स्कूटर शेयरिंग स्टार्टअप बाउंस ने इनोवेन कैपिटल से जुटाए 47 करोड़ रुपये

स्कूटर शेयरिंग स्टार्टअप बाउंस ने इनोवेन कैपिटल से जुटाए 47 करोड़ रुपये

Wednesday March 04, 2020,

3 min Read

बेंगलुरु स्थित स्कूटर शेयरिंग स्टार्टअप बाउंस ने मौजूदा निवेशक इनोवेन कैपिटल (InnoVen Capital) से डेट फंडिंग (debt funding) में 6.5 मिलियन डॉलर (करीब 47 करोड़ 49 लाख रुपये) जुटाए हैं। बता दें कि यह 18 महीनों के अंतराल में, बाउंस में इनोवेन कैपिटल का तीसरा इन्वेस्टमेंट है। इस डेट फंडिंग अर्थात ऋण निवेश को मिलाकर इनोवेन कैपिटल अब तक बाउंस में $12 मिलियन निवेश कर चुका है।


k

Bounce की फंडिंग टीम



इनोवेन कैपिटल इंडिया के निदेशक, अंकित अग्रवाल ने इस मौके पर कहा,

“इनोवेन पहले दिन से बाउंस से जुड़ा हुआ है और अपेक्षाकृत कम समय में उनके द्वारा की गई अभूतपूर्व प्रगति से प्रभावित है।” 


बाउंस ने कहा कि यह प्रॉफिटेबिलिटी में तेजी लाने के लिए एक डीप इलेक्ट्रिक व्हीकल (ईवी) इंटीग्रेशन, अनेकों शहरों में विस्तार, और प्लेटफॉर्म प्ले को ईंधन देने के लिए फंडिंग का उपयोग करेगा। बाउंस ने हाल ही में एक्सेल पार्टनर्स और बी कैपिटल ग्रुप के नेतृत्व में अपने सीरीज डी फंडिंग राउंड के हिस्से के रूप में $105 मिलियन जुटाए, जिससे कंपनी की कुल कैपिटल 200 मिलियन डॉलर से अधिक हो गई।


भारतीय शहरों में उचित बुनियादी ढांचे की कमी, बढ़ती भीड़ और प्रदूषण के कारण शहरी परिवहन एक बड़ी समस्या है। 2014 में विवेकानंद एचआर, अनिल जी और वरुण अग्नि द्वारा बाउंस की स्थापना की गई थी। इसका मिशन कंज्यूमर्स को फर्स्ट एंड लास्ट मील ट्रैवल के लिए कॉस्ट-इफेक्टिव माइक्रो-मोबिलिटी सलूशन प्रदान करना है।


बाउंस के सीईओ और सह-संस्थापक विवेकानंद एचआर ने कहा,

“जैसा कि हम अधिक शहरों और कस्बों में विस्तार कर रहे हैं, हम प्रत्येक ग्राहक की विशिष्ट आवश्यकताओं के अनुसार विभिन्न मोबिलिटी ऑप्शन को सक्षम करने के लिए एक डायवर्स शेयर्ड मोबिलिटी प्लेटफार्म पर काम करेंगे। प्रॉफिटेबिलिटी की ओर अग्रसर होने के साथ जुटाया गया फंड इन लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करेगा।”


स्टार्टअप वर्तमान में अपने डॉकलेस स्कूटरों को बेंगलुरु और हैदराबाद में ऑपरेट करता है। इसके पास बेंगलुरु में 20,000 और हैदराबाद में 3,000 से अधिक व्हीकल्स हैं। यह हर दिन 130,000+ राइड्स (1,00,000+ बेंगलुरु में और 30,000+ हैदराबाद में) का दावा करता है। कंपनी ने कहा कि बाउंस का सबसे बड़ा प्रभाव मास रैपिड ट्रांजिट (एमआरटी) के उपयोग को सक्षम करने में है, इसकी लगभग 42 प्रतिशत राइड्स या तो मेट्रो स्टेशन पर शुरू होती है या समाप्त होती है।


वहीं इनोवेन कैपिटल की बात करें तो इसे 2008 में स्थापित किया गया था। ये भारत का पहला डेडिकेटेड वेंचर ऋण प्रोवाइडर है। इनोवेन कैपिटल इंडिया ने स्विगी, बायजू, ओयो रूम्स, क्योरफिट, मिंत्रा, डेलीहंट, फर्स्टक्राई, ब्लैकबक, रिविगो, अथर एनर्जी और यात्रा सहित 170 से अधिक स्टार्टअप में 250 से अधिक लेनदेन (निवेश) किए हैं।