पहली मेड-इन-इंडिया सेमीकंडक्टर चिप दिसंबर 2024 तक आएगी: केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव

अमेरिका में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जारी एक संयुक्त बयान के बाद मीडिया को जानकारी देते हुए केंद्रीय संचार और आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा, "पहली मेड-इन-इंडिया चिप दिसंबर 2024 तक सामने आ जाएगी."

केंद्रीय संचार और आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शुक्रवार को कहा कि पहले मेड-इन-इंडिया चिप्स दिसंबर 2024 तक लॉन्च होने की उम्मीद है. उन्होंने कहा, एक साल के भीतर देश में 4-5 सेमीकंडक्टर फैक्ट्रियां लगने का अनुमान है.

अमेरिका में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जारी एक संयुक्त बयान के बाद मीडिया को जानकारी देते हुए वैष्णव ने कहा, "पहली मेड-इन-इंडिया चिप दिसंबर 2024 तक सामने आ जाएगी."

उन्होंने कहा कि गुजरात में स्थापित होने वाले माइक्रोन सेमीकंडक्टर प्लांट के लिए भूमि आवंटन, फैक्ट्री डिजाइन कार्य और कर अनुपालन संबंधी समझौता पूरा हो चुका है.

वैष्णव ने कहा, "माइक्रोन की पहली मेड-इन इंडिया चिप अब से लगभग छह तिमाहियों में आने की उम्मीद है."

अमेरिकी चिप निर्माता माइक्रोन टेक्नोलॉजी ने 22 जून को घोषणा की कि वह गुजरात में एक नई चिप असेंबली और परीक्षण सुविधा में 825 मिलियन डॉलर तक का निवेश करेगी. यह देश में कंपनी की पहली फैक्ट्री होगी.

माइक्रोन ने कहा, केंद्र और गुजरात सरकार के समर्थन से, फैक्ट्री में कुल निवेश 2.75 अरब डॉलर होगा. इसमें से 50 प्रतिशत योगदान केंद्र सरकार और 20 प्रतिशत गुजरात राज्य से आएगा.

माइक्रोन ने पहले कहा था, गुजरात में फैक्ट्री का निर्माण 2023 में शुरू होने की उम्मीद है. परियोजना का पहला चरण 2024 के अंत में चालू होने की संभावना है.

प्लांट की कुल लागत में माइक्रोन से 825 मिलियन डॉलर और शेष सरकार से दो चरणों में आएगा. फैक्ट्री का चरणबद्ध निर्माण 2023 में शुरू होने की उम्मीद है. चरण 1, जिसमें 500,000 वर्ग फुट नियोजित स्वच्छ कमरे की जगह शामिल होगी, 2024 के अंत में चालू हो जाएगी.

माइक्रोन ने कहा है कि प्लांट अगले कई वर्षों में 5,000 नई प्रत्यक्ष नौकरियां और 15,000 सामुदायिक नौकरियां पैदा करेगा.

यह भी पढ़ें
गुजरात में Micron लगाएगी 2.75 अरब डॉलर का सेमीकंडक्टर प्लांट, 5000 लोगों को मिलेगी नौकरी