भारत के सबसे पुराने अरबपति Pallonji Mistry का निधन, Taj Hotel और Tata Group से रहा खास रिश्ता

पालोनजी शापूरजी मिस्त्री (Pallonji Shapoorji Mistry) को भारत के सबसे पुराने अरबपति के नाम से जाना जाता था. सोमवार की रात को मुंबई में उनका निधन हो गया है. उन्होंने 93 वर्ष की उम्र में अंतिम सांस ली. रिपोर्ट्स के मुताबिक, सोमवार की आधी रात को उनके दक्षिण मुंबई स्थित आवास पर उनकी नींद में ही मौत हो गई. अरबपति बिजनेसमैन पालोनजी मिस्त्री को साल 2016 में देश के तीसरे सबसे बड़े सिविलियन अवार्ड 'पद्म भूषण' (Padma Bhushan) से नवाजा गया था.

पालोनजी मिस्त्री का जन्म साल 1929 में हुआ था. उनके बारे में यह कहा जाता था कि वे दुनिया के सबसे गुमनाम अरबपति हैं. रिपोर्ट्स के अनुसार, पालोनजी मिस्त्री के पास 55 हजार करोड़ रुपये की संपत्ति है. वह दुनिया के 41वें सबसे रईस व्यक्ति हैं. इतनी संपत्ति होने के बावजूद भी उन्हें शायद ही किसी पब्लिक प्लेटफॉर्म पर देखा या सुना गया हो. पालोनजी मिस्त्री ने आयरिश महिला से शादी रचाने के बाद उन्होंने आयरलैंड की नागरिकता हासिल कर ली थी. वह आयरलैंड के सबसे अमीर शख्स हैं. लेकिन उनका अधिकांश समय भारत में ही बीता. उनके परिवार में बेटे साइरस मिस्त्री के अलावा उनकी दो बेटियां लैला और आलू मिस्त्री भी हैं.

शापूरजी पालोनजी ग्रुप भारत में सबसे बड़े बिजनेस समूह में से एक है. बीते करीब 157 सालों से इनका कारोबार चल रहा है. यह ग्रुप 6 बड़े सेगमेंट इंजीनियरिंग, कंस्ट्रक्शन, इन्फ्रास्ट्रक्चर, रियल एस्टेट, वाटर एनर्जी एंड फाइनेंशिनेंयल सर्विसेज में फैला हुआ है. इस ग्रुप में 18 बड़ी कंपनियां हैं. इस ग्रुप में कारोबार 50 से ज्‍यादा देशों में फैला है और करीब 50 हजार इम्‍प्‍लॉई ग्रुप में कार्यरत हैं. 


शापूरजी पालोनजी ग्रुप की स्‍थापना 1865 में हुई थी. इस ग्रुप में मुंबई के कुछ लैंडमार्क बनाएं हैं. जिसमें रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया और द ताज महल पैलेस होटल शामिल है. पिछले साल शापूरजी पालोनजी ग्रुप ने यूरेका फोर्ब्‍स (Eureka Forbes) के अंतर्गत अपना कंज्‍यूमर ड्यूरेबल्‍स बिजनेस अमेरिकी प्राइवेट इक्विटी फंड एडवेंट इंटरनेशनल को बेच दिया था. यूरेका फोर्ब्‍स एक्‍वागॉर्ड (Aquaguard) और फोर्ब्‍स (Forbes) जैसे ब्रॉन्‍ड ऑपरेट करती है. 


शापूरजी पालोनजी समूह को ऊंचाइयों तक ले जाने वाले दिग्गज उद्योगपति 'पालोनजी मिस्त्री' का जीवन काफी दिलचस्प रहा है. जहां एक ओर उनके नाम उद्योग जगत की कई उपलब्धियां दर्ज हैं, वहीं दूसरी ओर उम्र के ढलान में उन्हें उस टाटा समूह के साथ मुकदमेबाजी का सामना करना पड़ा. ये वो कंपनी है जिसके साथ उनका नाता बचपन से जुड़ा हुआ था. पालोनजी की उपलब्धियों की बात करें तो एसपी समूह को कंस्ट्रक्शन की दुनिया का बेताज बादशाह बनाने का श्रेय उन्हें जाता है. उनकी अगुवाई में शापूरजी पालोनजी के कंस्ट्रक्शन का कारोबार देश की सीमा को लांघकर कई देशों में पहुंच गया. फोर्ब्स (Forbes) के अनुसार, पालोनजी मिस्त्री की अगुवाई में एसपी समूह को विदेश से जो पहला टेंडर मिला था, वह ओमान के सुल्तान (Sultan Of Oman) का महल बनाने का था. ओमान के सुल्तान का आलीशान महल शापूरजी पालोनजी समूह ने साल 1976 में बनाना शुरू किया था.


शापूरजी पालोनजी ग्रुप (Shapoorji Pallonji Group) के पास टाटा संस (Tata Sons) में सबसे बड़ी इं‍डिविजुअल हिस्सेदारी है. पालोनजी मिस्‍त्री के बेटे साइरस मिस्त्री (Cyrus Mistry) को साल 2012 में टाटा संस का चेयरमैन बनाया गया था. 2016 तक साइरस मिस्‍त्री टाटा ग्रुप (Tata Group) के चेयरमैन रहे. विवाद के बाद उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था. यह मामला सुप्रीम कोर्ट में गया तब फैसला टाटा ग्रुप के हक में आया था.

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors