किस तरह के फाउंडर्स की ओर देखते हैं एडुआर्डो सेवरिन की बी-कैपिटल में पार्टनर कबीर नारंग, जानिए हर सवाल का जवाब

By Sindhu Kashyaap
February 21, 2020, Updated on : Fri Feb 21 2020 11:31:30 GMT+0000
किस तरह के फाउंडर्स की ओर देखते हैं एडुआर्डो सेवरिन की बी-कैपिटल में पार्टनर कबीर नारंग, जानिए हर सवाल का जवाब
उभरते बाजारों में निवेश पर केंद्रित होकर, 2017 में, बी-कैपिटल ने अपनी पहली करीब 143.6 मिलियन डॉलर की कमाई की है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

जब फेसबुक के सह-संस्थापक एडुआर्डो सेवरिन (Eduardo Saverin) ने सिलिकॉन वैली स्थित भारतीय मूल के निवेशक राज गांगुली के साथ बी-कैपिटल (B-Capital) की स्थापना की, तो दोनों ने कबीर नारंग को अपने साथ जोड़ा और उन्हें भारत, अमेरिका और दक्षिण - पूर्व एशिया का ग्लोबल इन्वेस्टमेंट को-हेड बनाया। उभरते बाजारों में निवेश पर केंद्रित होकर, 2017 में, बी-कैपिटल ने अपनी पहली करीब 143.6 मिलियन डॉलर की कमाई की।


कबीर नारंग, B-Capital के पार्टनर

कबीर नारंग, B-Capital के पार्टनर



प्राइवेट इक्विटी इन्वेस्टमेंट और मैनेजमेंट में 15 साल से अधिक का अनुभव रखने वाले कबीर ने एट रोड वेंचर्स, वारबर्ग पिंकस, मैकिंसे एंड कंपनी और बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप के लिए काम किया है। सेंट स्टीफन कॉलेज, दिल्ली से स्नातक कबीर ने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से एमबीए की डिग्री है, और एक निवेशक बनने से पहले वे एक उद्यमी थे।


कॉलेज में रहते हुए, उन्होंने एक छोटा सा रेस्तरां चलाया था, जिससे उन्हें व्यवसाय चलाने की चुनौतियों का पहला अनुभव मिला, और तभी उनको बड़े व्यवसाय को बढ़ाने और चलाने वाले संस्थापकों के लिए सहानुभूति हुई। यही उनकी प्रेरणा शक्ति रही है, और तब से उन्होंने वित्तीय सेवाओं, स्वास्थ्य और परिवहन जैसे क्षेत्रों में निवेश किया है। बी-कैपिटल ने सीरीज बी, सी और डी स्टेज में स्टार्टअप्स में 20 से अधिक निवेश किए हैं, जिनकी मात्रा 15 मिलियन डॉलर से 50 मिलियन डॉलर है।


इस फंड का लेटेस्ट इन्वेस्टमेंट बेंगलुरु स्थित बाउंस में था, जहां उसने स्टार्टअप की सीरीज डी फंडिंग में 105 मिलियन डॉलर की भागीदारी की।


मौजूदा समय में बाउंस बोर्ड का हिस्सा कबीर ने YourStory के साथ बातचीत में फंड के इन्वेस्टमेंट थीसिस के बारे में खुलकर बात की, उन्होंने बताया कि वे एक फाउंडर में क्या देखते हैं और क्यों मोबिलिटी एक बड़ा फोकस एरिया है।


यहां पढ़िए इंटरव्यू के संपादित अंश


योरस्टोरी: बी-कैपिटल के लिए प्रमुख फोकस एरिया और सेक्टर क्या हैं?

कबीर नारंग: हम टेक स्पेस में बड़े बिजनेसेस पर फोकस्ड हैं। क्या हम ऐसे संस्थापक पा सकते हैं जो बड़े बाजार के अवसरों को एड्रेस कर रहे हैं? और क्या हम उन कंपनियों को सपोर्ट कर सकते हैं जो मार्केट लीडर हैं, और क्या इन मार्केट लीडर्स को ढूंढ सकते हैं? यदि आप उदाहरण के तौर पर बाउंस को लें, तो यह वास्तव में भारत में लास्ट मील मोबिलिटी को बदल रहा है और यही हमें उत्साहित करता है। कंपनी एक दिन में 120,000 से 130,000 से अधिक सवारी कर रही है। इसके यात्रियों में से 30 प्रतिशत से अधिक महिलाएं हैं, और यह बड़े पैमाने पर इको सिस्टम को सक्षम करने और बनाने और लोगों के आवागमन के तरीके को बदलने के लिए देख रहा है।


आप दक्षिण पूर्व एशिया में निन्जमान और भारत में ब्लैकबक जैसे अन्य स्टार्टअप को देखें, हमारा आइडिया असाधारण संस्थापकों पर ध्यान केंद्रित करना है जो मिशन-ड्रिवन कंपनियों और बड़े टिकाऊ व्यवसायों का निर्माण कर रहे हैं।


कबीर नारंग बी-कैपिटल पैनल में बोलते हुए। (फोटो क्रेडिट: बी-कैपिटल ट्विटर)

कबीर नारंग बी-कैपिटल पैनल में बोलते हुए। (फोटो क्रेडिट: बी-कैपिटल ट्विटर)


YS: आपने बाउंस में निवेश किया है और इसकी वैल्युएशन अब 520 मिलियन डॉलर को छू रही है, तो क्या आपको लगता है कि मोबिलिटी में एक और युनिकॉर्न के लिए जगह है?

कबीर: मोबिलिटी हमारे लिए एक बड़ा स्पेस है। हम बर्ड में भी निवेशक हैं। शहरी क्षेत्रों में यात्री बदल रहे हैं, लेकिन सार्वजनिक बुनियादी ढांचे में अभी भी बहुत अधिक सक्षमता की आवश्यकता है। 13 महीने में बाउंस जैसा सलूशन शून्य से 120,000 सवारी तक चला गया है; यह उन्हें विश्व स्तर पर सबसे तेज मोबिलिटी स्टार्टअप में से एक बनाता है। इसलिए एक बड़े अवसर वाला बाजार मौजूद है। साथ ही, उनका ध्यान इलेक्ट्रिक वाहनों की ओर बढ़ रहा है। यह सिर्फ यात्रा की शुरुआत है, और भारत की बात करें तो वहां बड़े विकास के अवसर हैं। हम विश्व स्तर पर भी इसकी लहर देख रहे हैं।


YS: आप अपनी कंपनियों में निवेश करते समय संस्थापकों के लिए क्या देखते हैं?

कबीर: मुझे ऐसे संस्थापक पसंद हैं जो बड़े व्यवसाय में ग्लोबल-फर्स्ट दृष्टिकोण रखते हैं। मैं उद्योगों को बदलने वाले ग्लोबल-फर्स्ट संस्थापकों को देखता हूं। मुझे यह भी देखना पसंद है कि बड़े कॉर्पोरेट्स के साथ साझेदारी शुरुआती चरण की कंपनियों को कैसे प्रभावित कर सकती है और कैसे उनकी वृद्धि में सहायता कर सकती है। मेरा मानना है कि टेक्नोलॉजी की अगली लहर साझेदारी करने में और आप पारिस्थितिकी तंत्र में दूसरों के साथ कैसे तेजी से काम करेंगे, इसमें होगी। जब फेसबुक जैसी कंपनी मीडिया और विज्ञापन उद्योग को बदल रही थीं, तो यह एक स्थान पर कब्जा जमा रही थी। आज, कब्जा जमाने के साथ, यह इस बारे में है कि आप उस स्पेस में किसी मौजूदा कंपनी के साथ काम कैसे करते हैं। हम, बी-कैपिटल में, उन तालमेलों को बनाने के लिए काम कर रहे हैं।


YS: आपने दुनिया भर में निवेश किया है, क्या आप बाजारों में कोई समानता देखते हैं?

