Google अपनी 15000 महिला कर्मचारियों को बतौर हर्जाना देगी 118 मिलियन डॉलर, लेकिन क्यों?

दुनिया की दिग्गज टेक कंपनी Googleने लैंगिक भेदभाव और समान वेतन पर लंबे समय से चल रहे मुकदमे को निपटाने के लिए सहमति व्यक्त की है. कंपनी 15,500 से अधिक महिला कर्मचारियों को 118 मिलियन डॉलर का भुगतान करेगी.

इस समझौते में 14 सितंबर, 2013 से कैलिफोर्निया में 236 पदों पर जॉब करने वाली महिला कर्मचारियों को शामिल किया गया है.

इन कर्मचारियों ने कई स्तरों और डिवीजनों में काम किया, औसत मुआवजे की राशि लगभग 7,600 डॉलर थी.

यह समझौता सितंबर 2017 में पूर्व कर्मचारियों केली एलिस, होली पीज़, केली विसुरी और हेइडी लैमर द्वारा दायर मुकदमे पर हो रहा है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रारंभिक फाइलिंग में कहा गया है कि Google की एक कर्मचारी लार्मर को प्रति घंटे $ 18.51 का भुगतान किया गया था, जबकि समान औदे पर नौकरी करने वाले, कम योग्यता और कम अनुभव वाले उनके पुरुष समकक्ष को 21 डॉलर प्रति घंटे का भुगतान किया गया था.

Google पर पिछले साल अपनी महिला कर्मचारियों ने समान काम करने वाले पुरुष कर्मचारियों की तुलना में $ 17,000 प्रति वर्ष कम भुगतान करने का आरोप लगाया गया था. वे मूल रूप से हर्जाने में $ 600 मिलियन की मांग कर रही थी.

फाइलिंग के अनुसार, समझौते के तहत एक स्वतंत्र औद्योगिक संगठनात्मक मनोवैज्ञानिक Google की हायरिंग प्रोसेस का एनालिसिस करेगा और इक्विटी का भुगतान करेगा.

एलिस, जो लगभग चार वर्षों तक Google के माउंटेन व्यू मुख्यालय में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर थीं, ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यह समझौता एक महत्वपूर्ण मोड़ होगा.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, Google के एक प्रवक्ता ने कहा, "जबकि हम अपनी नीतियों और प्रथाओं की समानता में दृढ़ता से विश्वास करते हैं. लगभग पांच साल की मुकदमेबाजी के बाद, दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए कि बिना किसी स्वीकार या निष्कर्ष के मामले का समाधान, सभी के सर्वोत्तम हित में था. और हम इस समझौते के साथ बहुत खुश हैं."

उन्होंने आगे कहा, "हम सभी कर्मचारियों को उचित और समान रूप से भुगतान करने, हायर करने और समान व्यवहार करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं. पिछले नौ वर्षों से हमने यह सुनिश्चित करने के लिए एक कठोर वेतन इक्विटी विश्लेषण चलाया है कि वेतन, बोनस और इक्विटी पुरस्कार उचित हैं."

हालांकि इस शुरुआती सुनवाई के लिए 21 जून की तारीख निर्धारित की गई है.