गुरुग्राम स्थित पोस्टफोल्ड

गुरुग्राम स्थित फैशन ईकॉमर्स पोर्टल पोस्टफोल्ड (PostFold) ने मूड-बेस्ड क्लोदिंग लाइन्स जैसे- संडे ब्रंच, सैटरडे नाइट, और ट्रैवलिंग पर फोकस करते हुए एक खास ऑडियंस को टार्गेट किया है।

12th Mar 2019
Add to
Shares
38
Comments
Share This
Add to
Shares
38
Comments
Share

स्टार्टअप: पोस्टफोल्ड (PostFold)


सेक्टर: फैशन/ईकॉमर्स


लॉन्च: नवंबर 2015


स्थान: गुरुग्राम


फंडिंग: बूटस्ट्रैप्ड (Bootstrapped)


समस्या जो यह सॉल्व करता है: मूड के हिसाब से पहनने वाले फैशन को सस्ता बनाना


आश्रय और आशीष

आश्रय थताई (Aashray Thatai) और आशीष गुरनानी (Ashish Gurnani) की मुलाकात अमेरिका की नॉर्थईस्टर्न यूनिवर्सिटी, बोस्टन में पढ़ाई के दौरान हुई थी। जब वे दोनों भारत वापस आए, तो उन्होंने पाया कि यहां सस्ती कीमत पर क्वालिटी वाले कपड़ों के लिए बाजार में एक बड़ा अंतर है। अपने वेंचर की शुरुआत को याद करते हुए आशीष कहते हैं, “ऑनलाइन मार्केटप्लेस में हमने देखा कि सस्ती कीमत पर हमें लो क्वालिटी के कपड़े मिल रहे थे जबकि बड़े ब्रांडों के कपड़े हमें बहुत अधिक कीमत के लगे। हमने गहराई से जानने के बाद यह पता किया कि बड़े ब्रांड अपने उत्पादों को लागत से 7-10 गुना ज्यादा कीमत पर बेचते हैं। इस जानकारी ने हमें बाजार की क्षमताओं का पता लगाने की ओर अग्रसर किया। जिसके बाद हमने यह पता लगाना शुरू किया कि हम इस प्रोडक्शन साइकिल में लागत कैसे बचा सकते हैं।” 


दोनों अपना खुद का बिजनेस चलाना चाहते थे। नॉर्थईस्टर्न यूनिवर्सिटी, बोस्टन से मार्केटिंग और फाइनेंस की स्टडी करने के बाद, आशीष ने अमेजॉन के साथ डिजिटल एडवरटाइजिंग एनालिस्ट और बाद में जॉन हैनकॉक और ईएमसी के साथ काम किया था। वहीं मैकेनिकल इंजीनियर, आश्रय ने विलियम्स सोनोमा ई-कॉमर्स डिस्ट्रीब्यूशन सेंटर में काम किया है। जहां आशीष के पास मार्केटिंग और प्लानिंग में अनुभव था तो वहीं आश्रय के पास मैन्युफैक्चरिंग और डिस्ट्रीब्यूशन में अच्छा खासा अनुभव था। जिसके बाद दोनों ने महसूस किया कि वे इस मौजूदा सिस्टम को चुनौती दे सकते हैं।


कपड़े पहनने के बाद आप सबसे आखिरी काम के तौर पर शर्ट की आस्तीन या अपनी पैंट को फोल्ड करते हैं। ये वो आखिरी एक्शन होता है जो आप रेडी होने के बाद करते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए आशीष और आश्रय ने अपने स्टार्टअप का नाम 'पोस्टफोल्ड' रखा। नवंबर 2015 में लॉन्च किया गया, यह ई-कॉमर्स पोर्टल कंटेपररी फैशन को डेस्क से डिनर तक उपलब्ध कराता है। हर स्टेज में वे कपड़ों की लागत (ग्राहकों के लिए) नीचे लाते हैं। औसतन पोस्टफोल्ड ने 120 से अधिक स्टाइल्स के साथ 15 कैटेगरी लॉन्च कीं ताकि लगभग हर महीने वे एक नई स्टाइल उपलब्ध करा सकें। सभी मिलाकर उनके पास साइट पर 400 से अधिक स्टॉक युनिट रहती हैं। औसतन प्राइस होता है 1200 से 1700 रुपए। 


नैतिक कार्य

पोस्टफोल्ड लोकल मैन्युफैक्चरिंग को सपोर्ट करने के लिए अपना सारा प्रोडक्शन भारत में करता है। आशीष कहते हैं, “हम हाई क्वालिटी वाले कपड़ों का उपयोग करते हुए डिजाइन की मैन्युफैक्चरिंग से लेकर डिजाइन के अंत तक सब मैनेज करते हैं। इससे हमें कम से कम लागत और क्वालविटी में उत्कृष्टता सुनिश्चित करने में मदद मिलती है।" वह कहते हैं कि इससे ये भी पता चलता है कि कपड़ों को नैतिक रूप से प्रोड्यूस किया गया है या नहीं, हर प्रक्रिया को ऑडिट किया जा सकता है। यही कारण है कि उन्होंने महीने में लगभग 35 प्रतिशत की वृद्धि देखी है।


फैक्ट्री को पोस्टफोल्ड की टीम द्वारा सामाजिक रूप से आज्ञाकारी कहा जाता है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि यह कुछ जरूरी फेयर-ट्रेड प्रैक्टिसेस को फॉलो करती है:


क्या वर्किंग घंटे (working hours) कानून के मुताबिक हैं?

क्या कारखाने में साफ-सफाई की स्थिति अच्छी?

क्या फैक्ट्री किसी भी बच्चे को लेबर के तौर पर नियुक्त करती है?

क्या फैक्ट्री पर्यावरण कानूनों का पालन करती है?

क्या श्रमिक अपने कार्य के दौरान सुरक्षा उपकरण पहनते हैं?

क्या फैक्ट्री में प्राथमिक चिकित्सा उपलब्ध है?

क्या फैक्ट्री में बिल्डिंग में आग बुझाने के उपकरण हैं?


यदि ऊपर दिए गए सभी फैक्टर्स को फॉलो किया जाता है, तब ही वे किसी दूसरी फैक्ट्री को मंजूरी देते हैं और संचालन शुरू किया जाता है। आशीष कहते हैं, "हम सामाजिक रूप से आज्ञाकारी हैं इसलिए कभी-कभी फैक्ट्रियों को जाने देना चुनौतीपूर्ण होता है क्योंकि यह प्रोडक्ट डेवलपमेंट साइकिल और नए प्रोडक्ट के लॉन्च में देरी करता है।" टीम किसी भी दूसरी फैक्ट्री के साथ काम शुरू करने के लिए पहले प्रत्येक फैक्ट्री का ऑडिट करती है। वे कहते हैं, “हम सुनिश्चित करते हैं कि श्रमिकों को न्यूनतम दैनिक वेतन से अधिक का भुगतान किया जाए। हमारा मानना है कि जो श्रमिक खुश होते हैं वे बेहतर क्वालिटी वाले कपड़े प्रोड्यूस करते हैं, इसलिए हम यह भी सुनिश्चित करते हैं कि वे अपने कार्यस्थल पर गलत व्यवहार न करें और आराम से रहें।"


ग्राहक का लाभ

पोस्टफोल्ड 21-35 के आयु वर्ग में काम कर रहे पेशेवरों को शामिल करता है और डिजिटल मार्केटिंग के माध्यम से उन तक पहुंचता है। आशीष बताते हैं, “हम अपने मैसेजेस और स्टोरीज को आगे बढ़ाने के लिए डिजिटल रूप से बेहद सक्रिय हैं। इसमें सोशल मीडिया, एसईओ, एसईएम मार्केटिंग प्रयास और प्रासंगिक ब्लॉग और लेख शामिल हैं। दुकानों और स्पोन्सरशिप का उद्देश्य अपनी भौतिक उपस्थिति को बढ़ाना है। इससे उपभोक्ताओं को खरीदने से पहले पोस्टफोल्ड उत्पादों को छूने और महसूस करने की अनुमति मिलती है।" फिलहाल PostFold केवल ऑनलाइन उपलब्ध है। हालांकि भारत जैसे प्राइस सेंसिटिव मार्केट में ग्राहक का लाभ एक चुनौती है, लेकिन पोस्टफोल्ड ने ग्राहकों के बीच 60 प्रतिशत रिपीट रेट (एक प्रोडक्ट को बार-बार खरीदना) देखी है। 


आशीष का कहना है कि वे नियमित रूप से फीडबैक फॉर्म भेजते हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे वही कर रहे हैं जिसकी ग्राहक उम्मीद करते हैं। वे कहते हैं, "हम अपनी वेबसाइट में सुधार कर रहे हैं और ग्राहक के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए सभी फीडबैक को शामिल कर रहे हैं और इस साल हम ग्राहक की व्यस्तता बढ़ाने के लिए विभिन्न कैंपेन में भी निवेश कर रहे हैं।" वह कहते हैं कि कंपनी आंतरिक रूप से और बाहरी दोनों तरह से बेहद पारदर्शी है। "हमें गुरुग्राम में किसी भी ग्राहक को आमंत्रित करने और अपने कार्यालय और फैक्ट्री के चारों ओर ले जाने में खुशी होगी।"


विशाल अवसर

2020 तक, भारत के कामकाजी आयु वर्ग में 64 प्रतिशत आबादी के साथ दुनिया का सबसे युवा देश बनने की उम्मीद है, और ऑनलाइन फैशन रिटेल 35 बिलियन डॉलर को छूने के लिए तैयार है। पोस्टफोल्ड इस सेगमेंट को संडे ब्रंच, सैटरडे नाइट और ट्रैवलिंग जैसे मूड-बेस्ड कपड़ों की लाइन्स पर ध्यान केंद्रित करके युवाओं को टार्गेट कर रहा है। यह जल्द ही वैश्विक बाजार में प्रवेश करने की योजना भी बना रहा है। अब तक बूटस्ट्रैप्ड, पोस्टफोल्ड का उद्देश्य वर्ष के अंत तक बाहरी फंडिंग जुटाना है। 15 लोगों की पोस्टफोल्ड की टीम में विभिन्न लोग शामिल हैं जिसमें डिजाइन, उत्पाद बिक्री, मार्केटिंग, आईटी और वेबसाइट डेवलपमेंट शामिल हैं। अंत में आशीष कहते हैं, “सबसे अच्छा डिजाइन बेहतर दिखने वाले उत्पादों को सुनिश्चित करता है जबकि सर्वश्रेष्ठ तकनीक यह सुनिश्चित करती है कि हम इन डिजाइनों को कम से कम समय में सर्वोत्तम दरों पर उपलब्ध करा सकें। एक ऑनलाइन रिटेल ब्रांड होने के नाते, हम कैसे खुद को वर्तमान डिजाइनों के साथ पेश करते हैं और नवीनतम तकनीक के साथ अपडेट रहते हैं, यही इस प्रतिस्पर्धी बाजार में सफल होने का सबसे अच्छा तरीका है।” 


यह भी पढ़ें: 9 हर रोज गरीबों को 7,000 गर्म रोटियां खिला रहा यह एनजीओ

Add to
Shares
38
Comments
Share This
Add to
Shares
38
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें