[फंडिंग अलर्ट] फिनटेक स्टार्टअप PayGlocal ने Sequoia Capital India से जुटाए 4.9 मिलियन डॉलर

By Aparajita Saxena & रविकांत पारीक
December 03, 2021, Updated on : Mon Dec 06 2021 07:14:57 GMT+0000
[फंडिंग अलर्ट] फिनटेक स्टार्टअप PayGlocal ने Sequoia Capital India से जुटाए 4.9 मिलियन डॉलर
पूर्व Visa कर्मचारियों द्वारा स्थापित स्टार्टअप ने कहा कि वह अपने क्रॉस-बॉर्डर मर्चेंट पेमेंट्स सॉल्यूशन को बढ़ाने के लिए फंडिंग का उपयोग करेगा।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

पेमेंट सॉल्यूशंस स्टार्टअप PayGlocalने गुरुवार को कहा कि उसने BeeNext, जितेंद्र गुप्ता और अमरीश राव जैसे निवेशकों के साथ Sequoia Capital के नेतृत्व में सीरीज ए फंडिंग राउंड में 4.9 मिलियन डॉलर जुटाए हैं।


स्टार्टअप ने कहा कि वह अपने क्रॉस-बॉर्डर मर्चेंट पेमेंट्स सॉल्यूशन को बढ़ाने के लिए फंडिंग का उपयोग करेगा।


पूर्व Visa कर्मचारियों प्राची धरणी, रोहित सुखिजा और योगेश लोखंडे द्वारा 2021 में स्थापित, PayGlocal मर्चेंट्स को भारत से बाहर रहने वाले ग्राहकों से उनकी पसंद की मुद्रा में और अपने स्वयं के क्रेडिट और डेबिट कार्ड का उपयोग करके भुगतान स्वीकार करने और कलेक्ट करने में सक्षम बनाता है।


प्राची ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, "भारतीय व्यापारियों को तेजी से बढ़ते वैश्विक उपभोक्ता आधार से भुगतान स्वीकार करने में चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि मौजूदा भुगतान समाधान विदेशों में जारी किए गए कार्ड के माध्यम से किए गए भुगतान को प्रोसेस करने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं हैं।"


उन्होंने आगे कहा, "हम जानते थे कि अगर हम इस समस्या का समाधान कर सकते हैं तो हमारे पास लगभग हर व्यवसाय के मालिक के लिए सीमा पार विकास को अनलॉक करने का एक बड़ा अवसर होगा। इसलिए, हमने PayGlocal को विकसित करने के लिए भारतीय फायनेंशियल इकोसिस्टम में काम करने के अपने वर्षों के अनुभव को एक साथ रखा।"


स्टार्टअप ने अंतरराष्ट्रीय भुगतान स्वीकार करने के लिए निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ साझेदारी की है। इसने कहा कि उसका लक्ष्य मार्च 2022 तक अपनी टीम का आकार कम से कम 50 प्रतिशत बढ़ाना है।

f

वर्तमान में, PayGlocal 100 से अधिक मुद्राओं में भुगतान स्वीकार करता है।


Sequoia India के मैनेजिंग डायरेक्टर आशीष अग्रवाल ने कहा, "सीमाओं के पार पैसा ले जाना अभी भी चुनौतियों भरा है, खासकर अगर समापन बिंदुओं में से एक भारत जैसा उभरता हुआ बाजार है। हम मानते हैं कि प्राची, रोहित और योगेश एक महान टीम हैं, जो पेमेंट प्रोसेसिंग में अपने पिछले अनुभव को देखते हुए इस समस्या का प्रयास कर रहे हैं।"


PwC की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत लगभग 83 बिलियन डॉलर के inward remittance flow के लिए सबसे बड़े वैश्विक बाजार में से एक है, इसके बाद चीन और मैक्सिको का स्थान आता है। 2016 के बाद से, भारत का cross-border remittance 8 प्रतिशत की CAGR से बढ़ रहा है, जो मुख्य रूप से भारतीय वस्तुओं और सेवाओं, अंतर्राष्ट्रीय यात्रा और विदेशों में एक बड़े कार्यबल की मांग में वृद्धि से प्रेरित है।


फिनटेक आसान और सुरक्षित सीमा-पार भुगतान को सक्षम करने के लिए लेटेस्ट प्रोडक्ट बना रहा है। Open Financial Tech, एक ब्लॉकचेन-आधारित सीमा-पार भुगतान प्रणाली को हाल ही में RBI के नियामक सैंडबॉक्स के दूसरे समूह के हिस्से के रूप में चुना गया था।