Flipkart के छोटे कारोबारियों की चमकी किस्मत, कैसे?

By रविकांत पारीक
November 14, 2022, Updated on : Wed Nov 16 2022 05:33:15 GMT+0000
Flipkart के छोटे कारोबारियों की चमकी किस्मत, कैसे?
यहां फ्लिपकार्ट से जुड़े उद्यमियों की सफलता की कहानियां पेश की गई हैं जिनसे पता चलता है कि डिजिटल परिवर्तन से स्थानीय कारोबार में किस हद तक बदलाव आ सकते हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

फ्लिपकार्ट (Flipkart) मार्केटप्लेस सिर्फ चीज़ें खरीदने और बेचने के प्लेटफॉर्म से कहीं अधिक बढ़कर है क्योंकि यह हमारे समाज के सभी हिस्सों को सशक्त बनाने और उन्हें बेहतर बनाने का प्रयास करता है. द बिग बिलियन डेज़ (The Big Billion Days - TBBD) के दौरान लाखों भारतीयों ने ऑनलाइन खरीदारी की, ऐसे में छोटे कारोबारों और शिल्पकारों को प्रोडक्ट्स की व्यापक रेंज के साथ प्लेटफॉर्म पर अपनी पहुंच का विस्तार करने का बेहतरीन अवसर मिला, उन्हें अपनी कुशलता व “मेक इन इंडिया” (Make In India) प्रोडक्ट्स का प्रदर्शन करने का मौका मिला. साथ ही, उन्हें अपने कारोबारी लक्ष्य हासिल करने का मौका भी मिला.


इस वर्ष की शुरुआत में फ्लिपकार्ट ने मार्केटप्लेस से जुड़ी नीतियों में कुछ ऐसे बदलाव किए जो उद्योग में पहली बार किए गए. इसके अलावा कंपनी ने पूरे देश में फैले अपने विक्रेता पार्टनर्स की वृद्धि, समृद्धि और उन्हें सशक्त बनाने में योगदान देने के लिए पहले के मुकाबले ई-कॉमर्स ईकोसिस्टम तैयार के उद्देश्य से नई क्षमताएं भी जोड़ी हैं.


यहां फ्लिपकार्ट से जुड़े उद्यमियों की सफलता की कहानियां पेश की गई हैं जिनसे पता चलता है कि डिजिटल परिवर्तन से स्थानीय कारोबार में किस हद तक बदलाव आ सकते हैं.

कनिका चावला, Lashkara Essentials

दिल्ली की रहने वाली कनिका चावला, लशकारा इसेंशियल्स की संस्थापक हैं जो घर को बेहतर बनाने से जुड़ी ज़रूरी चीज़ें बेचती है. कनिका उद्देश्यों के दम पर आगे बढ़ने वाली महिला हैं जिससे उन्हें अपना कारोबार शुरू करने का प्रोत्साहन मिला. उन्होंने हमेशा ही शैक्षणिक योग्यताओं को प्राथमिकता दी है और कॉमर्स में बैचलर्स डिग्री और एमएससी की पढ़ाई पूरी की. इसके बाद उन्होंने पांच वर्षों से अधिक समय तक दिल्ली विश्वविद्यालय में लेक्चरर के तौर पर अपनी सेवाएं भी दीं. इसके बाद कनिका ने 2019 में अपना खुद का कारोबार शुरू करने का निर्णय लिया.


कारोबार के शुरुआती दौर में कनिका ने तीन-चार प्रोडक्ट्स के साथ अपने दम पर लशकारा इसेंशियल्स की शुरुआत अपने घर पर छोटी अलमारी से की थी. फ्लिपकार्ट की ओर से समय से मिलने वाली मदद और प्रोडक्ट मैनेजर्स से मिलने वाले मार्गदर्शन के साथ, कनिका ने अपनी ऑनलाइन उपस्थिति का विस्तार किया और आज 14 लोगों की टीम उनके साथ काम कर रही है. पिछले 2 वर्षों में उन्होंने दिल्ली में 4 वेयरहाउस बना लिए हैं और इसके अलावा वह बेंगलुरू में फ्लिपकार्ट के वेयरहाउस का भी इस्तेमाल कर रही हैं. उनका कारोबार फ्लिपकार्ट के ब्रैंड अल्फा के लिए घर से जुड़ी ज़रूरी चीज़ों की आपूर्ति करती है.


