IIT कानपुर ने 2022 में फाइल किये रिकॉर्ड 107 IPR, जानिए क्या होते हैं IPR

By रविकांत पारीक
January 03, 2023, Updated on : Tue Jan 03 2023 09:17:52 GMT+0000
IIT कानपुर ने 2022 में फाइल किये रिकॉर्ड 107 IPR, जानिए क्या होते हैं IPR
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

IIT कानपुर ने कैलेंडर वर्ष 2022 में रिकॉर्ड 107 आईपीआर (Intellectual Property Rights) दायर किए हैं. यह लगातार दूसरा वर्ष है जब संस्थान ने संस्थान के इतिहास में सबसे अधिक आईपीआर (107) दाखिल किए है.


दायर किए गए 107 आईपीआर में, विभिन्न आईपीआर संभावनाओं में 80 पेटेंट, 23 डिजाइन पंजीकरण, 2 कॉपीराइट और 1 ट्रेडमार्क आवेदन के साथ 1 यूएस पेटेंट आवेदन शामिल हैं.


पेटेंट में नैनो तकनीक से लेकर मेडटेक तक के विभिन्न डोमेन के आविष्कार शामिल हैं, जिसमें घायल और रोगग्रस्त हड्डियों के उपचार के लिए पारंपरिक चिकित्सा में लोकप्रिय रूप से उपयोग किए जाने वाले चिकित्सा पौधों पर आधारित दवा वितरण प्रणाली जैसे कई स्वास्थ्य देखभाल समाधान शामिल हैं. इस साल दायर किए गए अन्य पेटेंट में ओकुलर जीन थेरेपी के लिए ऑप्टिमाइज्ड ट्रांसजेन, ऑस्टियोआर्थराइटिस के इलाज के लिए बीमारी को संशोधित करने वाली दवा संयोजन, ग्लूकोज का पता लगाने के लिए एक इलेक्ट्रोकेमिकल उपकरण, अन्य शामिल हैं.

iit-kanpur-continues-highest-streak-in-ipr-filing-files-107-iprs-in-2022

प्रो. अभय करंदीकर, निदेशक, आईआईटी कानपुर ने कहा, “हम लगातार दो वर्षों तक अपने संस्थान के इतिहास में 107 - 100+ आईपीआर दाखिल करके इस क्रम को जारी रखते हुए प्रसन्न हैं. यह अनुसंधान डोमेन के विविधीकरण के साथ-साथ अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों में संस्थान की घातीय वृद्धि का प्रमाण है. हमारे संकाय, शोधकर्ता और छात्र सार्थक विचार-विमर्श में संलग्न होने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जिसके परिणामस्वरूप प्रभावशाली आविष्कार, जो सभी क्षेत्रों में एक आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में योगदान करने की क्षमता रखते हैं."


संस्थान ने कैलेंडर वर्ष में प्रदान किए गए आईपीआर की संख्या में जबरदस्त वृद्धि देखी है. इस तरह के 95 पेटेंटों में, नेत्रहीनों के लिए एक टैक्टाइल हैप्टिक स्मार्ट वॉच, पानी की गुणवत्ता की निगरानी करने वाले आविष्कार जैसे सूखे और कॉम्पैक्ट जल शोधन वेसल, ई.कोली जल परीक्षण किट, सौर ऊर्जा-आधारित रूट ज़ोन हीटिंग सिस्टम और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पौधों के लिए वर्मी-बेड विधि जैसे कुछ नाम शामिल हैं.  


आईपीआर के सफल फाइलिंग में आईआईटी कानपुर का सहायक नीति ढांचा महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. आईपी और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण कार्यालय, आईआईटी कानपुर न केवल आईपीआर फाइलिंग की अधिकतम संख्या को प्राप्त करने के लिए महान तालमेल के साथ काम कर रहा है, बल्कि संस्थान की प्रयोगशाला से उत्पादों के प्रारूप के साथ उद्योगों की असेंबली लाइन तक प्रौद्योगिकी हस्तांतरण लेनदेन में वृद्धि और प्रसार की सुविधा भी प्रदान कर रहा है.


आई आई टी (IIT) कानपुर का "भू-परीक्षक" का नवीनतम प्रौद्योगिकी हस्तांतरण - मृदा परीक्षण उपकरण, सामाजिक-आर्थिक प्रभाव पैदा करने वाले प्रभावशाली प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के लिए STEM इम्पैक्ट अवार्ड्स 2022 से सम्मानित होने के बाद सुर्खियाँ बटोर रहा है.


संस्थान ने न केवल एक कैलेंडर वर्ष में पेटेंट की लगातार शताब्दी देखी है बल्कि मौजूदा समय में कुल 917 आईपीआर तक पहुंच गया है. राष्ट्र के अनुसंधान और विकास पूल को समृद्ध करने और जमीनी स्तर पर प्रभावशाली आविष्कारों को सामने लाने के उद्देश्य से संस्थान के अथक प्रयासों ने आईआईटी कानपुर के लिए आईपीआर फाइलिंग में समग्र वृद्धि में योगदान दिया है.

IPR के मायने?

बौद्धिक संपदा अधिकार (Intellectual Property Rights – IPRs) व्यक्तियों को उनके दिमाग की रचनाओं जैसे आविष्कारों, साहित्यिक और कलात्मक कार्यों, और प्रतीकों, नामों और वाणिज्य में उपयोग किए जाने वाले चित्रों के लिए दिए गए अधिकार हैं. इसी सन्दर्भ में भारत सरकार द्वारा बौद्धिक संपदा शासन को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय बौद्धिक संपदा अधिकार नीति (National Intellectual Property Rights Policy - NIPR) जारी की गई है.


आसान भाषा में, IPR एक तरह का कानून है जैसे Copyright Law, Trademark Registration आदि है. मतलब कि अगर कोई शख्स किसी डिजाईन या कोई भी वर्क जो वो खुद की मेहनत से करता है, उसको वह रजिस्टर करवा लेगा तो फिर कोई और बिना उसकी मर्जी के इस्तेमाल नही कर सकता है.