भारत में अगले 2-4 वर्षों में होंगे 122 नए यूनिकॉर्न: Hurun रिपोर्ट

By रविकांत पारीक
June 30, 2022, Updated on : Thu Jun 30 2022 06:43:28 GMT+0000
भारत में अगले 2-4 वर्षों में होंगे 122 नए यूनिकॉर्न: Hurun रिपोर्ट
हुरुन रिसर्च ने भारत के 25 शहरों में से 122 भविष्य के यूनिकॉर्न की पहचान की. बेंगलुरू 46 यूनिकॉर्न के साथ भारत की यूनिकॉर्न-राजधानी बना हुआ है, जिसमें दिल्ली एनसीआर और मुंबई क्रमशः 25 और 16 यूनिकॉर्न के साथ दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हुरुन रिसर्च इंस्टीट्यूट (Hurun Research Institute) ने बुधवार को एएसके प्राइवेट वेल्थ हुरुन इंडिया फ्यूचर यूनिकॉर्न इंडेक्स 2022 (ASK Private Wealth Hurun India Future Unicorn Index 2022) का अनावरण किया, जो 2000 के दशक में स्थापित भारत के स्टार्टअप (Indian Startups) की रैंकिंग है, जिसका मूल्य कम से कम 200 मिलियन अमेरिकी डॉलर हो, जो अभी तक पब्लिक एक्सचेंज में सूचीबद्ध नहीं है. इंडेक्स ने कंपनियों को यूनिकॉर्न (2000 के बाद स्थापित और कम से कम 1 बिलियन डॉलर का मूल्य), गजेल्स (Gazelles) (जिनके अगले दो वर्षों में यूनिकॉर्न बनने की सबसे अधिक संभावना है), और चीता (Cheetahs) (स्टार्टअप जो अगले 4 साल में यूनिकॉर्न बन सकते हैं) के रूप में वर्गीकृत किया गया है.


लिस्ट में शामिल संभावित यूनिकॉर्न की स्थापना औसतन 2015 में हुई थी, जिसमें अधिकांश सॉफ्टवेयर और सर्विस से जुड़े हुए हैं और केवल 17% भौतिक वस्तुओं को सेल कर रहे हैं. 37% बिजनेस-टू-बिजनेस (B2B) सेलर हैं, जबकि 63% कंज्यूमर फेसिंग हैं. फाइनेंशियल सर्विस, लॉजिस्टिक, हेल्थकेयर और एजुकेशन भविष्य के यूनिकॉर्न द्वारा सबसे अधिक डिसरप्टिव क्षेत्र हैं.


हुरुन रिसर्च ने भारत के 25 शहरों में से 122 भविष्य के यूनिकॉर्न की पहचान की. बेंगलुरू 46 यूनिकॉर्न के साथ भारत की यूनिकॉर्न-राजधानी बना हुआ है, जिसमें दिल्ली एनसीआर और मुंबई क्रमशः 25 और 16 यूनिकॉर्न के साथ दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं.


ASK Wealth Advisors Pvt Ltd के सीईओ और एमडी राजेश सलूजा ने कहा, “अमेरिका और चीन के बाद भारत स्टार्टअप्स के लिए तीसरे सबसे बड़े इकोसिस्टम के रूप में उभरा है, और 2021 में रिकॉर्ड 44 स्टार्टअप्स को यूनिकॉर्न को बनते हुए देखा. लाखों उपभोक्ताओं को लाभान्वित करने की क्षमता रखने वाले नए आइडिया और इनोवेशन को स्टार्टअप इकोसिस्टम द्वारा विकसित किया जा रहा है."


उन्होंने कहा कि “ASK Private Wealth Hurun India Future Unicorn लिस्ट आज कल के लीर्डस को प्रदर्शित करती है. हम गजेल्स और चीता, स्टार्टअप इकोसिस्टम के उभरते सितारे, और संभवत, भविष्य के यूनिकॉर्न पर स्पॉटलाइट चमकाते हैं. पिछले साल की लिस्ट से 17 गजेल्स और 7 चीता ने इस साल यूनिकॉर्न की लिस्ट में है. वैल्थ मैनेजर होने के नाते, हमारे लिए, यह रिपोर्ट केवल स्टार्टअप का एक संग्रह नहीं है, बल्कि इस बात का प्रतिबिंब है कि फाउंडर कैसे मूल्य पैदा कर रहे हैं. हमें विश्वास है कि इस इकोसिस्टम में वैल्यूएशन की वर्तमान स्क्रूटनी, लंबी अवधि में अधिक सस्टेनेबल बिजनेस मॉडल बनाने में मदद करेगी.


Hurun India के एमडी और चीफ रिसर्चर अनस रहमान जुनैद ने कहा, "ASK Private Wealth Hurun India Future Unicorn Index 2022 को संकलित करते समय, हमने पाया कि देश का स्टार्टअप इकोसिस्टम एक अभूतपूर्व दर से विस्तार कर रहा है. केवल एक वर्ष में, यूनिकॉर्न की संख्या में 65% की वृद्धि हुई है,गजेल्स की संख्या 59% से बढ़कर 51 हो गई है, और चीतों की संख्या 31% से बढ़कर 71 हो गई है. संभवतः, महामारी ने पारंपरिक व्यवसायों के डिसरप्शन को को तेज कर दिया है और स्टार्टअप के उद्भव को बढ़ावा दिया. इकोसिस्टम धीरे-धीरे अपेक्षित परिपक्वता और लचीलापन प्राप्त कर रहा है."