अपने सफर के बारे में कनिका ने कहा, “पीछे मुड़कर देखने पर मुझे अहसास होता है कि मैंने काफी लंबा सफर तय कर लिया है, क्योंकि मैंने सिर्फ 3-4 चीज़ों के साथ शुरुआत की थी, लेकिन आज लशकारा इसेंशियल्स घर के सजावटी सामान से लेकर ज़रूरी चीज़ों तक बहुत सारे प्रोडक्ट्स की पेशकश करता है. फ्लिपकार्ट से मिली मदद और सालों की कड़ी मेहनत के दम पर मैं गर्वपूर्वक यह कह सकती हूं कि मैं आज फ्लिपकार्ट पर प्लेटिनम विक्रेता हूं. अपने कारोबार को बढ़ता हुआ देखने से मुझे बहुत खुशी होती है और इससे मुझे पहले से ज़्यादा मेहनत करने व पहले से बेहतर करने का प्रोत्साहन मिलता है. किसी अन्य उद्यम की ही तरह कनिका को भी शुरुआत में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा.” उन्होंने कहा, “जब ऑनलाइन मांग उच्च स्तर पर थी तब हमारे सामने भरोसेमंद संसाधन जुटाने, विश्वसनीय कर्मचारियों की कमी के साथ-साथ तकनीकी दिक्कतों का भी सामना करना पड़ा. इसलिए शुरू से लेकर आखिर सब कुछ या तो मैं करती थी या मेरे पति. हालांकि, ये बहुत छोटी चुनौतियां थीं और फ्लिपकार्ट की मदद से हम यह कारोबार जारी रख सके.”


फ्लिपकार्ट के सेलर सपोर्ट की मदद से कनिका खुद ही अपने कारोबार के परिचालन से जुड़े सभी काम कर सकीं. वह प्लेटफॉर्म से मिली मदद और ऑनलाइन ईकोसिस्टम के बारे में अपनी जानकारी को बेहतर बनाने के लिए दी गई ट्रेनिंग की सराहना करती हैं जिससे उन्हें अपने कारोबार को बेहतर बनाने और भविष्य के लिहाज से तैयार करने में मदद मिली.


फ्लिपकार्ट का सालाना आयोजन, कनिका जैसे उद्यमियों के लिए ऐसा बेहतरीन मौका होता है जिसमें उन्हें न सिर्फ अपनी कमाई बढ़ाने का मौका मिलता है, बल्कि इससे उन्हें अपने कारोबारी सपनों को सच करने का मौका भी मिलता है. कनिका पिछले तीन वर्षों से द बिग बिलियन डेज़ का हिस्सा रही हैं. त्योहारों के इस सीज़न के दौरान प्लेटफॉर्म के शानदार प्रदर्शन के बारे में अपने विचार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा, “इस उत्साह का गवाह बनना और मांग में होने वाली बढ़ोतरी मेरी टीम के लिए बहुत प्रोत्साहित करने का मौका रहा. पूरे देश से “लशकारा इसेंशियल्स” के लिए मिल रहे अनुरोध को लेकर हम बेहद खुश हैं. त्योहारों के सेल के दौरान कारोबार पीक पर था और कारोबार का प्रदर्शन बहुत ही बेहतरीन रहा. पिछले वर्ष के मुकाबले कारोबार इस वर्ष 4 गुना बढ़ा. फ्लिपकार्ट अकाउंट मैनेजर के साथ लगातार जुड़ाव, मदद करने वाली फ्लैश डील और वेयरहाउसिंग से जुड़े बुनियादी ढांचे ने इस टीबीबीडी को सफल बनाया. ग्राहकों की उम्मीदों को पूरा करने और उन तक सेवाएं पहुंचाने के लिए फ्लिपकार्ट के साथ मिलकर काम करना हमेशा ही खुशनुमा अनुभव रहा है. हम अपने ब्रैंड के प्रति ग्राहकों द्वारा दिखाए गए भरोसे से प्रोत्साहित हैं जिसका प्लेटफॉर्म पर सकारात्मक रिव्यू से प्रमाण मिलता है. “लशकारा इसेंशियल्स” अब स्थानीय कारोबार नहीं रह गया है और फ्लिपकार्ट की सहायता व कड़ी मेहनत से हमारा विस्तार राष्ट्रीय स्तर पर आज नई ऊंचाइयों तक पहुंच रहा है.”

