देश की पहली विमानन कंपनी का नाम कैसे पड़ा था Air India

By Ritika Singh
June 28, 2022, Updated on : Fri Aug 26 2022 09:50:28 GMT+0000
देश की पहली विमानन कंपनी का नाम कैसे पड़ा था Air India
देश की पहली विमानन कंपनी Air India को जेआरडी टाटा ने Tata Airlines के नाम से 1932 में शुरू किया था.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

टाटा ग्रुप (Tata Group) की झोली में आने के बाद एयर इंडिया (Air India) एक बार फिर अपनी खोई हुई पैठ वापस पाने की कोशिश कर रही है. टाटा ग्रुप, विमानन कंपनी को एक बार फिर लो​कप्रियता के आसमान पर पहुंचाने की दिशा में पुरजोर प्रयास कर रहा है. Air India को टाटा ग्रुप को हैंडओवर करने की प्रक्रिया आधिकारिक तौर पर 27 जनवरी 2022 को पूरी हुई. लिहाजा अब Air India पूरी तरह से टाटा ग्रुप का हिस्सा है.


देश की पहली विमानन कंपनी Air India को टाटा समूह ने ही साल 1932 में शुरू किया था. जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने विमानन कंपनी को Tata Airlines के नाम से शुरू किया था. लेकिन 1946 में इसका दूसरा नाम चुनने की कवायद शुरू हुई, जब टाटा एयर लाइंस का विस्तार एक कंपनी के रूप में हुआ. इसी साल फरवरी माह में टाटा ग्रुप ने अपने ट्विटर हैंडल से 1946 के मासिक बुलेटिन के अंश शेयर किए थे. उन्हीं से सामने आया कि आखिर टाटा एयरलाइंस को एयर इंडिया नाम कैसे मिला.

जनमत संग्रह कराने का हुआ फैसला

टाटा एयरलाइंस का नया नाम चुनने के लिए टाटा समूह के कर्मचारियों के बीच एक जनमत संग्रह (Opinion Poll) कराया गया. उनके पास चार नामों के विकल्प थे- इंडियन एयरलाइंस, पैन-इंडियन एयरलाइंस, ट्रांस-इंडियन एयरलाइंस और एयर इंडिया. कर्मचारियों के बीच मत पत्र वितरित किए गए.

किस नाम के लिए पड़े कितने वोट

पहली गणना में 64 मत एयर इंडिया के पक्ष में, 51 इंडियन एयर लाइंस के पक्ष में, 28 मत ट्रांस इंडियन एयरलाइंस के पक्ष में और 19 पैन-इंडियन एयरलाइंस के पक्ष में पड़े. अंतिम गणना में 72 मत एयर इंडिया के लिए और 58 इंडियन एयरलाइंस के पक्ष में थे. इस तरह नई कंपनी का नाम ‘एयर इंडिया’ रखा गया.

पहले प्राइवेट, फिर सरकारी और अब फिर से प्राइवेट

Air India का 1953 में राष्ट्रीयकरण हो गया था और एयर इंडिया सरकारी कंपनी बन गई. वक्त गुजरने के साथ-साथ Air India कर्ज में डूबती गई और खस्ता हाल हो गई. लिहाजा सरकार ने इसकी बिक्री करने का फैसला लिया. Air India की खरीद के लिए बिड अक्टूबर 2021 में टाटा ग्रुप की कंपनी टाटा सन्स की इकाई Talace Pvt Ltd ने जीती. Talace Pvt Ltd 18000 करोड़ रुपये के साथ Air India के लिए विनिंग बिडर रही. Air India को टाटा ग्रुप को हैंडओवर करने की प्रक्रिया आधिकारिक तौर पर 27 जनवरी 2022 को पूरी हुई. इस तरह Air India 68 साल बाद फिर से टाटा की हो गई.