भारत की खुदरा मुद्रास्फीति अक्टूबर में 4.8 से बढ़कर नवंबर में 5.5% हुई

ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में मुद्रास्फीति दर 5.85 प्रतिशत, 5.26 प्रतिशत रही, जो एक साल पहले इसी महीने में 4.62 प्रतिशत और 5.12 प्रतिशत थी.

भारत की खुदरा मुद्रास्फीति अक्टूबर में 4.8 से बढ़कर नवंबर में 5.5% हुई

Tuesday December 12, 2023,

2 min Read

सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा मंगलवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत की खुदरा मुद्रास्फीति नवंबर में वार्षिक आधार पर 5.55 प्रतिशत बढ़ी, जबकि अक्टूबर में यह चार महीने के निचले स्तर 4.87 प्रतिशत पर थी.

यह संख्या भारतीय रिजर्व बैंक (RBI के 2-6 प्रतिशत के सहनशीलता बैंड के भीतर बनी हुई है.

जारी आंकड़ों के मुताबिक, क्रमिक आधार पर महंगाई दर 0.54 फीसदी रही. नवंबर में खाद्य मुद्रास्फीति 8.70 फीसदी रही.

ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में मुद्रास्फीति दर 5.85 प्रतिशत, 5.26 प्रतिशत रही, जो एक साल पहले इसी महीने में 4.62 प्रतिशत और 5.12 प्रतिशत थी.

नवंबर में सब्जियों की महंगाई दर 17.7 फीसदी रही. इसके अलावा, ईंधन और प्रकाश मुद्रास्फीति में (-)0.77 प्रतिशत की गिरावट आई.

दिसंबर की नीति बैठक में, भारतीय रिजर्व बैंक ने मुद्रास्फीति लक्ष्य को 5.4 प्रतिशत पर अपरिवर्तित छोड़ दिया. अगस्त की नीति में, आरबीआई एमपीसी ने अपने वित्त वर्ष 2024 के मुद्रास्फीति अनुमान को 5.1 प्रतिशत से बढ़ाकर 5.4 प्रतिशत कर दिया था.

आरबीआई गवर्नर और मौद्रिक नीति समिति (MPC) के प्रमुख शक्तिकांत दास ने नीतिगत निर्णयों की घोषणा करते हुए कहा था, "मुख्य मुद्रास्फीति में व्यापक रूप से कमी आई है, जो मौद्रिक नीति कार्यों के माध्यम से सफल अवस्फीति का संकेत है. हालांकि, निकट अवधि का दृष्टिकोण खाद्य मुद्रास्फीति के जोखिमों से छिपा हुआ है, जिससे नवंबर और संभवतः दिसंबर में मुद्रास्फीति में वृद्धि हो सकती है. खाद्य मुद्रास्फीति के प्रक्षेप पथ पर कड़ी निगरानी रखने की जरूरत है."

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors