IIT मद्रास ने बनाई भारत की पहली स्वदेशी मोटर से चलने वाली व्हीलचेयर

भारत में कुल 3 लाख व्हीलचेयरों की सालाना बिक्री होती है, जिनमें से 2.5 लाख इम्पोर्ट की जाती है; साथ ही साथ समान सुविधाओं वाली व्हीलचेयर केवल विश्वबाजार में उपलब्ध है और तीन से पांच गुना अधिक महंगी है।

IIT मद्रास ने बनाई भारत की पहली स्वदेशी मोटर से चलने वाली व्हीलचेयर

Monday August 23, 2021,

6 min Read

भारतीय प्राैद्योगिकी संस्थान (IIT) मद्रास ने भारत की पहली स्वदेशी मोटर से चलने वाली व्हीलचेयर को डेवलप किया है, जिसका उपयोग न केवल समतल सड़कों पर बल्कि उबड़-खाबड़ रास्तों पर भी किया जा सकता है।


‘नीयोबोल्ट‘ (NeoBolt) नामक ये व्हीलचेयर 25 किमी प्रति घंटा तक की तेजी से चल सकती है। इसमें लिथियम-आयन बैटरी का इस्तेमाल किया गया है, और एक बार चार्ज करने पर 25 किमी की दूरी तय कर सकती है। व्हीलचेयर पर चलने वालों के लिए ये कार, ऑटो-रिक्शा या मोडिफाइड स्कूटर की तुलना में बाहर जाने का कहीं अधिक सुविधाजनक, सुरक्षित और सस्ता साधन है।


इसे बनाने की पूरी प्रक्रिया में IIT-मद्रास के शोधकर्ताओं ने लोकोमोटर अपंगता से पीड़ित लोगों के लिए कार्यरत संगठनों और अस्पतालों का पूरा सहयोग लिया और उनके अनुभवों को ध्यान में रखते हुए प्रोडक्ट तैयार किया और डिजाइन में निरंतर सुधार किया।

iit madras

‘नियोबोल्ट‘ डेवलप करने वाली टीम की प्रमुख IIT-मद्रास के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग की प्रो. सुजाता श्रीनिवासन हैं और इसे ‘नीयोमोशन‘ (NeoMotion) नामक स्टार्टअप के सहयोग से व्यावसायिक रूप दिया जा रहा है। स्टार्टअप की को-फाउंडर प्रो. सुजाता श्रीनिवासन स्वयं और आईआईटी मद्रास के पूर्व छात्र श्री स्वास्तिक सौरव हैं जो नीयोमोशन के सीईओ भी हैं।


गौरतलब है कि प्रो. सुजाता श्रीनिवासन भारत के पहले स्वदेशी डिजाइन के स्टैंडिंग व्हीलचेयर ‘अराइज‘ विकसित करने वाली टीम की प्रमुख भी हैं और यह व्हीलचेयर इस पर बैठे इंसान को खड़ा होने में सक्षम बनाती है।


इन प्रोडक्ट के विकास की दूरदृष्टि जाहिर करते हुए टीटीके सेंटर फॉर रिहैबिलिटेशन रिसर्च एंड डिवाइस डेवलपमेंट (आर2डी2), IIT-मद्रास की शिक्षा प्रमुख प्रो. सुजाता श्रीनिवासन ने कहा, "हमारे केंद्र की दूरदृष्टि भारत के अपंगों की जिन्दगी बदलना है। इसके लिए हम उपयोगी और किफायती सहायक साधनो का विकास करते हैं। आप कितनी बार किसी स्कूल, कार्यालय, दुकान या थिएटर में व्हीलचेयर पर किसी को आते देखते हैं? दरअसल व्हीलचेयर पर इंसान आमतौर पर घर की चारदीवारी में ही सिमट कर रह जाता है। वह समुदाय से अलग-थलग हो जाता है और अर्थव्यवस्था में योगदान देने की उसकी क्षमता बहुत कम हो जाती है।"


उन्होंने आगे कहा, "नीयोमोशन स्टार्टअप की शुरुआत आर2डी2 से की गई, जिसे IIT-मद्रास ने इनक्युबेट किया। ये व्हीलचेयर भारत और पूरी दुनिया के लिए डिजाइन की गई और भारत में बनी हैं जो अपंग लोगों की दुनिया बदल देगी और उन्हें विश्वस्तरीय सुविधाएं देगी।"


स्टार्टअप ने लोगों को स्वस्थ और अच्छी जीवनशैली देने के लिए ‘नीयोफ्लाई’ (NeoFly) नामक व्यक्तिगत व्हीलचेयर डिजाइन और व्यावसायिक रूप से लॉन्च की है। इसे 18 तरह से कस्टमाइज किया जा सकता है, इसलिए उपयोग करने वाले की हर तरह की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए यह सबसे सटीक साबित होगा।


प्रो. सुजाता श्रीनिवासन ने कहा, "नीयोफ्लाई उपयोगकर्ता के लिए कस्टमाइज किया जाने वाला पहला भारतीय व्हीलचेयर है। यह अधिक आराम, अधिक कारगर ‘प्रोपल्शन’, चलाने में अधिक आसानी और बेहतर अर्गोनॉमिक्स देने के लिए बना है। मोटर चालित अटैचमेंट,

नीयोबोल्ट नीयोफ्लाई को सुरक्षित, हर तरह की सड़क योग्य बना देती है जो किसी भी तरह के रास्ते पर जा सकती है और आम तौर पर हम हर तरह के रास्ते पर जाते हैं, जैसे कच्ची सड़क या खड़ी चर्ढ़ाइ वाले रास्ते। यह हर रास्ते पर आराम से चलती है क्योंकि इसमें झटके सहने के लिए सस्पेंशन लगा है।"


नीयोबोल्ट जैसे फीचर वाले प्रोडक्ट केवल विश्वबाजार में उपलब्ध हैं और वे कम से कम तीन से पांच गुना अधिक महंगे हैं।


वर्तमान में इनके चलन पर विस्तार से बताते हुए नीयोमोशन के को-फाउंडर और सीईओ श्री स्वास्तिक सौरव दास ने कहा,

"वर्तमान में भारत के 28 राज्यों के 600 से अधिक लोग नियोर्फ्लाइ और नीयोबोल्ट का उपयोग कर रहे हैं। इनके बारे में उनकी राय बहुत सकारात्मक रही है। डेमो यूनिट पूर भारत के प्रमुख शहरों में मौजूद 15 डीलर आउटलेट और चार पुनर्वास केंद्रों में उपलब्ध है। हमारे यूनिक नीयोफिट सिस्टम के साथ रिमोट कस्टमाइजेशन की सुविधा है ताकि नीयोफ्लाई अच्छी तरह से फिट होकर उपयोगकर्ता के दरवाजे पर पहुंचे।"


श्री स्वास्तिक सौरव दास ने आगे कहा, "प्रोडक्ट पर वारंटी के साथ हम स्पेयर पार्ट्स और बिक्री के बाद सेवाएं देते हैं ताकि लोग बिना किसी परेशानी के हमारे प्रोडक्ट्स का उपयोग करें। वर्तमान में हम प्रोडक्शन बढ़ाने और पूरे भारत में लोगों तक नीयोर्फ्लाइ और नीयोबोल्ट उपलब्ध कराने पर जोर दे रहे हैं। नीयोर्फ्लाइ व्यक्तिगत व्हीलचेयर की कीमत ₹39,900 हैं और नीयोबोल्ट मोटराइज्ड ऐड-ऑन ₹55,000 में उपलब्ध है। हम आसान EMI का विकल्प भी देते हैं। हमारे प्रोडक्ट खरीदने के इच्छुक लोग हमारी वेबसाइट पर रजिस्टर कर केवल ₹1,000 में इसका ऑर्डर प्री-बुक कर सकते हैं।"


यह अनुमान है कि भारत में सालाना लगभग तीन लाख व्हीलचेयर की बिक्री होती है, जिनमें से 2.5 लाख आयात (इम्पोर्ट) की जाती हैं।