कबीर: आज 20 से अधिक कंपनियों के पोर्टफोलियो के साथ, हम देखते हैं कि जो चीजें अमेरिका और चीन में हो सकती हैं वो दक्षिण पूर्व एशिया में भी हो सकती हैं। यह न केवल बेहतर निवेश निर्णय लेने में मदद करता है, बल्कि यह उसे पहचानने में भी संस्थापकों की मदद करता है। हम अलग-अलग पैटर्न को देखते हैं, और देखते हैं कि क्या मैच हो सकता है और क्या है जो काम करेगा। अगर हम अलग-अलग बाजारों से मिली सीख के बारे में बात करें, तो हमें इजरायल की तकनीकी कंपनियों के बारे में बात जरूर करनी होगी। साल दर साल, वीसी के निवेश वाली कंपनियां 4 से 6 अरब डॉलर बना रही थीं। ऐसा नहीं है कि ये केवल एक बार ही हुआ हो। भारत में फ्लिपकार्ट डील के समय भी ऐसा देखने को मिला था, लेकिन बड़ी सीख यह है कि कैसे एक इकोसिस्टम लगातार निवेशक इसी तरह के रास्ते मुहैया कराता है?


इसके अलावा, यदि आप टैलेंट पूल को देखते हैं, तो वे दुनिया के विभिन्न हिस्सों में बड़े पैमाने पर ग्रो कर रहे हैं। प्रारंभ में, सिलिकॉन वैली जैसी जगहों पर चीजें शुरू हुईं, समय के साथ, आप बेंगलुरू, बीजिंग और जकार्ता में प्रतिभा की गहराई और गुणवत्ता देखते हैं। और यही वह टैलेंट पूल है जो कंपनियों की अगली लहर का निर्माण कर रहा है।

YS: इन बाजारों में क्या अंतर हैं?

कबीर: वहां पैटर्न हैं, लेकिन कुछ स्थानीय बारीकियां भी हैं। यदि आप फिनटेक को देखते हैं, तो पाएंगे कि टेक कंपनियों द्वारा एड्रेस किए जाने वाले पेन प्वाइंट अलग हैं। भारतीय, चीन और दक्षिण पूर्व एशियाई कंपनियों में, एक पेन प्वाइंट है और यह पेमेंट - वित्तीय समावेशन। टेक कंपनियां इसका हल निकाल रही हैं। इंडोनेशिया में, 50 प्रतिशत से अधिक वयस्क आबादी या तो अनबैंक्ड या अंडरबैंक्ड है। टेक कंपनियों को उनको शामिल करने के लिए केंद्रित किया जाता है, लेकिन उन्हें शामिल करने का तरीका अलग है। यदि आप एक बैंक को देखते हैं, तो तीन भूमिकाएँ हैं - बैलेंस शीट, ग्राहक तक पहुंच और डेटा प्रोसेसिंग। लेकिन आप इन उपभोक्ताओं को कैसे जोड़ते हैं, यह उससे बिल्कुल अलग है जो 20 साल पहले था। आपको बैंक जाने की आवश्यकता नहीं है; आपके मोबाइल फोन में वह शक्ति है। तो हां, समानताएं और स्थानीय बारीकियां हैं जो अंतर पैदा करती हैं। 

YS: भारत में आप कौन से बड़े ट्रेंड्स देख रहे हैं?

कबीर: भारत 3 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था है। यह 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की राह पर है। ऐसे में मुझे लगता है कि कई दिलचस्प ट्रेंड्स हैं। डेटा अवेलेबिलिटी है, डेटा की लागत कम हो गई है, और मोबाइल फोन के प्रवेश में वृद्धि हुई है। इसलिए, लोगों की अगली लहर अब डेटा तक पहुंच रही है। प्रारंभिक लहर ने बड़े शहरों में 40 से 60 मिलियन भारतीय उपभोक्ताओं को टारगेट किया, लेकिन अब अगला टारगेट छोटे शहर हैं। दुनिया के लिए सॉफ्टवेयर बनाने के लिए भारत में मजबूत तकनीक पावर हाउस का उपयोग करने वाले कई टेक कॉमनर्स हैं। एक और चीज जो हमें बहुत रोमांचक लगती है वह है टेक्नोलॉजी को अपना रहे छोटे और मध्यम आकार के उद्यम (एसएमई) का बढ़ता उपभोक्ता आधार।


Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें