देश के सबसे अमीर शख्स गौतम अडानी अब हराएंगे दुनिया के रईसों को, जानिए दौलत बढ़ाने की उनकी नई प्लानिंग

By Anuj Maurya
July 27, 2022, Updated on : Wed Jul 27 2022 09:45:00 GMT+0000
देश के सबसे अमीर शख्स गौतम अडानी अब हराएंगे दुनिया के रईसों को, जानिए दौलत बढ़ाने की उनकी नई प्लानिंग
मुकेश अंबानी को तो गौतम अडानी पहले ही हराकर देश के सबसे अमीर शख्स बन चुके हैं, अब उनकी प्लानिंग विदेशों में भी अपना पैर जमाने की है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कभी सोचा है... जिसके पास अथाह दौलत है उसे जिंदगी में और क्या चाहिए? उसे चाहिए और ज्यादा दौलत. गौतम अडानी (Gautam Adani) अभी देश के सबसे अमीर शख्स (India's Richest Person) हैं और दुनिया के अमीरों में उनका नंबर चौथा है. ऐसे में अगर गौतम अडानी और अधिक पैसे कमाना चाहते हैं तो उन्हें अपने प्रोडक्ट्स और सर्विसेस के लिए बाजार बड़ा करना होगा. यही वजह है कि अब गौतम अडानी का टारगेट विदेशी बाजार हैं. देश में तो उन्होंने लगभग हर जगह अपने पैर जमा लिए हैं, लेकिन दुनिया के अमीरों की लिस्ट में ऊपर बढ़ने के लिए अब उन्होंने एक नई योजना बनाई है, जिसके तहत वह विदेशों में अपनी सेवाएं देंगे.

विदेशों में पैर पसारने की है योजना

गौतम अडानी का अडानी ग्रुप देश में इंफ्रा, एनर्जी और फूड जैसे सेक्टर में पहले ही अपनी पैठ जमा चुका है. अब अडानी ग्रुप विदेशों में पैर पसारने की तैयारी कर रहा है. कंपनी की सालाना मीटिंग यानी एजीएम में गौतम अडानी ने कहा कि कई देशों की सरकारें इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करने के लिए उनकी कंपनी से संपर्क कर रही हैं. गौतम अडानी ने कहा कि ऐसी स्थिति में हम देश के बाहर भी विस्तार करने की योजना बना रहे हैं. बता दें कि हाल ही में अडानी ग्रुप ने इजराइल में एक अहम पोर्ट हासिल किया है.

ग्रीन एनर्जी में 5.6 लाख करोड़ रुपये का निवेश

अडानी ग्रुप ने पिछले महीनों में ग्रीन एनर्जी को लेकर अपना फोकस काफी बढ़ाया है. मंगलवार को एजीएम के दौरान उन्होंने कहा कि उनका समूह देश में एक नए एनर्जी कारोबार पर 70 अरब डॉलर यानी करीब 5.6 लाख करोड़ रुपये का निवेश कर रहा है. इसके चलते कच्चे तेल का आयात करने के बजाय भारत ग्रीन हाइड्रोजन का निर्यात करने वाला देश बन जाएगा. गौतम अडानी का मानना है कि आने वाले दिनों में भारत की जरूरतें 75 फीसदी क्लीन एनर्जी से पूरी होंगी. 2015 के बाद भारत की रिन्यूएबल एनर्जी क्षमता करीब 300 फीसदी बढ़ी है. विदेश में तो अडानी निवेश कर ही रहे हैं, उन्होंने कहा है कि भारत में निवेश करने से वह कभी पीछे नहीं हटेंगे.

हर साल 20 अरब डॉलर का निवेश

ग्रीन एनर्जी में काम करने वाली उनकी कंपनी अडानी ग्रीन एनर्जी का 2030 तक 45 गिगावॉट रिन्यूएबल ऊर्जा क्षमता हासिल करने का टारगेट है. इसके लिए उनकी कंपनी हर साल दो गिगावॉट सौर क्षमता विकसित करने के मकसद से 20 अरब डॉलर का निवेश कर रही है. गौतम अडानी ने ये भी कहा कि उनके ग्रुप की कंपनियों का कुल मार्केट कैप 200 अरब डॉलर से भी अधिक हो गया है. कंपनी ने डेटा सेंटर, डिजिटल सुपर ऐप और औद्योगिक क्लाउड से लेकर रक्षा और एयरोस्पेस, मेटल और मटीरियल जैसे सेक्टर्स में भी एंट्री मार ली है.

अडानी ग्रान एनर्जी ने निवेशकों को भी दिया तगड़ा रिटर्न

अडानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड का शेयर एक साल पहले करीब 990 रुपये का था, जो आज 2102 रुपये का हो गया है. इस तरह ग्रीन एनर्जी के शेयर ने साल भर में लगभग 112 फीसदी का रिटर्न दिया है. साल भर में यह शेयर 1 लाख रुपये को 2.12 लाख रुपये में बदल चुका है. अभी अडानी ग्रीन एनर्जी का मार्केट कैप करीब 3.3 लाख करोड़ रुपये का हो चुका है।