सिकोया इंडिया की अगुवाई में लीप फाइनेंस ने जुटाई 40 करोड़ रुपये की फंडिंग

By yourstory हिन्दी
March 05, 2020, Updated on : Thu Apr 08 2021 09:10:51 GMT+0000
सिकोया इंडिया की अगुवाई में लीप फाइनेंस ने जुटाई 40 करोड़ रुपये की फंडिंग
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

लीप फाइनेंस ने घोषणा की है कि सिकोया इंडिया के नेतृत्व में उसने 5.5 मिलियन डॉलर (करीब 40 करोड़ 38 लाख रुपये) की फंडिंग जुटाई है। बता दें कि लीप फाइनेंस इंटरनेशनल हायर एजुकेशन के लिए जाने वाले भारतीय छात्रों के लिए एक फिनटेक प्लेटफॉर्म है। इस राउंड की फंडिंग में लीडिंग एंजेल इन्वेस्टर्स में - भूपिंदर सिंह (इंक्रेड), कुणाल शाह (क्रेड) ने भी भाग लिया।


त

लीप फाइनेंस के फाउंडर्स



इस मौके पर लीप फाइनेंस के सह-संस्थापक वैभव सिंह ने कहा, 

“भारतीय छात्र अमेरिका में कई टॉप ग्रेजुएट प्रोग्राम में क्लास के 25% होते हैं। ये स्मार्ट होने के साथा-साथ कड़ी मेहनत करने वाले छात्र हैं, जो सबसे अच्छे प्रोग्राम में शामिल हुए हैं और आगे बहुत अच्छा भविष्य है। लेकिन वे जो एजुकेशन लोन लेते हैं उसका ब्याज उनके अमेरिकी साथियों की तुलना में दो गुना अधिक होता है।"


वे कहते हैं,

“यह असमानता प्रणालीगत अक्षमताओं और इनोवेशन की कमी से उपजी है। ब्याज दर को नीचे लाने और ग्राहक अनुभव में सुधार करने के लिए हमने टेक्नोलॉजी, फाइनेंशियल स्ट्रक्चर और रिस्क जैसे कई आयामों पर इनोवेशन किए हैं।”


जहां अधिकांश उधारी (लेंडिंग) ऐसेट्स या मौजूदा कैश फ्लो के आधार पर होती है, वहीं लीप इससे हटकर छात्रों की भविष्य की आय पर लोन देता है। लीप का मकैनिज्म भविष्य की आय क्षमता का अनुमान लगाने के लिए कई वैकल्पिक और व्युत्पन्न डेटा बिंदुओं को ध्यान में रखता है।


लीप वर्तमान में आगामी फॉल सीजन (2020) में अमेरिका में ग्रेजुएट की पढ़ाई शुरू करने वाले छात्रों से एप्लीकेशन स्वीकार कर रहा है, उन्हें 8% की बेहद कम ब्याज दरों के साथ ऋण की पेशकश कर रहा है।


  • लीप के लोन फुल स्टडी कॉस्ट कवरेज प्रदान करते हैं और किसी कोलैटरल की आवश्यकता नहीं होती है।


  • लीप फाइनेंसिंग को तेज और आसान बनाने के लिए टेक्नोलॉजी और ऑटोमेशन का उपयोग करता है।


  • कंपनी का प्रौद्योगिकी सक्षम प्लेटफॉर्म छात्रों को ऑनलाइन आवेदन करने और 10 मिनट से कम समय में एक फाइनेंसिंग ऑफर प्राप्त करने में सक्षम बनाता है।


  • लीप वर्तमान में 150 से अधिक अमेरिकी स्कूलों को सपोर्ट करता है और आगामी फॉल सीजन में 1000 छात्रों को फाइनेंस करने की ओर देख रहा है।


लीप फाइनेंस के सह-संस्थापक अर्नव कुमार ने कहा,

“भारतीय छात्र तेजी से सर्वश्रेष्ठ वैश्विक शिक्षा और वैश्विक करियर का पीछा कर रहे हैं। हमारे कई सबसे प्रेरक लोग - सत्य नडेला से लेकर सुंदर पिचाई तक इस रास्ते पर चले हैं। हम होनहार छात्रों की अगली पीढ़ी के सपोर्टर होना चाहते हैं, फिर चाहे उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि या साधन कुछ भी हो। एक कंपटीटिव फाइनेंसिंग प्रोडक्ट पहली ऑफरिंग है और क्रॉस-बॉर्डर नियोबैंक (Neobank) बनने के लिए हमारे बड़े विजन के लिए आधार निर्धारित करता है।"


