SBI में खुलते हैं 6 तरह के बचत खाते; फीचर्स, पात्रता, ​नियम व शर्तों की ये है पूरी डिटेल

By Ritika Singh
December 15, 2022, Updated on : Wed Dec 14 2022 18:31:33 GMT+0000
SBI में खुलते हैं 6 तरह के बचत खाते; फीचर्स, पात्रता, ​नियम व शर्तों की ये है पूरी डिटेल
आइए बताते हैं SBI के 6 तरह के बचत खातों की पूरी डिटेल...
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अगर आप बचत खाता (Savings Account) खुलवाना चाहते हैं और बैंक के तौर पर भारतीय स्टेट बैंक (SBI) का चुनाव किया है तो जान लें कि SBI में केवल एक तरह का बचत खाता नहीं खुलता है. SBI नागरिकों को बचत खाते के मामले में 6 विकल्पों की पेशकश करता है. हर बचत खाते की अपनी खासियत और सावधानियां हैं. आप अपनी जरूरत के आधार पर इनमें से चुनाव कर सकते हैं. आइए आपको बताते हैं SBI के इन 6 तरह के बचत खातों की पूरी डिटेल-

1. बेसिक सेविंग्‍स बैंक अकाउंट (BSBDA)

यह खाता किसी भी व्यक्ति द्वारा खुलवाया जा सकता है, बशर्ते उसके पास वैध केवाईसी डॉक्युमेंट्स हों. यह खाता मूल रूप से समाज के गरीब तबके के लिए है ताकि उन्हें चार्जेस या फीस के बोझ के बिना बचत करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके.


खासियत

– कोई भी भारतीय नागरिक एकल या ज्‍वॉइंट में यह खाता एसबीआई की किसी भी ब्रांच में खोल सकता है.

– इस अकाउंट को जीरो बैलेंस पर खोला जा सकता है, साथ ही मिनिमम मंथली बैलेंस रखने का झंझट नहीं है. न ही मैक्सिमम बैलेंस को लेकर कोई अपर लिमिट नहीं है.

– नॉर्मल सेविंग्‍स बैंक अकाउंट की तरह डिपॉजिट, बैंक शाखा या ATM से कैश विदड्रॉल, इंटरनेट बैंकिंग, फंड ट्रान्‍सफर, केन्‍द्र व राज्‍य सरकार की ओर से आने वाले चेक को डिपॉजिट करने की सुविधा है. ये सभी सर्विसेज फ्री हैं.

– BSBDA के तहत मिलने वाला रूपे एटीएम कम डेबिट कार्ड फ्री ऑफ चार्ज है, जिस पर कोई सालाना फीस नहीं है.

– नॉर्मल सेविंग्‍स अकाउंट को BSBDA अकाउंट में कन्‍वर्ट कराने की भी सुविधा है. इसके लिए लिखित में सहमति देनी होगी.

– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट की ब्‍याज दर इस पर भी लागू है.

– चेक बुक सुविधा नहीं है.

– केंद्रीय/राज्य सरकार द्वारा डाले गए चेकों का डिपॉजिट/कलेक्शन निःशुल्क होगा.


सावधानियां


– बैंक में एक से ज्‍यादा BSBDA नहीं खुलवा सकते.

– इस अकाउंट को खुलवाने के बाद बैंक में कोई और बचत खाता नहीं खोल सकते. पहले से बचत खाता है तो BSBDA खुलवाने के बाद पुराने सेविंग्‍स अकाउंट को 30 दिनों के अंदर बंद करवाना होगा. आप ऐसा नहीं करते हैं तो बैंक ऐसा कर देगा. हालांकि आप FD, करंट अकाउंट, RD जैसे अन्‍य अकाउंट रख सकते हैं.

– BSBDA से माह में 4 से ज्‍यादा केश विदड्रॉअल नहीं किए जा सकते. इसमें अपने बैंक के ATM या अन्‍य बैंक ATM से पैसे निकालना भी शामिल है. इसके अलावा 4 विदड्रॉअल की लिमिट खत्‍म हो जाने पर आप फंड ऑनलाइन पेमेंट या फंड ट्रान्‍सफर भी नहीं कर सकते. अगर ऐसा हुआ तो बैंक आपसे चार्ज वसूलने के लिए मुक्‍त हैं.

– तय सर्विसेज के अलावा बैंक BSBDA के लिए एडिशनल सर्विस जैसे चेकबुक फैसिलटी देने के लिए मुक्‍त हैं. इसके लिए बैंक चाहे तो चार्ज भी ले सकते हैं. ले‍किन एडिशनल सर्विसेज मिलने के बाद इस अकाउंट को BSBDA के तौर पर ट्रीट नहीं किया जाएगा. यानी यह स्‍मॉल या नॉर्मल सेविंग्‍स अकाउंट बन जाएगा.

