जिंदगी! IAF ने लद्दाख में बर्फ से जमी ज़ांस्कर नदी से नौ विदेशी नागरिकों समेत 107 से अधिक जानें बचाईं

By yourstory हिन्दी
January 17, 2020, Updated on : Fri Jan 17 2020 03:31:30 GMT+0000
जिंदगी! IAF ने लद्दाख में बर्फ से जमी ज़ांस्कर नदी से नौ विदेशी नागरिकों समेत 107 से अधिक जानें बचाईं
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

नौ विदेशी नागरिकों समेतत 50 ट्रेकर्स और लगभग इतने ही स्थानीय गाइड और पोर्टर्स, जो चल रहे ’चदर ट्रेक’ का एक हिस्सा थे, तब जमींदार नदी के कुछ हिस्से पिघल जाने पर फंसे हुए थे। पिघलने के कारण पानी का प्रवाह बहुत मजबूत हो गया, जिससे ट्रेकर्स पैदल ही नदी पार करते रहे।


k

फोटो क्रेडिट: Tweeter @MIB_India



फंसे हुए ट्रेकर्स एक छोटे से शिविर स्थल नीरक की ओर बढ़ने में कामयाब रहे और उनके बचाए जाने का इंतजार कर रहे थे। हेलीकॉप्टरों द्वारा बचाव के लिए, नदी के किनारे एक अस्थायी हेलिपैड तैयार किया गया था। एएलएच हेल लेह से एएलएच हेलीकॉप्टरों को तुरंत कार्रवाई में लाया गया।


आईएएफ के हेलीकॉप्टरों ने पिछले दो दिनों के दौरान 107 व्यक्तियों को बचाया है। बचाए गए ट्रेकर्स में फ्रांस से एक पुरुष और एक महिला और पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना से चार पुरुष और तीन महिलाएं शामिल हैं, जिनके अनुसार पदुम से बचाया गया था।

IAF द्वारा बचाव अभियान तब तक जारी रहेगा जब तक कि सभी फंसे हुए ट्रेकर्स, गाइड और पोर्टरों को बाहर निकाल कर सुरक्षा के लिए नहीं लाया जाता। इसके अतिरिक्त, फंसे हुए ट्रेकर्स को चिकित्सा सुविधा प्रदान करने के लिए एएफ स्टेन लेह से नीराक तक एक चिकित्सा अधिकारी और एक चिकित्सा सहायक को भी भेजा गया।


टीम ने निराक में एक चिकित्सा सहायता शिविर स्थापित किया है और फंसे हुए ट्रेकर्स को बुनियादी चिकित्सा सहायता प्रदान कर रही है।


IAF द्वारा लद्दाख की नवगठित सिविल प्रशासन, भारतीय सेना की इकाइयों और स्थानीय आपदा राहत टीमों के साथ निकट समन्वय में अभियान चलाया गया।


(सौजन्य से: PIB_India)