TikTok की मुश्किलें बढ़ीं, FCC कमिश्नर ने Apple और Google से TikTok को हटाने के लिए कहा

By रविकांत पारीक
June 30, 2022, Updated on : Thu Jun 30 2022 09:17:48 GMT+0000
TikTok की मुश्किलें बढ़ीं, FCC कमिश्नर ने Apple और Google से TikTok को हटाने के लिए कहा
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अमेरिका के FCC कमिश्नर ब्रेंडन कैर (Brendan Carr) ने हाल ही में Apple और Google को चिट्ठी लिखकर कंपनियों से "गुप्त डेटा प्रथाओं के अपने पैटर्न" के लिए अपने ऐप स्टोर से TikTok को हटाने के लिए कहा है. रिपोर्ट्स में सामने आया है कि चीन में TikTok के कर्मचारियों के पास जनवरी तक अमेरिका के यूजर्स के डेटा का एक्सेस था.


ब्रेंडन कैर ने सुंदर पिचाई (Sundar Pichai), Google की पेरेंट कपनी Alphabet के सीईओ और Apple के सीईओ टिम कुक (Tim Cook) को चिट्ठी में लिखा, “जैसा कि आप जानते हैं कि TikTok एक ऐसा ऐप है जो आपके ऐप स्टोर के माध्यम से लाखों अमेरिकियों के लिए उपलब्ध है, और यह उन अमेरिकी उपयोगकर्ताओं के बारे में संवेदनशील डेटा कलेक्ट करता है. TikTok का स्वामित्व बीजिंग स्थित ByteDance के पास है - एक ऐसा संगठन जो चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के लिए है और PRC की निगरानी मांगों का पालन करने के लिए चीनी कानून के तहत काम करता है.”


उन्होंने आगे लिखा, "यह स्पष्ट है कि TikTok अस्वीकार्य राष्ट्रीय सुरक्षा जोखिम पैदा करता है क्योंकि यह डेटा कलेक्ट करके बीजिंग भेज रहा है."

BuzzFeed News की रिपोर्ट सामने आने के बाद, TikTok ने तेजी से बचाव किया और घोषणा की कि यह सभी अमेरिकी उपयोगकर्ताओं के डेटा को देश में स्थित ओरेकल सर्वर पर ट्रांसफर कर रहा है. यह निर्दिष्ट करता है कि कंपनी अभी भी बैकअप के लिए अपने स्वयं के अमेरिका और सिंगापुर-आधारित सर्वर का उपयोग करती है. लेकिन भविष्य में, यह "हमारे अपने डेटा सेंटर से अमेरिका के उपयोगकर्ताओं के निजी डेटा को हटाने और अमेरिका में स्थित ओरेकल क्लाउड सर्वर पर पूरी तरह से आने के लिए तैयार है."


कंपनी ने कहा, "हम इस काम के अनुरूप ऑपरेशनल परिवर्तन भी कर रहे हैं - जिसमें हमने हाल ही में अमेरिका में बनाई गई लीडरशिप टीम को शामिल किया है, जो कि केवल टिकटॉक के लिए अमेरिकी यूजर्स के डेटा को मैनेज करेगी."


आपको बता दें कि TikTok की यूजर डेटा प्रैक्टिस कई बार संदेह के घेरे में आ चुकी है. 2020 में, भारत ने राष्ट्रीय सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए TikTok पर प्रतिबंध लगा दिया था. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और वर्तमान राष्ट्रपति जो बाइडेन, दोनों ने चीन के साथ शॉर्ट वीडियो ऐप के संबंधों और यह अमेरिकी उपयोगकर्ताओं के डेटा को कैसे प्रभावित करता है, इस पर सवाल उठाए हैं. जबकि ट्रम्प ने टिकटॉक पर एकमुश्त प्रतिबंध लगाने या स्थानीय खरीदार को अपने अमेरिकी व्यवसाय को बेचने का एक विकल्प प्रस्तावित किया, बाइडेन ने नए नियमों का प्रस्ताव दिया जो "विदेशी विरोधियों के अधिकार क्षेत्र" के संबंध में ऐप्स पर अधिक निगरानी देंगे जो राष्ट्रीय सुरक्षा जोखिम पैदा कर सकते हैं.