– BSBDA को खोलने के बाद 12 महीनों के अंदर KYC पूरी करानी होती है. उसके बाद अगर आपके पास कोई ऑफिशियल डॉक्‍युमेंट नहीं है लेकिन आपने उसक लिए अप्‍लाई कर रखा है तो इसका प्रूफ देने पर बैंक KYC के लिए अवधि और 12 महीने बढ़ा सकते हैं.

– एनईएफटी/आरटीजीएस जैसे इलेक्ट्रानिक भुगतान माध्यमों के माध्यम से राशि की प्राप्ति/ क्रेडिट निःशुल्क रहेंगी.

– असक्रिय खातों को सक्रिय करने पर कोई चार्जेस नहीं.

– खाता बंद करने के लिए कोई चार्जेस नहीं.

2. बेसिक सेविंग्स बैंक डिपॉजिट स्‍मॉल अकाउंट

यह खाता वैध केवाईसी डॉक्युमेंट्स न रखने वाले 18 वर्ष से अधिक की आयु के किसी भी व्यक्ति द्वारा खोला जा सकता है. केवाईसी में ढील के कारण खाते के परिचालन में कई प्रतिबंध होते हैं. केवाईसी डॉक्युमेंट्स प्रस्तुत करने के बाद खाते को नियमित/सामान्य बचत खाते में परिवर्तित किया जा सकता है. यह खाता मूल रूप से समाज के गरीब तबके के लिए है ताकि उन्हें चार्जेस या फीस के बोझ के बिना बचत करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके.


खासियत

– कोई भी भारतीय नागरिक एकल या ज्‍वॉइंट में खोल सकता है.

– विशेषीकृत शाखाओं जैसे वैयक्तिक बैंकिंग शाखाओं(पीबीबी)/ विशेष वैयक्तिक बैंकिंग (एसपीबी)/मिड कॉर्पोरेट समूह (एमसीजी)/ कॉर्पोरेट खाता समूह (सीएजी) शाखाओं को छोड़कर सभी शाखाओं में उपलब्ध.

– यह खाता बिना KYC भी खुल जाता है, हालांकि अकांउट ओपनिंग के 24 महीनों के अंदर केवाईसी कराना जरूरी है.

– मिनिमम बैलेंस रखने का झंझट नहीं

– मैक्सिमम बैलेंस- 50,000 रुपये

– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट की ब्‍याज दर लागू

– बेसिक रूपे ATM कम डेबिट कार्ड, ATM फ्री ऑफ कॉस्‍ट, कोई सालाना मेंटीनेंस फीस नहीं

– नॉर्मल सेविंग्‍स बैंक अकाउंट की तरह डिपॉजिट, बैंक या ATM से कैश विदड्रॉल, इंटरनेट बैंकिंग, फंड ट्रान्‍सफर, केन्‍द्र व राज्‍य सरकार की ओर से आने वाले चेक को डिपॉजिट करने की सुविधा. ये सभी सर्विसेज फ्री हैं.

– अकांउट बंद करने पर चार्ज नहीं

– स्‍मॉल अकाउंट को रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट BSBDA में कन्‍वर्ट कराने की सुविधा

– एनईएफटी/ आरटीजीएस जैसे इलेक्ट्रानिक भुगतान माध्यमों से राशि की प्राप्ति/ जमा निःशुल्क रहेंगे।

– केंद्रीय/राज्य सरकार द्वारा डाले गए चेकों का डिपॉजिट/कलेक्शन निःशुल्क होगा.

खाता बंद करने के लिए कोई चार्ज नहीं.


सावधानी

– विदड्रॉल और ट्रान्‍सफर एक माह में 10,000 रुपये से ज्‍यादा नहीं होना चाहिए. एक वित्त वर्ष में सभी जमा की राशि 1 लाख रुपये से ज्‍यादा नहीं होनी चाहिए.

– यदि एक वर्ष में खाते में बैलेंस राशि 50,000 रुपये से अधिक अथवा कुल जमा 1 लाख रुपये से अधिक हो जाए, तो संपूर्ण केवाईसी प्रक्रिया का अनुपालन होने तक आगे किसी लेनदेन करने की अनुमति नहीं होगी.

– माह में 4 से ज्‍यादा विदड्रॉल नहीं किए जा सकते. इसमें एसबीआई बैंक ATM या अन्‍य बैंक ATM से पैसे निकालना, इंटरनेट बैंकिंग, ब्रान्‍च, ट्रान्‍सफर आदि भी शामिल है. माह के दौरान ग्राहक को खाते से में इससे अधिक डेबिट की अनुमति नहीं दी जाएगी.

