Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

कैसे इस मैकेनिकल इंजीनियर ने खड़ी कर दी हर दिन 200 ई-बाइक बनाने वाली EV कंपनी

सेतुल शाह ने 2021 में गुजरात के वड़ोदरा में RunR Mobility की नींव रखी थी. स्मार्ट टेम्परेचर मॉड्यूलेशन मेथडोलॉजी के कारण कंपनी के बनाए ईवी अल्ट्राफास्ट चार्जिंग को सपोर्ट करते हैं. कंपनी EVs को आग, दुर्घटनाओं और चार्जर की विफलता से बचाने के लिए एडवांस थर्मल रनवे टेस्ट सहित कई तरह के टेस्ट करती है.

कैसे इस मैकेनिकल इंजीनियर ने खड़ी कर दी हर दिन 200 ई-बाइक बनाने वाली EV कंपनी

Friday March 31, 2023 , 6 min Read

हाइलाइट्स

  • भारतीय ग्राहकों की जेब और सेफ्टी का ख़याल रखती है RunR Mobility
  • प्रति दिन 200 ई-बाइक का प्रोडक्शन करती है EV कंपनी
  • कंपनी 100% स्वदेशी स्मार्ट-इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाती है जिनमें स्वैपेबल बैटरी होती हैं

इलेक्ट्रिक व्हीकल्स (EVs) का इतिहास करीब 200 साल पुराना है. 1832 से 1839 के बीच रॉबर्ट एडंरसन ने पहला इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव वाहन बनाया था. यानि कि सन् अट्ठारह सौ से ही इलेक्ट्रिक कारों का अविष्कार होना शुरू हो गया था.

इलेक्ट्रिक व्हीकल मार्केट का रेवेन्यू 2023 में 457.60 बिलियन डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है. साल 2023 से 2027 के बीच रेवेन्यू 17.02% की CAGR (compound annual growth rate) से बढ़ने की उम्मीद है. जिसके परिणामस्वरूप 2027 तक यह 858.00 बिलियन डॉलर का हो जाएगा. इलेक्ट्रिक व्हीकल मार्केट में यूनिट बिक्री के आंकड़ों पर गौर करें तो 2027 में इसके 16.21 मिलियन व्हीकल्स तक पहुंचने की उम्मीद है. ये आंकड़ें Statista की वेबसाइट से जुटाए गए हैं.

भारत सरकार ने 2030 तक भारत की सड़कों पर 30 % निजी वाहन, 70% वाणिज्यिक वाहन, 80% टू व्हीलर और थ्री व्हीलर बिक्री का लक्ष्य रखा है. एक अनुमान के मुताबिक भारत में 2050 तक 95% इलेक्ट्रिक वाहन होंगे.

बीते साल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि “भारत में EV का बाज़ार जितनी तेज़ी से बड़ा हो रहा है, कुछ साल पहले इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी. ये देश में एक साइलेंट रेवोल्यूशन (क्रांति) के आने की शुरुआत है."

और इसी क्रांति का एक अहम हिस्सा है RunR Mobility. इसकी शुरुआत की है गुजरात यूनिवर्सिटी के मैकेनिकल इंजीनियर सेतुल शाह ने. वे MECpower Solutions Limited के डायरेक्टर भी हैं, जोकि RunR की पैरेंट कंपनी है. हाल ही में सेतुल ने YourStory से बात करते हुए कंपनी की शुरुआत, बिजनेस मॉडल, चुनौतियों और भविष्य की योजनाओं के बारे में बताया.

शुरुआत

सेतुल ने 2021 में गुजरात के वड़ोदरा में RunR Mobility की नींव रखी थी. वे बताते हैं, "भारत में ईवी इंडस्ट्री अभी भी शुरुआती अवस्था में है. हालांकि, हर एक ब्रांड की अपनी यूएसपी है. हमने देखा कि प्रोडक्ट्स या तो चीन से सस्ते में इंपोर्ट किए गए थे या तुलनात्मक रूप से महंगे थे. कुछ मामलों में, बैटरियों में विस्फोट होने का खतरा था, और कुछ के इन्फ्रास्ट्रक्चर में कमी थी. तब हमने यही सोचा था कि यह कोई ऐसी चीज नहीं है जिस पर ग्राहक को अपनी खून-पसीने की कमाई खर्च करनी चाहिए. इसलिए, हम भारतीय ग्राहकों की जेब और सेफ्टी - दोनों को ध्यान में रखते हुए एक EV-2W विकसित करने के लिए एक समाधान लेकर आए हैं जो 100% स्वदेशी हैं."

वे आगे बताते हैं, "हमारे वाहन में एक मजबूत चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ यूनिक एक्सप्लोजन-प्रूफ स्वैपेबल (अदला-बदली की जा सकने) बैटरी है, जो बदले में बैटरी से संबंधित सुरक्षा चिंताओं को हल करेगी. हम एक किफायती कीमत पर एक क्वालिटी प्रोडक्ट बनाने में सक्षम हुए हैं, जो निश्चित रूप से बाजार में गेम चेंजर साबित होगा."

बिजनेस मॉडल और यूएसपी

सेतुल दावा करते हैं, "हमारी 4.2 एकड़ की अत्याधुनिक फैक्ट्री में प्रतिदिन 500 वाहन बनाने की क्षमता है. वर्तमान में, फर्म प्रति दिन 200 ई-बाइक का प्रोडक्शन करती है."

