रेडियोलॉजी स्कैन के परिणामों को तेज करने के लिए AI और ML का उपयोग कर रहा है यह स्टार्टअप

6 CLAPS
0

बेंगलुरू स्थित हेल्थटेक स्टार्टअप 5 सी नेटवर्क उच्च स्तर की सटीकता के साथ तेजी से स्कैन के परिणाम देने के लिए एआई और एमएल जैसी तकनीकों का लाभ उठाता है।

5 सी नेटवर्क के सह-संस्थापक कल्याण शिवसैलम


कुछ साल पहले सैयद अहमद ने एक एमआरआई स्कैन कराया और रेडियोलॉजी रिपोर्ट इकट्ठा करने के लिए उन्हे तीन दिनों तक इंतजार करना पड़ा। इसने सैयद और उनके दोस्त कल्याण शिवसैलम को तेज परिणामों के लिए एक डिजिटल मंच बनाने के लिए प्रेरित किया।

यहीं से 5C नेटवर्क की उत्पत्ति हुई। 2016 में कल्याण और सैयद- दो इंजीनियरों द्वारा स्थापित बेंगलुरु मुख्यालय वाला हेल्थटेक स्टार्टअप 5C नेटवर्क का प्लेटफ़ॉर्म रेडियोलॉजी परीक्षण के परिणाम के समय को कम कर देता है। यह सिर्फ 42 मिनट में सटीकता के साथ रिपोर्ट देता है।

कर्नाटक में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) सुरथकल के स्नातक, कल्याण कहते हैं कि वह हमेशा रेडियोलॉजी तकनीक से मोहित थे। सैयद ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (IISc) से इलेक्ट्रॉनिक्स में मास्टर किया और कल्याण ने सैयद के साथ एक छात्र के रूप में इंटर्नशिप की।

कल्याण ने कहा, "पूरा विचार यह था कि क्या कोई इन रेडियोलॉजी रिपोर्टों को तेज और सटीक तरीके से प्राप्त कर सकता है।"

इसी समय अन्य चीजें भी थीं जो बेहतर इंटरनेट स्पीड, ऐप्स का अधिक उपयोग, हेल्थकेयर क्षेत्र में तकनीक को अधिक अपनाने, कंप्यूटिंग शक्ति बढ़ाने आदि के साथ पारिस्थितिकी तंत्र के मामले में 5C नेटवर्क के लिए जगह बना रही थीं।

कल्याण कहते हैं, ''हमने इनमें से कई चीजों को एक साथ आते हुए देखा और माना कि डिजिटल रेडियोलॉजी के लिए टेक्नोलॉजी सहायक हो सकती है।” गौरतलब है कि देश भर में हर दिन लगभग 800,000 स्कैन किए जाते हैं।

कैसा है मंच?

5C नेटवर्क ने सभी प्रतिभागियों जैसे रेडियोलॉजिस्ट, अस्पताल और नैदानिक केंद्रों को एक साथ लाने के लिए एक प्रौद्योगिकी मंच बनाया है।

स्कैन किए जाने के बाद छवि को स्टार्टअप के प्लेटफ़ॉर्म पर भेज दिया जाता है, जहां परिणामों का विश्लेषण करने और प्रदान करने के लिए यह सबसे बेहतर उपलब्ध रेडियोलॉजिस्ट को रूट किया जाता है।

कल्याण कहते हैं, "हमारी मालिकाना छवि कंप्रेशन एल्गोरिदम इन छवियों को प्रसारित करने में मदद करती है।"

इसके अलावा स्टार्टअप की कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) प्लेटफॉर्म रेडियोलॉजिस्ट को बीमारी के विशिष्ट कारण का पता लगाने में मदद करता है। कल्याण के अनुसार उनके एआई मॉडल ने उन्हें उच्च स्तर की सटीकता हासिल करने में मदद की है। इससे भी महत्वपूर्ण बात, प्लेटफ़ॉर्म प्रत्येक स्कैन के केस इतिहास को भी तैयार करता है, जो सटीक परिणामों में मदद करता है।

उदाहरण के लिए खनन उद्योग के वर्चस्व वाले क्षेत्र में रहने वाले व्यक्ति के फेफड़े के स्कैन के परिणाम किसी ऐसे व्यक्ति के साथ भिन्न हो सकते हैं जो समान कार्य करता है, लेकिन किसी अन्य स्थान पर रहता है। इसे रोग सूचक कहा जाता है और 5C नेटवर्क का मंच रेडियोलॉजिस्ट को ये इनपुट प्रदान करता है।

कल्याण ने कहा, "ये सभी चीजें पूरे मंच पर लाइव हो रही हैं और हम केवल 42 मिनट में रेडियोलॉजी रिपोर्ट परिणाम देने में सक्षम हैं।"



