हर्षा इंजीनियर्स का IPO फुली सब्सक्राइब, ग्रे मार्केट प्रीमियम पहुंचा 60% के पार, जानिए पैसे लगाएं या नहीं

हर्षा इंजीनियर्स इंटरनेशनल के 755 करोड़ रुपये के IPO के लिए मूल्य दायरा 314-330 रुपये प्रति शेयर रखा गया है.

हर्षा इंजीनियर्स का IPO फुली सब्सक्राइब, ग्रे मार्केट प्रीमियम पहुंचा 60% के पार, जानिए पैसे लगाएं या नहीं

Thursday September 15, 2022,

3 min Read

14 सितंबर को खुला हर्षा इंजीनियर्स इंटरनेशनल का आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (Harsha Engineers International IPO) पहले दिन ही फुली सब्सक्राइब हो गया. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, आईपीओ के लिए 16863795 शेयरों की पेशकश पर 32461830 शेयरों के लिए बोलियां मिलीं, जो 1.92 गुना सब्सक्रिप्शन बैठता है. खुदरा व्यक्तिगत निवेशक खंड को 2.28 गुना सब्सक्रिप्शन मिला, जबकि गैर-संस्थागत निवेशक श्रेणी में 3.60 गुना सब्सक्रिप्शन मिला. वहीं पात्र संस्थागत खरीदार (QIB) खंड में 0.05 गुना सब्सक्रिप्शन प्राप्त हुआ.

आईपीओ शुक्रवार 16 सितंबर को बंद होगा. प्रीसिशन बियरिंग केज विनिर्माता हर्षा इंजीनियर्स इंटरनेशनल के 755 करोड़ रुपये के आईपीओ के लिए मूल्य दायरा 314-330 रुपये प्रति शेयर रखा गया है. निर्गम में 455 करोड़ रुपये तक नये शेयर जारी किये जायेंगे. इसके अलावा कंपनी के मौजूदा शेयरधारक 300 करोड़ रुपये तक की बिक्री पेशकश (OFS) लायेंगे. बिक्री पेशकश के हिस्से के रूप में राजेंद्र शाह, हरीश रंगवाला, पिलक शाह, चारुशीला रंगवाला और निर्मला शाह अपने शेयरों की बिक्री करेंगे. कंपनी अपने पात्र कर्मचारियों को 31 रुपये प्रति इक्विटी शेयर का डिस्काउंट दे रही है.

अच्छी लिस्टिंग का अनुमान

ग्रे मार्केट में कंपनी के अनलिस्टेड शेयर 60 प्रतिशत प्रीमियम पर ट्रेड कर रहे हैं. इसे देखते हुए कयास लगाए जा रहे हैं कि कंपनी की शेयर मार्केट में लिस्टिंग अच्छी रह सकती है. आईपीओ से प्राप्त होने वाली आय का इस्तेमाल कंपनी ऋण भुगतान, मशीनरी की खरीद के लिए कार्यशील पूंजी और मौजूदा उत्पादन सुविधाओं के बुनियादी ढांचे की मरम्मत के लिए करेगी.निर्गम का आधा हिस्सा योग्य संस्थागत निवेशकों के लिए आरक्षित रखा गया है, जबकि खुदरा निवेशकों के लिए 35 प्रतिशत और शेष 15 प्रतिशत गैर-संस्थागत निवेशकों के लिए आरक्षित है. आईपीओ के लिए एक्सिस कैपिटल, इक्विरस कैपिटल और जेएम फाइनेंशियल लीड मैनेजर हैं, जबकि लिंक इनटाइम इंडिया को रजिस्ट्रार नियुक्त किया गया है.

एंकर इन्वेस्टर्स से 225.75 करोड़ रुपये जुटाए

हर्षा इंजीनियरिंग, ऑटोमोटिव, एविएशन, एयरोस्पेस, रेलवे, कंस्ट्रक्शन, रिन्युएबल एनर्जी, एग्रीकल्चर आदि समेत विभिन्न जियोग्राफीज व एंड यूजर इंडस्ट्रीज में विविध प्रकार के इंजीनियरिंग प्रॉडक्ट्स की पेशकश करती है. कंपनी 25 से ज्यादा देशों में अपनी सेवाएं देती है. कंपनी ने एक रेगुलेटरी फाइलिंग में कहा कि हर्षा इंजीनियर्स ने 330 रुपये प्रति शेयर की कीमत पर 68.4 लाख इक्विटी शेयरों को अलॉट कर ग्लोबल और डॉमेस्टिक एंकर इन्वेस्टर्स से 225.75 करोड़ रुपये जुटाए हैं. एंकर बुक में अमेरिकन फंड्स इंश्योरेंस, गोल्डमैन सैक्स, पाइनब्रिज ग्लोबल फंड्स, अबू धाबी इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी, व्हाइटओक कैपिटल और कई डॉमेस्टिक म्यूचुअल फंड्स ने हिस्सा लिया.

सब्सक्राइब करें या नहीं?

शेयर इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट और रिसर्च हेड रवि सिंह के अनुसार हर्षा इंजीनियर्स मजबूत स्थिति बनाए हुए है और उद्योगों में बढ़ती बेयरिंग केज की मांग को पूरा करने के लिए अच्छी तरह तैयार है. कंपनी के पास सटीक इंजीनियरिंग के कई पोर्टफोलियो हैं. बात अगर भारत की करें तो यहां के 50 फीसदी बेयरिंग केज के बिजनस मार्केट पर कंपनी का कब्जा है. वहीं ग्लोबल मार्केट में भी कंपनी की 6.5 फीसदी की हिस्सेदारी है. रवि सिंह का मानना है कि इस आईपीओ को सब्सक्राइब करना चाहिए, निवेशकों को इससे तगड़ा मुनाफा हो सकता है.


Edited by Ritika Singh