कंपनी एक हाइब्रिड सेल्स मॉडल को फॉलो करती है. यह अपने प्रोडक्ट्स - ऑफ़लाइन और ऑनलाइन - दोनों तरह से बेचती है. यह सबसे पहले बिजनेसेज (B2B) को सेवाएं मुहैया करेगी. इसके बाद B2B और B2C तक विस्तार किया जाएगा.

स्वैपेबल बैटरी वाले इलेक्ट्रिक वाहनों के बढ़ते बाजार में अपनी खास पहचान बनाने की नियत से कंपनी B2C स्पेस में ब्रांड बनाने के लिए मल्टी-ब्रांड स्टोर्स के साथ पार्टनरशिप करता है.

RunR का लक्ष्य एक किफायती ईवी कंपनी बनना है. सेतुल बताते हैं, "हम क्वालिटी से समझौता नहीं करते हैं, इसलिए हमने सुनिश्चित किया कि हम सभी मानदंडों को पूरा करते हैं."

वे आगे बताते हैं, "हमारे EVs में कई खास बाते हैं जो हमें अपने प्रतिस्पर्धियों से अलग करती हैं. हमारी बैटरी AIS 156-प्रमाणित हैं. हमारे व्हीकल लिक्विड-कूल्ड हैं, जिससे अचानक आग लगने की संभावना कम हो जाती है. इसके अलावा, अधिकतम सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, हम आग, दुर्घटनाओं और चार्जर की विफलता से बचाने के लिए एडवांस थर्मल रनवे टेस्ट सहित कई तरह के परीक्षण करते हैं."

इसके बारे में और अधिक जानकारी साझा करते हुए सेतुल बताते हैं, "स्मार्ट टेम्परेचर मॉड्यूलेशन मेथडोलॉजी के कारण हमारे ईवी भी अल्ट्राफास्ट चार्जिंग को सपोर्ट करते हैं. इसके अलावा, इसमें कैन-बेस्ड बैटरी मैनेजमेंट सिस्टम (BMS) के लिए एक मजबूत और विश्वसनीय संचार नेटवर्क भी है. हमारे पास एक डिजिटल डीलरशिप है जो अत्याधुनिक तकनीक के साथ तालमेल बिठाती है. इसके अलावा, हमारे यूनिक आउटलेट सुनिश्चित करते हैं कि हमारे ग्राहकों के पास एक सहज अनुभव हो. यह सुनिश्चित करने के लिए कि हम एक सस्टेनेबल अप्रोच का पालन करते हैं, ये आउटलेट पोर्टेबल होने के साथ-साथ रिसाइकिल करने योग्य भी हैं."

कंपनी में निवेश के बारे में बताते हुए सेतुल कहते हैं, "हमने खुद को बाजार में स्थापित करने के लिए लगभग 5 करोड़ रुपये का निवेश किया है. जबकि हम अभी भी अपने शुरुआती चरण में हैं, हम निकट भविष्य में मार्केटिंग और आगे की विकास क्षमता के लिए निवेशकों को आकर्षित करने का इरादा रखते हैं."

चुनौतियां

ईवी मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस शुरू करने में आई चुनौतियों के बारे में बात करते हुए सेतुल बताते हैं, "ईवी की स्थापना के बाद से जिन मुख्य बाधाओं का सामना करना पड़ा है, वे हैं इन्फ्रास्ट्रक्चर में कमी कमी और लोगों के बीच जागरुकता की कमी. ईवी बाजार में प्रवेश करना हमारी कंपनी के निर्माण में सबसे कठिन चुनौतियों में से एक रहा है. हालांकि, जब मार्केट विजिबिलिटी की बात आती है, तो हमने अब तक शानदार प्रदर्शन किया है. इसके बावजूद, स्थापना के बाद से कई बाधाएं रही हैं, जैसे कि भरोसेमंद ग्राहकों की कमी, मजबूत टीम स्ट्रक्चर, बढ़ता कॉम्पिटिशन और ब्रांड और मॉडल की अधिकता. हालांकि, ईवी ने हाल के वर्षों में काफी विकास किया है."

भविष्य की योजनाएं

सेतुल बताते हैं, "हम प्रतिस्पर्धी ईवी युग में महत्वपूर्ण रूप से बढ़ने के लिए वित्तीय वर्ष 2023-24 के दौरान कम से कम 15000 ईवी बेचने का इरादा रखते हैं."

ईवी इकोसिस्टम में अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए RunR Mobility बिजनेस का विस्तार करने की योजना बना रही है. यह अपने प्रोडक्ट्स और कंपनी के बारे में जागरूकता फैला रही है. कंपनी 100% स्वदेशी स्मार्ट-इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाती है जिनमें स्वैपेबल बैटरी होती हैं.

अंत में सेतुल बताते हैं, "बिजनेस का विस्तार करने के लिए, हम नई फैक्टरी लगाने के साथ नए वाहनों को पेश करने और हमारे प्रोडक्ट्स की सर्विस के लिए कंपनियों के साथ सहयोग करने की प्रक्रिया में हैं. ग्राहकों को इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की रेंज देने के अलावा, हम बाजार में अपने हाई क्वालिटी वाले प्रोडक्ट्स के साथ विश्व स्तर पर विस्तार करना चाहते हैं."

यह भी पढ़ें
पीएम ऑफिस में टेलीकॉम नेटवर्क सेटअप करने वाले शख्स ने कैसे खड़ी कर दी 120 करोड़ के रेवेन्यू वाली EV बैटरी कंपनी
यह भी पढ़ें
MBA पेपर बैग वाला: विदेश में भी है इनके बनाए पेपर बैग्स की डिमांड, इस साल 60 करोड़ कमाई की उम्मीद