"कुछ वैश्विक आर्थिक चिंताएं हैं जो भारतीय स्टार्टअप के मूल्यांकन और पूंजी जुटाने की क्षमताओं को प्रभावित कर सकती हैं." इसके अतिरिक्त, कुछ भारतीय स्टार्टअप छंटनी और लागत में कटौती के उपायों को लागू कर रहे हैं, जिससे इकोसिस्टम में मंदी की अटकलों को हवा मिल रही है. हमारा मानना है कि विकास की कहानी में एक अल्पकालिक झटका हो सकता है, लेकिन भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम की दीर्घकालिक क्षमता उत्कृष्ट और लचीला बनी हुई है. मूल्यांकन प्रक्रिया के दौरान महसूस किया गया दबाव और डिलिवरेबल्स के बढ़े हुए निरीक्षण से सिस्टम की नींव को व्यापक बनाने में मदद मिल सकती है."

गज़ेल: अगले दो वर्षों में यूनिकॉर्न

हुरुन रिपोर्ट एक गज़ेल को उस स्टार्टअप के रूप में परिभाषित करती है जिसे वर्ष 2000 के बाद बनाया गया था और जिसमें दो साल के भीतर यूनिकॉर्न बनने की क्षमता है. गजेल अपनी चपलता और गति के कारण चीते को पछाड़ने में सक्षम है. एएसके प्राइवेट वेल्थ हुरुन इंडिया फ्यूचर यूनिकॉर्न इंडेक्स 2022 से शीर्ष दस गजेल की सूची नीचे दी गई है, जिनके अगले दो वर्षों के दौरान यूनिकॉर्न बनने की उम्मीद है.


एएसके प्राइवेट वेल्थ हुरुन इंडिया फ्यूचर यूनिकॉर्न इंडेक्स 2022 पर गैज़ेल्स का मूल्य 500 मिलियन डॉलर और 1 बिलियन डॉलर के बीच होने का अनुमान है. गज़ेल पैक का नेतृत्व पांच साल पुराने लॉजिस्टिक्स टेक स्टार्टअप Shiprocket द्वारा किया जाता है, इसके बाद Zepto, Turtlemint, Ather Energy और Vivriti Capital का स्थान आता है.

Source: Hurun Research Institute. ASK Private Wealth Hurun India Future Unicorn Index 2022

Source: Hurun Research Institute. ASK Private Wealth Hurun India Future Unicorn Index 2022

चीता: अगले चार वर्षों में यूनिकॉर्न

हुरुन रिपोर्ट के अनुसार, एक "चीता" ऐसा स्टार्टअप है जिसे 2000 के बाद बनाया गया था और अगले चार वर्षों में यूनिकॉर्न बनने की क्षमता रखता है. इस वर्ष की रिपोर्ट में हुरुन क्लासिफिकेशन को मान्य किया गया है, क्योंकि पिछले इंडेक्स के छह चीता, गज़ेल चरण को 'छोड़कर' यूनिकॉर्न क्लब में प्रवेश कर गए थे. इस साल, चीता पैक का नेतृत्व Pepperfry द्वारा किया जाता है, इसके बाद बेंगलुरु स्थित Juspay और फिर रतन टाटा (Ratan Tata) समर्थित फिनटेक Mswipe Technologies का स्थान आता है.

Source: Hurun Research Institute. ASK Private Wealth Hurun India Future Unicorn Index 2022

Source: Hurun Research Institute. ASK Private Wealth Hurun India Future Unicorn Index 2022

इंडेक्स में सबसे कम उम्र के स्टार्टअप फाउंडर कैवल्य वोहरा (19) और आदित पालिचा (20) हैं, दोनों ने मुंबई बेस्ट कंपनी Zepto की को-फाउंडर की जो कि 10 मिनट की ग्रोसरी डिलीवरी करती है. इंडेक्स में सबसे बड़े फाउंडर Ecom Express के 61 वर्षीय सत्यनारायण हैं. इंडेक्स में भारतीय स्टार्टअप फाउंडर्स की औसत आयु 38 है. 30 से कम आयु के 18 स्टार्टअप फाउंडर हैं और 50 से ऊपर आयु वर्ग के 19 हैं. एएसके प्राइवेट वेल्थ हुरुन इंडिया फ्यूचर यूनिकॉर्न इंडेक्स 2022 में पंद्रह कंपनियों में एक महिला को-फाउंडर. 27 के साथ फिनटेक ने एएसके प्राइवेट वेल्थ हुरुन इंडिया फ्यूचर यूनिकॉर्न इंडेक्स 2022 में सबसे अधिक स्टार्टअप का योगदान दिया, इसके बाद 14 के साथ ई-कॉमर्स और 11 के साथ एसएएएस है. इंडेक्स में लगभग आधी कंपनियां फिनटेक, ई-कॉमर्स एसएएएश और एडटेक की शामिल है. भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम में अन्य संभावित क्षेत्रों में एग्रीटेक, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, हेल्थटेक और शेयर्ड इकोनॉमी शामिल हैं.


स्टार्टअप्स को उनकी सबसे हालिया फंड रेसिंग राउंड के आधार पर रैंकिंग दी गई है. एएसके प्राइवेट वेल्थ हुरुन इंडिया फ्यूचर यूनिकॉर्न इंडेक्स 2022 का उद्देश्य भारत के तेजी से विस्तार करने वाले स्टार्टअप इकोसिस्टम को निवेशकों की सरकारों के, पारिवारिक कार्यालयों, इच्छुक उद्यमियों और वैश्विक दुनिया को अर्थव्यवस्था में विकास की गति दिखाना है.