भारत में बिकने वाली कुल व्हीलचेयरों में लगभग 95 प्रतिशत ‘वन-साइज-फिट-ऑल‘ हैं जिसके चलते कई समस्याएं होती हैं

जैसे गतिशीलता में कमी, उपयोगकर्ता के स्वास्थ्य को नुकसान और आत्मविश्वास में कमी। IIT-मद्रास की टीम ने ‘नीयोर्फ्लाइ‘ और ‘नीयोबोल्ट‘ बनाकर इन समस्याओं को दूर करने का इरादा जाहिर किया है।


नीयोर्फ्लाइ प्रत्येक पुश पर तीन से पांच गुना अधिक दूर जाता है क्योंकि इसमें सही पोस्चर, मजबूत फ्रेम और एर्गोनोमिक पुशरिम है। बैठने की बराबर जगह होने के बावजूद 30 प्रतिशत कम फुटप्रिंट होने से यह अधिक संकीर्ण स्थानों तक पहुंचता है। इसकी डिजाइन उपयोगकर्ता के शरीर के अनुरूप होती है इसलिए व्हीलचेयर कम उपयोगकर्ता अधिक दिखता है। हर एक नीयोर्फ्लाइ के साथ खास डिजाइन का नीयोकुशन दिया जाता है जिससे त्वचा की सुरक्षा, स्थिरता और कहीं आना-जाना अधिक आसान होता है।


मोटर चालित क्लिप-ऑन नीयोबोल्ट नीयोर्फ्लाइ को सुरक्षित, हर रास्ते में चलने योग्य वाहन बना देता है। यह व्हीलचेयर पर बैठे इंसान को बाहर की दुनिया में जाने और जिन्दगी देखने में सक्षम बनाने के लिए खास तौर से डिजाइन किया गया है। उसे अन्य वाहनों में स्थानांतरित करने की लाचारी नहीं रहती है और उपयोगकर्ता कुछ सेकेंड में इसे स्वतंत्र रूप से जोड़ सकता है।

नीयोर्फ्लाइ के खास फीचर

नीयोमोशन स्टार्टअप का दावा है कि नीयोर्फ्लाइ व्हीलचेयर के टायर पंक्चर नहीं होंगे, चारदिवारी के अंदर और बाहर जाने के विकल्प एर्गोनोमिक पुशरिम है। इसका मजबूत फ्रेम डिजाइन है। साथ ही बैकरेस्ट और फुटरेस्ट, दोनों की ऊंर्चाइ और एंगल बदले जा सकते हैं। सीट की चौड़ाई और सीट की गहराई के पांच आकार के विकल्प है और इसमें सेफ्टी एंटी टिपर भी है।

नीयोबोल्ट के खास फीचर

खास डिज़ाइन के साथ बना है जिससे तुरंत औरआसानी से लग जाता है। सेफ्टी एंटी टिपर है। ली-आयन बैटरी, 25 किमी प्रति चार्ज, 4 घंटे का रिचार्ज। डिजिटल डैशबोर्ड होने के साथ हेडलाइट, साइड इंडिकेटर, हॉर्न, मिरर, रिवर्स फंक्शन, टेलीस्कोपिक सस्पेंशन है और इसके चेसिस की बनावट मजबूत है।


YourStory की फ्लैगशिप स्टार्टअप-टेक और लीडरशिप कॉन्फ्रेंस 25-30 अक्टूबर, 2021 को अपने 13वें संस्करण के साथ शुरू होने जा रही है। TechSparks के बारे में अधिक अपडेट्स पाने के लिए साइन अप करें या पार्टनरशिप और स्पीकर के अवसरों में अपनी रुचि व्यक्त करने के लिए यहां साइन अप करें।


TechSparks 2021 के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए यहां क्लिक करें।


Tech30 2021 के लिए आवेदन अब खुले हैं, जो भारत के 30 सबसे होनहार टेक स्टार्टअप्स की सूची है। Tech30 2021 स्टार्टअप बनने के लिए यहां शुरुआती चरण के स्टार्टअप के लिए अप्लाई करें या नॉमिनेट करें।

Daily Capsule
CleverTap unfazed by funding winter
Read the full story