बाजार और विकास

रेडियोलॉजी बाजार अस्पतालों, नैदानिक केंद्रों में मौजूद इन सेवाओं से अत्यधिक खंडित है और यहां तक कि निजी क्लीनिक भी इससे अछूते नहीं हैं। उद्योग की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय रेडियोलॉजी बाजार लगभग 45,000 करोड़ रुपये के आकार का है।

2016 में 5C नेटवर्क ने एक महीने में 26 रेडियोलॉजी रिपोर्ट करना शुरू किया और अब यह औसत 80,000 तक पहुंच गया है। देश भर में 600 ग्राहकों के साथ इसके मंच पर लगभग 350 रेडियोलॉजिस्ट हैं।

कल्याण का दावा है, "हमने उच्च सटीकता मानकों के साथ गुणवत्ता प्रक्रिया निर्धारित की है, जो रेडियोलॉजिस्ट को तेजी से परिणाम देने में मदद करता है।"

आज, लगभग 45 कर्मचारियों वाले 5 सी नेटवर्क के पास अस्पतालों और नैदानिक केंद्रों से ग्राहक हैं। स्टार्टअप पे-पर-यूज़ बिज़नेस मॉडल पर काम करता है और सह-संस्थापक का दावा है कि प्लेटफॉर्म पर रेडियोलॉजिस्ट अस्पतालों या डायग्नोस्टिक सेंटरों में अपने साथियों की तुलना में बहुत अधिक कमाते हैं।

स्टार्टअप ने आईआईएम अहमदाबाद के प्रौद्योगिकी व्यवसाय इनक्यूबेटर यूनिटस वेंचर्स, एक्सिलोर और सेंटर फॉर इनोवेशन इंक्यूबेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप (सीआईआईई) से अब तक लगभग 5 करोड़ रुपये जुटाए हैं। यह जल्द ही फंडिंग के एक और दौर की ओर बढ़ा रहा है।

भारत में रेडियोलॉजी बाजार की विशालता को देखते हुए कुछ नाम जैसे डीपटेक और क्योर डॉट आई जैसे अन्य स्टार्टअप इस क्षेत्र में हैं। हालांकि कल्याण का मानना है कि 5 सी नेटवर्क की यूएसपी प्रौद्योगिकी, प्रक्रियाओं और बेहतर सेवा स्तरों का एक संयोजन है।



भविष्य की योजनाएं

5C नेटवर्क अपने पहले बैच में GE हेल्थकेयर के स्टार्टअप एक्सेलेरेटर प्रोग्राम 'एडिसन' का भी हिस्सा था। अन्य स्टार्टअप जो इस कार्यक्रम का हिस्सा थे, उनमें डीपटेक, ऑर्बो, प्रिडिबल और सिनाप्सिका शामिल हैं।

विप्रो जीई हेल्थकेयर के दक्षिण एशिया के एमडी नलिनीकांत गोलगुन्टा ने कहा, “उनकी ताकत उनके अद्वितीय तकनीकी ज्ञान और वास्तविक विश्व स्वास्थ्य समस्याओं के लिए गहरे व्यावसायिक कौशल से मेल खाने की क्षमता में निहित है। इनमें से प्रत्येक स्टार्टअप उन क्षेत्रों पर काम कर रहा है जो GE और हमारे ग्राहकों के लिए बेहद प्रासंगिक हैं।"

चुनौतियों के बारे में बोलते हुए, कल्याण कहते हैं, "समग्र चिंता व्यापार के दृष्टिकोण से नहीं है, बल्कि रिपोर्ट में त्रुटि या देरी को कम करने के लिए है।"

कल्याण के अनुसार, भविष्य में, 5C नेटवर्क की योजना घरेलू और विदेशी बाजार में विस्तार करने की है। रेडियोलॉजी एक बड़े पैमाने पर बाजार है और डिजिटल रूप से कमतर है।।

यह डायगनोस्टिक मानकों की गुणवत्ता को और बेहतर बनाने और बढ़ी हुई सटीकता के लिए इसकी मशीन लर्निंग की क्षमता में सुधार करने की योजना बना रहा है।

कल्याण कहते हैं, "हमारे पास अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जाने का सही लॉन्चिंग पैड है और हमें बांग्लादेश, केन्या, म्यांमार और तंजानिया जैसे देशों से रुचि है।"

इसके अलावा 5 सी नेटवर्क भी सक्रिय रूप से टेली हेल्थकेयर सेगमेंट में देख रहा है, जो टेली पैथोलॉजी के क्षेत्र में सेवाएं प्रदान कर सकता है।

कल्याण ने कहा, "रेडियोलॉजी के वस्तुनिष्ठ विश्लेषण के साथ कुछ भी किया जाए, तो 5 सी नेटवर्क आने की जगह होगी।"