Indigo टेक्नीशियंस का एयरबस को लेटर, बताया एयरलाइन की किस लापरवाही से यात्रियों की सुरक्षा है खतरे में

पत्र में टेक्नीशियंस ने यह भी कहा कि जिन ऑपरेटरों को आपने अपना विमान लीज पर दिया है वे मेंटेनेंस की मानक प्रक्रिया का पालन नहीं कर रहे हैं. पिछले चार दिनों से तकनीकी कर्मचारी हड़ताल पर हैं और फिर भी वे बिना उचित मेंटेनेंस के विमान उड़ा रहे हैं और यहां तक कि वे निर्धारित मेंटेनेंस को भी टाल रहे हैं.

Indigo टेक्नीशियंस का एयरबस को लेटर, बताया एयरलाइन की किस लापरवाही से यात्रियों की सुरक्षा है खतरे में

Monday July 18, 2022,

3 min Read

इंडिगो (Indigo) के टेक्नीशियनों ने इंडिगो विमान निर्माता कंपनी एयरबस (Airbus) को पत्र लिखकर शिकायत की है कि कंपनी विमान की मेंटेनेंस से जुड़ी स्टैंडर्ड प्रक्रियाओं का पालन नहीं कर रही है और इससे यात्रियों की सुरक्षा खतरे में पड़ रही है.

बीते 12 जुलाई को ऑल इंडिया एयरक्रॉफ्ट टेक्नीशियंस द्वारा लिखे गए पत्र में कोई दुर्घटना होने से पहले एयरबस से इस संबंध में हस्तक्षेप करने की मांग की गई.

पत्र में कहा गया कि मैं आपसे इस संबंध में हस्तक्षेप करने की मांग करता हूं और ऑपरेटर्स से पिछले सात दिनों का मेंटेनेंस डेटा शेयर करने की भी मांग करें.

पत्र में टेक्नीशियंस ने यह भी कहा कि जिन ऑपरेटरों को आपने अपना विमान लीज पर दिया है वे मेंटेनेंस की मानक प्रक्रिया का पालन नहीं कर रहे हैं. पिछले चार दिनों से तकनीकी कर्मचारी हड़ताल पर हैं और फिर भी वे बिना उचित मेंटेनेंस के विमान उड़ा रहे हैं और यहां तक कि वे निर्धारित मेंटेनेंस को भी टाल रहे हैं.

उन्होंने यह भी बताया कि अनुचित उन्होंने यह भी बताया कि अनुचित रखरखाव अंतरराष्ट्रीय बाजार में एयरबस की छवि पर एक बड़ा प्रभाव डाल सकता है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में एयरबस की छवि पर एक बड़ा प्रभाव डाल सकता है.

सीधे तौर पर जिम्मेदार कुछ एयरलाइन ऑफिशियल का नाम लेते हुए टेक्नीशियंस ने कहा कि उन्होंने आपके विमान की मेंटेनेंस स्टैंडर्ड्स को गिरा दिया है. एयरक्रॉफ्ट की खराब मेंटेनेंस के लिए आप सीधे तौर पर उनसे सवाल पूछ सकते हैं.

हालांकि, एयरबस ने इन आरोपों को सीधे तौर पर आधारहीन बताते हुए खारिज कर दिया है. कंपनी ने कहा कि सभी रेगुलेटरी नियमों का पालन करने के लिए इंडिगो एयरक्रॉफ्ट मेंटेनेंस को लेकर उच्च स्टैंडर्ड्स का पालन करता है. ऐसे आरोप पूरी तरह से आधारहीन हैं और खराब मंशा के साथ फैलाए जा रहे हैं.

कंपनी ने आगे कहा कि हमारे पास हाई ऑपरेशनल उपलब्धता वाले 280 से अधिक विमानों का बेड़ा है, जो इसे दुनिया की सबसे सुरक्षित एयरलाइनों में से एक बनाता है. हम अपने सभी ग्राहकों को समय पर, सस्ती, सुरक्षित और विनम्र और परेशानी मुक्त सेवा प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

यह मामला ऐसे समय में सामने आया है जब इंडिगो के विमान मेंटेनेंस टेक्नीशियंस हैदराबाद और दिल्ली में दो दिनों के के लिए कम वेतन के विरोध में सिक लीव पर चले गए थे.

नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने कहा था कि वह हालात पर नजर रखे हुए है.

इसके बाद, इंडिगो ने कर्मचारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही शुरू की और उन्हें आवश्यक मेडिकल डॉक्यूमेंट्स के साथ एयरलाइन के डॉक्टर के पास रिपोर्ट करने के लिए कहा, ताकि एयरलाइन यह सत्यापित कर सके कि क्या वे वास्तव में बीमार थे.

जब कोविड -19 महामारी अपने चरम पर थी, तब इंडिगो ने अपने कर्मचारियों के एक बड़े वर्ग के वेतन में कटौती की थी. हालांकि, अब इंडिगो ने कहा है कि वह अपने एएमटी के वेतन में महामारी के कारण होने वाली विसंगतियों" को दूर करेगी.

हाल ही में 15 जुलाई को, दिल्ली से वडोदरा के लिए इंडिगो की एक उड़ान को एहतियात के तौर पर जयपुर के लिए डायवर्ट किया गया था. इसका कारण था कि उसके इंजन के एक हिस्से में कुछ देर के लिए कंपन होने लगी थी.