– वैध डॉक्युमेंट्स की प्रस्तुति के माध्यम से ग्राहक की पूर्ण पहचान स्थापित न होने तक स्मॉल अकाउंट में फॉरेन रेमिटेंसेज की अनुमति नहीं होगी.

– शुरू में स्मॉल अकाउंट 12 माह की अवधि के लिए परिचालन में रहेगा और उसके बाद आगे 12 माह की अवधि के लिए खाता धारक को बैंक के समक्ष यह साक्ष्य प्रस्तुत करना होगा कि उसने खाता खुलवाने के 12 माह के भीतर किसी वैध डॉक्युमेंट के लिए आवेदन किया है, 24 माह के पश्चात संबंधित खाते को दी गई छूट के सभी प्रावधानों की समीक्षा की जाएगी.

3. SBI रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट

खासियत


– सिंगल या जॉइंट में खोला जा सकता है.

– मंथली एवरेज बैलेंस: निल

– मैक्सिमम बैलेंस की कोई लिमिट नहीं

– लॉकर लेने की सुविधा, नॉमिनेशन फैसिलिटी, SMS अलर्ट, ई-स्‍टेटमेंट फैसिलिटी

– स्‍वीप इन फैसिलिटी या फ्लेक्‍सी अकाउंट ऑप्‍शन लेने की सुविधा. इसमें अकाउंट FD से लिंक हो जाता है और एक निश्चित अमांउट के पार बैलेंस जाने पर अतिरिक्‍त बैलेंस ऑटोमेटिकली FD में कन्‍वर्ट हो जाता है.

– ATM कार्ड, मोबाइल बैंकिंग, इंटरनेट बैंकिंग, मिस्‍ड कॉल बैंकिंग, स्टेट बैंक एनीवेयर, योनो, रिवार्ड प्रोग्राम

– पर्सनल एक्‍सीडेंट व हेल्‍थ इंश्‍योरेंस

– एक वित्त वर्ष में पहले 10 चेक फ्री. उसके बाद 10 चेक वाली चेकबुक के लिए 40 रुपये प्लस जीएसटी और 25 चेक वाली चेकबुक के लिए 75 रुपये प्लस जीएसटी देना होगा.

– मासिक एवरेज बैलेंस के आधार पर सीमित फ्री विदड्रॉअल

– इंटरनेट बैंकिंग चैनल के माध्यम से खातों के ट्रांसफर की सुविधा.

– लेनदेनों को दर्ज करने के लिए एक पासबुक जारी की जाती है. मूल पासबुक के खो जाने पर, मूल्य का भुगतान कर डुप्लीकेट पासबुक ली जा सकती है. खाता विवरण ईमेल के जरिए भी भेजा जा सकता है.

– निशुल्क कंसोलिडेटेड अकाउंट स्टेटमेंट

4. SBI डिजिटल सेविंग्‍स अकाउंट

– इसे SBI के योनो ऐप से खुलवाया जा सकता है. एक इन्‍सान एक ही अकाउंट खुलवा सकता है. 18 वर्ष से ज्यादा का निवासी भारतीय ही इसे खुलवा सकता है.

– यह अकाउंट जॉइंट में नहीं खुलवाया जा सकता है. अगर इसे जॉइंट अकाउंट में कन्वर्ट करना है तो खाताधारक को होम ब्रांच जाकर इसे नॉर्मल सेविंग्स अकाउंट में कन्वर्ट कराना होगा.

– ग्राहक डिजिटल सेविंग्स अकाउंट खोलने के लिए जिस ब्रांच का चुनाव करेगा, वही होम ब्रांच मानी जाएगी.

– कस्‍टमर चाहे तो इसे रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट में कन्‍वर्ट भी करा सकता है.

– इसमें चेकबुक लेने का ऑप्‍शन है और चेकबुक चार्जेस, नॉर्मल सेविंग्स अकाउंट वाले ही होंगे.

– इस अकाउंट में कस्‍टमर को फ्री में क्लासिक डेबिट कार्ड इश्‍यू किया जाता है. सालाना मेंटीनेंस चार्जेस, नॉर्मल सेविंग्स अकाउंट के लिए लागू दिशानिर्देशों के अनुरूप होंगे.

– डिजिटल सेविंग्‍स अकाउंट में पासबुक की सुविधा नहीं है. अकाउंट स्‍टेटमेंट ऐप पर शो होता है.

– नॉमिनी बनाने की फैसिलिटी

– ATM से 1 लाख रुपये तक का कैश निकालने की सुविधा

– अकाउंट को बंद कराने के लिए होम ब्रांच में एप्लीकेशन देनी होगी.