प्रिया कुमारी, Local Charm

प्रिया कुमारी 30 वर्षीय उद्यमी हैं जो 2020 में विक्रेता के तौर पर फ्लिपकार्ट मार्केटप्लेस जुड़ी थीं. वह दिल्ली में अपने पति और नौ महीने के बेटे के साथ रहती हैं. हालांकि प्रिया पर नई-नई मां बनने की ज़िम्मेदारी आई है लेकिन अपने भीतर की उद्यमिता की भावना को कभी मरने नहीं दिया. पहले वह अपना पेशा नहीं चुन सकीं, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी. उन्होंने ऐसा इंटरनेट कारोबार शुरू करने का निर्णय लिया जिसे वह मां होने की ज़िम्मेदारी निभाने के साथ-साथ चालू रख सकें. इससे लोकल चार्म को जन्म मिला जो दिवाली की लाइट, रक्षाबंधन के दौरान राखी, बालों से जुड़ी ऐक्सेसरी जैसे सीज़नल प्रोडक्ट बेचता है. 2,500 रुपये के निवेश के साथ शुरू हुआ यह कारोबार आज फ्लिपकार्ट पर ऑनलाइन कारोबार बन गया.


द बिग बिलियन डेज़ के दौरान अपने अनुभव के बारे में प्रिया ने कहा, “कारोबारी वृद्धि के लिहाज़ से इस वर्ष का बिग बिलियन डेज़ सबसे यादगार रहा. त्योहारों के पिछले सीज़न से तुलना की जाए तो हमारी बिक्री दोगुना तक बढ़ गई है. इस दौरान अधिकतम बिक्री करीब 200 ऑर्डर तक रही जो हमारी रोज़ाना की बिक्री के मुकाबले लगभग चार गुना तक ज़्यादा है. इसके अलावा, औसत बिक्री मूल्य यानी एवरेज सेलिंग प्राइस (एएसपी) काफी हद तक बढ़ गया और कुछ दिनों के दौरान सामान्य स्तर के मुकाबले तीन या चार गुना तक बढ़ गया, खास तौर पर त्योहारी बिक्री के शुरुआती दिनों के दौरान. त्योहारों के इस सीज़न के दौरान हम 1,000 से ज़्यादा ऑर्डर प्रोसेस करने की उपलब्धि हासिल करने को लेकर उत्साहित थे. हमारी कैटेगरी में दिवाली की लाइटें सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले प्रोडक्ट रहे और हमें उम्मीद थी कि इस दिवाली इन प्रोडक्ट्स की बिक्री बढ़ेगी.”


फ्लिपकार्ट के सालाना आयोजन द बिग बिलियन डेज़ के दौरान ऑनलाइन बिक्री में महत्वपूर्ण वृद्धि देखने को मिली जिससे प्रिया जैसे विक्रेताओं को अपने कारोबार का जबरदस्त विस्तार करने का मौका मिला. इसके अलावा, फ्लिपकार्ट के ट्रेनिंग सत्रों और महत्वपूर्ण रुझानों, अहम जानकारी जैसी मदद से विक्रेताओं को कारोबार से जुड़े नए अवसर तलाशने में मदद मिली. प्रिया के कारोबार को पिछले वर्ष बिग बिलियन डेज़ के दौरान करीब 700 ऑर्डर मिले थे और इस वर्ष वह त्योहारी सेल के दौरान 1,000 से ज़्यादा ऑर्डर प्रोसेस कर इस आंकड़े को पार सकती थीं. मुश्किलों के बावजूद सफलता पाने की उनकी इच्छाशक्ति और उद्यमिता की भावना को बनाए रखने की उनकी इच्छा ने फ्लिपकार्ट पर उन्हें सिल्वर सेलर बनने में मदद की.


प्रिया ने आगे कहा, “मुझे यह घोषणा करते हुए बेहद खुशी हो रही है कि मैं फ्लिपकार्ट पर सिल्वर सेलर हूं जिससे मुझे अपनी पहुंच का विस्तार कर ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचने में मदद मिली. इस वर्ष द बिग बिलियन डेज़ के दौरान ऑर्डर का प्रवाह लगातार बना रहा और टैक्नोलॉजी के लिहाज़ से बेहतरीन प्रक्रिया की मदद से हम पूरे देश से मिले हर एक ऑर्डर को पूरा कर सके.”


अपनी भविष्य की योजनाओं के बारे में प्रिया ने कहा, “मैं ज़्यादा से ज़्यादा ग्राहकों तक पहुंचना और फ्लिपकार्ट पर जानी-मानी विक्रेता बनना चाहती हूं क्योंकि हम ग्राहकों को सबसे अच्छे प्रोडक्ट्स उपलब्ध कराना जारी रखेंगे जो उनकी सकारात्मक रेटिंग और रिव्यू में दिखेगा. साथ ही यह भी पता चलेगा कि वे इन प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हुए कितने खुश और संतुष्ट हैं. मेरा लक्ष्य कारोबार का विस्तार करना और इसे घर-घर में लोकप्रिय नाम बनाना है.”