लीप के संस्थापक IIT खड़गपुर स्नातक हैं और फाइनेंस और कंज्यूमर इंटरनेट में प्रासंगिक अनुभव रखते हैं।


वैभव को बड़े बैंकों के साथ काम करने और फिनटेक स्पेस में 12 साल का अनुभव है। उन्होंने एशिया पैसिफिक और कैपिटल फ्लोट के पार ड्यूश बैंक में काम किया है, जो भारतीय फिनटेक उद्योग में अग्रणी है। अपनी अंतिम भूमिका में, वैभव भारत के प्रमुख NBFC में से एक InCred में एमडी थे।


अर्नव ने ड्यूश बैंक के साथ डेरिवेटिव स्ट्रक्चरिंग में अपना करियर शुरू किया था। उन्होंने GoZoomo -इस्तेमाल की गई कारों का मार्केटप्लेस- की सह-स्थापना की और उपभोक्ता इंटरनेट निवेशक के रूप में SAIF पार्टनर्स (एक प्रमुख वीसी फंड) के साथ काम किया।


सिकोया कैपिटल इंडिया एलएलपी के प्रमुख आशीष अग्रवाल ने इस मौके पर कहा,

“आज विदेशों में पढ़ रहे भारतीय छात्र सालाना $15B खर्च करते हैं और हम इसके लिए $5B की वार्षिक ऋण की आवश्यकता का अनुमान लगाते हैं। बाजार का यह आकर्षण, मजबूत संस्थापक-बाजार फिट और लीप की मिशन-चालित टीम है, जो उनके साथ शुरुआती साझेदारी में हमारे विश्वास का कारण बनी।”


लीप फाइनेंस के पास आज 25 सदस्यीय मजबूत टीम है। लीप बैंगलोर और सैन फ्रांसिस्को में क्रमशः टेक्नोलॉजी और कैपिटल मार्केट की भूमिकाओं के लिए आक्रामक तरीके से लोगों को हायर कर रहा है।


बाजार के बारे में

आज, विकसित देशों में उभरते बाजारों से छात्रों का रुझान बढ़ रहा है, जो विकसित देशों में विशेष शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। 2019 में, पांच मिलियन छात्रों ने अपने घरेलू देशों के बाहर उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए गए, जिस पर सालाना 150 डॉलर खर्च किए गए। भारत, चीन, ब्राजील और इंडोनेशिया जैसे देशों ने अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और यूरोप में उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्रों में तेजी से वृद्धि देखी है।


सिकोया इंडिया

सिकोया साहसी संस्थापकों को आइडिया और आईपीओ से परे, लीजेंडरी कंपनियों के निर्माण में मदद करता है।


सिकोया इंडिया दक्षिण पूर्व एशिया और भारत में ऑपरेट करता है, जहां यह BYJUs, Carousell, Druva, GO-JEK, OYO Rooms, Tokopedia, Truecaller, Zilingo और Zomato आदि सहित कई श्रेणियों में कंपनियों की एक विस्तृत श्रृंखला के संस्थापकों के साथ सक्रिय रूप से भागीदार हैं।


कंपनी का कहना है कि वह संस्थापकों को जो संभव है उसकी सीमाओं को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित करती है। सिकोया के साथ भागीदारी में, स्टार्टअप को 47 वर्षों के ट्राइबल नॉलेज हासिल करने और एयरबीएनबी, अलीबाबा, ऐप्पल, ड्रॉपबॉक्स, Google, JD.com, लिंक्डइन, मीटुआन और स्ट्राइप जैसी कंपनियों के साथ काम करना सीखा।


उनका कहना है,

"शुरुआत से, नॉन-प्रॉफिट हमारे एलपी बेस की रीढ़ रहा है, जिसका अर्थ है कि संस्थापक की उपलब्धियां एक सार्थक अंतर बनाती हैं। हमारा मुनाफा 2000 के बाद से $16 बिलियन से अधिक हुआ है जिसके पीछे फोर्ड फाउंडेशन, मेयो क्लिनिक और एमआईटी जैसी कंपनियां एक बड़ा कारण हैं।"

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close