– ग्राहक को किसी भी एसबीआई ब्रांच में जाकर बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन के माध्यम से ई—केवाईसी पूरी करनी होगी.

5. SBI सेविंग्‍स प्‍लस अकाउंट

SBI का यह अकाउंट स्‍वीप इन फैसिलिटी वाला है. इसके तहत इस सेविंग्‍स अकाउंट में एक तय लिमिट से ज्‍यादा बैलेंस होने पर अतिरिक्‍त अमाउंट FD में ऑटोमेटिकली कन्‍वर्ट हो जाएगा और उस अमाउंट पर FD वाला ब्‍याज मिलेगा. जब सेविंग्‍स अकाउंट का टोटल बैलेंस उस तय लिमिट से कम हो जाएगा तो एफडी खत्‍म हो जाएगी. SBI का यह अकाउंट बैंक के मल्‍टी ऑप्‍शन डिपॉजिट से लिंक होता है.


– इसे कोई भी खुलवा सकता है. यह एकल या ज्‍वॉइंट दोनों तरह से खोला जा सकता है.

– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट वाली ब्‍याज दर लागू

– स्‍वीप इन फैसिलिटी के लिए अकाउंट बैलेंस 35,000 रुपये (ग्राहक द्वारा निर्धारित किया जाएगा) से ज्‍यादा होना जरूरी

– मिनिमम 10,000 रुपये स्‍वीप इन के तहत FD में ट्रान्‍सफर होंगे.

– स्‍वीप इन फैसिलिटी के तहत होने वाली FD का टेन्‍योर 1 साल से लेकर 5 साल तक रख सकते हैं.

– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट की तरह ATM, मोबाइल बैंकिंग, नेट बैंकिंग, SMS अलर्ट, SBI Anywhere की सुविधा

– स्‍वीप इन FD पर लोन की सुविधा

– प्रतिवर्ष 25 चेक फ्री. इसके बाद और अधिक चेक ग्राहक द्वारा खाते में मेंटेन किए गए तिमाही एवरेज बैलेंस के आधार पर शुल्क के साथ जारी किए जाएंगे.

– मेंटेन किए गए मासिक एवरेज बैलेंस के आधार पर सीमित निःशुल्क विदड्रॉअल

– इंटरनेट बैंकिंग के जरिए खातों का ट्रांसफर

– मैक्सिमम बैलेंस– कोई सीमा नहीं

– लेनदेन रिकॉर्ड करने के लिए एक पासबुक जारी की जाती है. मूल पासबुक के खो जाने पर, शुल्क के भुगतान पर डुप्लीकेट पासबुक जारी की जा सकती है.

– एवरेज मंथली बैलेंस: शून्य

6. SBI सेविंग्‍स अकाउंट फॉर माइनर

SBI में बच्‍चों/नाबालिगों के लिए दो तरह के बचत खाते पहला कदम और पहली उड़ान खोले जा सकते हैं. पहला कदम अकाउंट किसी भी उम्र के बच्‍चे के लिए खुलवाया जा सकता है. इसे माता-पिता या गार्जियन के साथ ज्‍वॉइंट में खोला जाता है. पहली उड़ान 10 साल से ज्‍यादा उम्र के बच्‍चे के लिए एकल आधार पर खोला जाता है. पहला कदम खाता माता-पिता/अभिभावक के साथ संयुक्त रूप से अथवा माता-पिता/अभिभावक द्वारा एकल रूप से परिचालित होगा. पहली उड़ान खाता एकल रूप से परिचालित होगा.


– दोनों खातों में मिनिमम मंथली बैलेंस रखने से छूट है.

– रेगुलर सेविंग्‍स अकाउंट की ब्‍याज दर लागू

– दोनों अकाउंट के लिए मैक्सिमम बैलेंस लिमिट 10 लाख रुपये है.

– इंटरनेट बैंकिंग, चेकबुक, फोटो ATM कम डेबिट कार्ड, मोबाइल बैंकिंग की सुविधा

– ATM से विदड्रॉल लिमिट 5000 रुपये

– 20,000 रुपये से ज्‍यादा बैलेंस पर स्‍वीप इन की सुविधा

– खाते के व्यूइंग राइट्स और बिल भुगतान, टॉप अप जैसे सीमित लेनदेन अधिकार के साथ 2,000 रु. की दैनिक लेनदेन सीमा.

– खाता संख्या बदले बिना खाते को एसबीआई की किसी भी शाखा में ट्रांसफर किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें
SBI ने FD पर ब्याज 1% तक बढ़ाया, अब ये हैं नई दरें