भारत के खिलाफ गलत सूचना फैलाने पर सरकार ने 8 YouTube चैनलों को ब्लॉक किया

By yourstory हिन्दी
August 18, 2022, Updated on : Mon Aug 29 2022 06:52:22 GMT+0000
भारत के खिलाफ गलत सूचना फैलाने पर सरकार ने 8 YouTube चैनलों को ब्लॉक किया
एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि इन यूट्यूब चैनल ने भारत सरकार द्वारा धार्मिक संरचनाओं को ध्वस्त किए जाने, धार्मिक त्योहारों को मनाने पर प्रतिबंध लगाए जाने, भारत में धार्मिक युद्ध की घोषणा जैसे झूठे दावे किए.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा, अन्य देशों से संबंधों और सार्वजनिक व्यवस्था से जुड़े कथित दुष्प्रचार के मामले में एक पाकिस्तानी चैनल समेत आठ यूट्यूब चैनल को ब्लॉक (अवरुद्ध) करने का बृहस्पतिवार को आदेश दिया. एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि ब्लॉक किए गए इन चैनल के 114 करोड़ ‘व्यूज’ (यानी उन्हें 114 करोड़ बार देखा गया) और 85.73 लाख सब्सक्राइबर हैं तथा इन चैनल के कंटेंट से पैसे कमाए जा रहे थे.


जिन चैनल को सूचना प्रौद्योगिकी नियमों-2021 के तहत ब्लॉक किया गया है, उनमें सात भारतीय समाचार चैनल हैं. एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि इन यूट्यूब चैनल ने भारत सरकार द्वारा धार्मिक संरचनाओं को ध्वस्त किए जाने, धार्मिक त्योहारों को मनाने पर प्रतिबंध लगाए जाने, भारत में धार्मिक युद्ध की घोषणा जैसे झूठे दावे किए.


बयान में कहा गया, ‘‘ऐसा पाया गया कि यह सामग्री साम्प्रदायिक सद्भाव और देश में सार्वजनिक व्यवस्था को बिगाड़ सकती है.’’

इसमें कहा गया कि इन यूट्यूब चैनल का इस्तेमाल भारतीय सशस्त्र बलों और जम्मू-कश्मीर जैसे विभिन्न विषयों पर भी फर्जी खबरें पोस्ट करने के लिए किया जाता था.


बयान में कहा गया, ‘‘इस सामग्री को राष्ट्रीय सुरक्षा और अन्य देशों के साथ भारत के मैत्रीपूर्ण संबंधों के दृष्टिकोण से संवेदनशील और पूरी तरह से मिथ्या पाया गया.’’


ब्लॉक किए गए लोकतंत्र टीवी के 12.90 लाख सब्सक्राइबर्स, U&V TV के 10.20 लाख सब्सक्राइबर्स, AM Razvi के 95,900 सब्सक्राइबर्स, गौरवशाली पावन मिथिलांचल के 7 लाख सब्सक्राइबर्स, SeeTop5TH, सरकारी अपडेट के 80 हजार 900 सब्सक्राइबर्स, सब कुछ देखो 19.40 लाख सब्सक्राइबर्स हैं. वहीं, ब्लॉक किए गए एक पाकिस्तान यूट्यूब चैनल न्यूज की दुनिया के 97 हजार सब्सक्राइबर्स हैं.


बता दें कि, इससे पहले 25 अप्रैल को सरकार ने देश की राष्ट्रीय सुरक्षा, विदेश संबंधों और सार्वजनिक व्यवस्था से संबंधित भ्रामक सूचनाएं फैलाने के मामले में एक फेसबुक अकाउंट और 16 यूट्यूब चैनलों पर रोक लगा दी थी. इन चैनलों में से 6 पाकिस्तान से संचालित हो रहे थे. जिन यूट्यूब चैनलों और फेसबुक खाते पर रोक लगाई गई है उनकी कुल दर्शक संख्या (व्यूवरशिप) 68 करोड़ से अधिक थी.


इससे पहले 5 अप्रैल को भारत सरकार ने 22 यूट्यूब चैनलों को ब्लॉक कर दिया था, जिसमें पाकिस्तान से चलाए जाने वाले 4 चैनल शामिल थे. जबकि उससे भी पहले खुफिया एजेंसियों के साथ एक समन्वित प्रयास में 20 यूट्यूब चैनल और दो वेबसाइट को ब्लॉक किया गया था. सरकार ने कहा था कि इन चैनलों का इस्तेमाल "कश्मीर, भारतीय सेना, भारत में अल्पसंख्यक समुदायों, राम मंदिर, जनरल बिपिन रावत आदि" जैसे विषयों पर समन्वित तरीके से विभाजनकारी सामग्री पोस्ट करने के लिए किया जा रहा था.


Edited by Vishal Jaiswal