प्रतीक शर्मा, Greyon Cosmetics

देश की राजधानी में रहने वाले 33 वर्षीय उद्यमी प्रतीक ने होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई के साथ अपने अकादमिक सफर की शुरुआत की थी और बाद में उन्होंने इंटरनेशनल मार्केटिंग के क्षेत्र में काम किया. उन्होंने निर्यात व आयात कंपनियों के लॉजिस्टिक्स विभाग में काम किया और इसके बाद आत्मनिर्भर कारोबारी बनने के तौर पर अपना कारोबार शुरू किया.


वह ऐसा मेड इन इंडिया ब्रैंड बनाना चाहते थे जो अपना सामान बनाने के लिए तीसरे पक्षों पर निर्भर न रहे, ऐसे में प्रतीक कॉस्टेमिक प्रोडक्ट्स बनाने वाली कंपनी “ग्रेऑन” की शुरुआत की. हालांकि, उन्होंने अपने कारोबार की शुरुआत ऑफलाइन और खास तौर पर कोलकाता और आसपास के इलाके में की, लेकिन शुरुआती दिनों में अजीबो-गरीब तरीके से ब्रैंज रिकॉल करने का चलन था. इसी दौरान प्रतीक के एक दोस्त ने फ्लिपकार्ट द्वारा विक्रेताओं को जोड़ने के बारे में एक लेख पढ़ा और उन्होंने प्रतीक को सलाह दी कि वह भी इस प्लेटफॉर्म पर काम करें. चूंकि प्रतीक खुद भी लंबे समय से फ्लिपकार्ट के ग्राहक रहे थे, तो उन्हे मालूम था कि देशव्यापी पहुंच की मदद से फ्लिपकार्ट उनके कारोबार के लिए किस हद तक फायदेमंद साबित हो सकता है.


शुरुआत में प्रतीक को ऑनलाइन कारोबार को समझने में थोड़ी दिक्कत हुई, लेकिन फ्लिपकार्ट के ट्रेनिंग प्रोग्राम, फ्लिपकार्ट की ओर से उपलब्ध कराए जाने वाले कैटलॉग बनाने की प्रक्रिया के बारे में अहम जानकारी देने वाले वीडियो और मदद के लिए हर समय तैयार रहने वाले अकाउंट मैनेजर से मिले मार्गदर्शन के दर पर उनका कारोबार बेहद तेज़ी से बढ़ा. प्रतीक के साथ फिलहाल 16 लोगों की टीम काम करती है जो उन्हें कारोबार चलाने में मदद करती है.


फ्लिपकार्ट के इस वर्ष के सालाना आयोजन द बिग बिलियन डेज़ के बारे में प्रतीक ने कहा, “हमें पूरे देश से अच्छी संख्या में ऑर्डर मिले और इसलिए यह बहुत ही सकारात्मक अनुभव रहा. हमने एक दिन में करीब 200 ऑर्डर प्रोसेस किए. इस बार हमने कुछ बिल्कुल नए प्रोडक्ट्स भी लॉन्च किए जैसे कि प्रीमियम कैटेगरी में लिक्विड लिपस्टिक जिसे ग्राहकों ने काफी पसंद किया. ऑर्डर और रिव्यू दोनों ही तरीकों से ग्राहकों ने अपनी पसंद जाहिर की. नए ग्राहकों के आने से हमारे ब्रैंड की पहुंच का दायरा भी बढ़ा. इसके अलावा, नए साल और त्योहारों के सीज़न को देखते हुए हमें उम्मीद है कि हम हर दिन 500-600 ऑर्डर प्रोसेस कर सकेंगे.”


भविष्य के बारे में अपना दृष्टिकोण साझा करते हुए प्रतीक ने कहा, “हम अपने प्रयास ब्रैंड के जाना-माना “मेड इन इंडिया” ब्रैंड बनाने की ओर केंद्रित कर रहे हैं. आने वाले भविष्य में हम कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स की बिल्कुल नई रेंज पेश करने जा रहे हैं. मेरा उद्देश्य उस ऊंचाई तक ले जाना है जहां इसकी क्वालिटी और ग्राहकों का भरोसा टॉप कॉस्मेटिक कंपनियों के स्तर का हो.”

राजेश चौधरी, Shivalaya Creations

राजेश चौधरी 44 वर्ष के हैं और उत्तर प्रदेश के निम्न मध्यम-वर्गीय परिवार से आते हैं. हमेशा से उनकी दिलचस्पी फैशन और डिज़ाइन के क्षेत्र में रही है जिसके कारण उन्होंने अपनी ई-कॉमर्स कंपनी शुरू करने से पहले दिल्ली में एक जाने-माने डिज़ाइनर के साथ काम किया. डिज़ाइनर के साथ काम करते हुए राजेश ने इस उद्योग के बारे में काफी कुछ सीखा और ज़रूरी अनुभव हासिल किया जिससे उन्हें अपना खुद का कारोबार शुरू करने के वास्तविक फायदों के बारे में पता चला.


2015 में उन्होंने उद्यमिता के क्षेत्र में कदम बढ़ाया और अपनी पत्नी के साथ “शिवालय क्रिएशंस” की स्थापना की. उनकी पत्नी कारोबार में उनकी मदद करती हैं. 5 कारीगरों के साथ एक छोटी सी फैक्ट्री से हुई शुरुआत आज 120 लोगों के साथ तीन कंपनियों तक पहुंच चुकी है जो अलग-अलग क्षमताओं में काम करते हैं. छोटा कारोबारी होने के नाते उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा जिसकी वजह से उन्हें अच्छी तनख्वाह वाली अपनी नौकरी छोड़नी पड़ी और अपने कारोबार के लिए पूरा समय देना पड़ा.


फ्लिपकार्ट के साथ राजेश का जुड़ाव 2017 में शुरू हुआ. उस समय उन्हें हर दिन करीब 100 ऑर्डर मिलते थे. यह आंकड़ा धीरे-धीरे बढ़ता गया और आज वह हर दिन 1,000 से ज़्यादा ऑर्डर प्रोसेस करते हैं और हर महीने 33 लाख रुपये तक का मुनाफा कमाते हैं. पिछले पांच वर्षों के दौरान उनका कारोबार बहुत तेज़ी से बढ़ा है और खास तौर पर त्योहारों के सीज़न के दौरान, जब विक्रेताओं को अपना कारोबार तेज़ी से बढ़ाने का अवसर मिलता है. उन्होंने बताया कि बिग बिलियन डेज़ के दौरान ऑर्डर की संख्या 2500 से 3000 तक पहुंच जाती है जो उनके रोज़ के औसत के मुकाबले चार गुना ज़्यादा है. फ्लिपकार्ट की आसान ऑनबोर्डिंग प्रक्रिया और ट्रेनिंग से मिलने वाली मदद से राजेश जैसे विक्रेताओं के लिए अपना कारोबार बढ़ाना आसान हो गया है. इसके बारे में राजेश ने कहा, “कारोबार को बढ़ाने को लेकर फ्लिपकार्ट की ओर से मिलने वाली मदद की हम सराहना करते हैं. इसके अंतर्गत हमें हर दिन कॉल आती है और साप्ताहिक बैठकें होती हैं जहां फ्लिपकार्ट हमें त्योहारों के सीज़न के लिए तैयार रहने को लेकर की जाने वाली तैयारियों के बारे में बताता है. इसके अलावा बिक्री की मात्रा के आधार पर रखे जाने वाले स्टॉक के बारे में भी जानकारी दी जाती है जिससे जल्दी डिलिवरी करने में मदद मिलती है.”


इस वर्ष के बिग बिलियन डेज़ के अपने अनुभव साझा करते हुए राजेश ने कहा, “बिग बिलियन डेज़ का हमारा अनुभव बहुत ही शानदार रहा क्योंकि ऑर्डर की संख्या लगातार बढ़ती रही. हमने एक दिन में 800 से लेकर 1200 तक ऑर्डर प्रोसेस किए और 57 लाख रुपये कमाए. मांग में बढ़ोतरी के बावजूद कारोबार अच्छी तरह और प्रभावी तरीके से चलता रहे, यह पक्का करने के लिए फ्लिपकार्ट टीम और अकाउंट मैनेजर नियमित रूप से हमारे संपर्क में रहे और हमारी मदद करते रहे. यह सब कुछ उनकी मदद से ही संभव हो सका.”


राजेश को उम्मीद है कि वह फ्लिपकार्ट के साथ इस साझेदारी के दम पर मार्केटप्लेस के शीर्ष 5 मर्चेंट में अपनी जगह बना लेंगे और हर दिन 30,000 से लेकर 40,000 ऑर्डर प्रोसेस करेंगे. वह इस लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में काम कर रहे हैं क्योंकि उनका मानना है कि अगर आप सही रास्ते पर चल रहे हैं और ज़रूरी प्रयास कर रहे हैं, तो लक्ष्य हासिल करना मुश्किल नहीं होता है.