Reliance ने किया 'कलारी कैपिटल' में 100 मिलियन डॉलर का निवेश; अतिरिक्त $ 100M की है योजना

रिलायंस Kalaari Capital में 100 मिलियन डॉलर के निवेश के जरिए वेंचर कैपिटल फंड में अपना पहला निवेश कर रहा है। इसके अगले एक साल में दोगुना होने की संभावना है।
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) ने शुरुआती स्तर के VC Kalaari Capital में 100 मिलियन डॉलर का निवेश किया है।


RIL के 65 बिलियन डॉलर के डिजिटल आर्म Jio Platforms के माध्यम से निवेश किया गया है। अगले एक वर्ष में Kalaari में अतिरिक्त 100 मिलियन डॉलर के निवेश की संभावना है।

रिलायंस के एक प्रवक्ता ने YourStory को बताया कि रिटेल-टू-टेक समूह "भारत में विशेष रूप से डिजिटल सक्षमता क्षेत्र में संपन्न स्टार्टअप इकोसिस्टम के निर्माण को समर्थन देने के लिए प्रतिबद्ध है, और ऐसा करने के लिए विभिन्न रास्ते तलाशता रहेगा।"

दिलचस्प बात यह है कि रिलायंस ने पिछले कुछ वर्षों में Kalaari-समर्थित 4 स्टार्टअप्स Embibe, Haptik, Zivame, और Urban Ladder सहित कई स्टेक का अधिग्रहण किया।


खबरों के मुताबिक, यह बेंगलुरु स्थित डेयरी और मिल्क स्टार्टअप MilkBasket का अधिग्रहण करने के लिए बातचीत कर रहा है, जिसने मई 2018 में Kalaari के नेतृत्व में सीरीज़ ए राउंड में 7 मिलियन डॉलर जुटाए थे।

वाणी कोला, Kalaari Capital की मैनेजिंग डायरेक्टर

वाणी कोला, Kalaari Capital की मैनेजिंग डायरेक्टर

2006 में वाणी कोला द्वारा स्थापित, Kalaari Capital भारत के सबसे शुरुआती होमग्राउंड वेंचर फंड्स में से एक है जो वर्तमान में 650 मिलियन डॉलर की संपत्ति का प्रबंधन करता है।


इसके पोर्टफोलियो में Dream11, Snapdeal, Cure.fit, Cashkaro, AgNext, Jumbotail, Hiver, Mall91, Simpleilearn, Vogo, WazirX, Perpule, Mettl जैसे स्टार्टअप शामिल हैं।

हालांकि Kalaari 2019 के बाद से अपने चौथे फंड के लिए limited partners (LPs) की तलाश में है, रिलायंस एक डिजिटल-फर्स्ट एंटिटी के लिए सभी सेक्टर्स में युवा स्टार्टअप की एक पाइपलाइन को देख रहा है।

हालांकि इस सौदे के बारे में अभी पता नहीं चल पाया है, लेकिन इस बात की संभावना है कि RIL भविष्य में अन्य Kalaari-समर्थित स्टार्टअप्स में नियंत्रण दांव हासिल कर सकती है।


कुल मिलाकर, घरेलू स्टार्टअप इकोसिस्टम में IPOs या buyouts के जरिए 'exits' का शोर पिछले 12 से 15 महीनों में काफी बढ़ गया है। दूसरी ओर, पिछले साल FDI में 20 बिलियन डॉलर का रिकॉर्ड बनाने के बाद, Jio Platforms फंड्स के साथ बढ़ रही है।


अंबानी ने 2020 में RILके पहले वर्चुअल AGM में कहा, "हम भारतीय स्टार्टअप्स की मदद के लिए कई तरह से तैनात हैं, चाहे वह टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट, प्रोडक्ट डेवलपमेंट, डिस्ट्रीब्यूशन, मार्केट एक्सेस या यहां तक ​​कि स्केल-अप कैपिटल में हो।"


(डिस्क्लेमर: Kalaari Capital योरस्टोरी में एक निवेशक है।)