Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

IPL 2023: नए नियम 'Impact Player' से कितना बदलेगा इस बार का गेम

नए रूल के मुताबिक पहली बार, IPL टीमें पहली बार जरूरत के हिसाब से गेम में कभी भी एक नए प्लेयर को शामिल कर सकेंगी. इस प्लेयर को इंपैक्ट प्लेयर कहा जाएगा, यह 11 लोगों की टीम के इतर होगा.

IPL 2023: नए नियम 'Impact Player' से कितना बदलेगा इस बार का गेम

Friday March 31, 2023 , 4 min Read

IPL के 2023 का एडिशन का आगाज शुक्रवार से शुरू हो रहा है. पहले मैच में गुजरात टाइटंस चार बार की टाइटल विजेता चेन्नई के साथ मैदान में उतरेगी. 2023 का एडिशन में काफी कुछ नया देखने को मिलने वाला है. इस सीजन में कुछ नए नियम जोड़े गए हैं.

उनके मुताबिक पहली बार, IPL टीमें पहली बार जरूरत के हिसाब से गेम में कभी भी एक नए प्लेयर को शामिल कर सकेंगी. इस प्लेयर को इंपैक्ट प्लेयर कहा जाएगा, यह 11 लोगों की टीम के इतर होगा.

हालांकि, सिर्फ इंडियन प्लेयर को ही गेम में किसी भी वक्त बैटर या बॉलिंग के लिए इंपैक्ट प्लेयर की तरह इस्तेमाल किया जा सकेगा. वहीं विदेशी प्लेयर्स के लिए अलग रूल हैं. नियमों के मुताबिक एक टीम में 4 विदेशी प्लेयर हो सकते हैं. अगर टीम ने शुरुआती टीम में पहले ही चारों विदेशी प्लेयर्स को रख लिया है तो इंपैक्ट प्लेयर सिर्फ भारतीय प्लेयर ही हो सकता है.

इसके लिए कॉइन टॉस से जुड़े नियमों में भी बदलाव किया गया है. कैप्टन अब टॉस से पहले टीम का ऐलान करने की बजाय टॉस होने के बाद शुरुआती XI की घोषणा करेंगे. इस तरह वे पारी के हिसाब से अपनी शुरुआती XI का चुनाव कर सकेंगे. हालांकि, इस नियम का पॉजिटिव असर है या निगेटिव इसे लेकर अलग अलग मत हैं.

दिल्ली कैपिटल के हेड कोच रिकी पॉन्टिंग ने कहा कि इस कदम से ऑल राउंडर्स की जरूरत ही नहीं रह जाएगी. अब उन्हीं ऑलराउंडर्स को प्राथमिकता दी जाएगी जब या तो वे वर्ल्ड क्लास प्लेयर हों या फिर उन्हें बैट्समैन या बॉलर की तरह चुना जाए.

मुझे लगता है इस सीजन गिनी चुनी टीमें ही ऑलराउंडर्स को चुनेंगी जो नंबर 7 पर बैटिंग या बॉलिंग करने उतरेंगे. क्योंकि अब आपको उनकी जरूरत ही नहीं. गेम में किसी भी वक्त आपको लगे कि मजबूत बैटर या बॉलर की जरूरत है आप उसे बाहर से बुला सकते हैं.

ऑस्ट्रेलिया प्लेयर सैम करन पिछले साल सबसे महंगे प्लेयर रहे थे, जो 2.25 मिलियन डॉलर में बिके थे. सैम रिकी पॉन्टिंग के इस अनुमान को जरूर गलत साबित करना चाहेंगे.

The BCCI ने इंपैक्ट प्लेयर रूल को 2022 में Syed Mushtaq Ali Trophy में लॉन्च किया था. उसके नियम कुछ अलग थे. जिन फ्रैंचाइजी कोच और टैलेंट स्काउट्स ने गेम को देखा था उनकी राय थी कि इंपैक्ट प्लेयर को लाना एक स्ट्रैटजिक कदम कम और डैमेज कंट्रोल की तरह अधिक था.

नए नियमों के आने के बाद अब कैप्टन दो टीम प्लान लेकर जा सकेंगे. पहली बैटिंग फर्स्ट वाली स्थिति वाली टीम और दूसरी बॉलिंग फर्स्ट स्थिति वाली टीम.

ऐसे में इंपैक्ट प्लेयर का इस्तेमाल कहां होगा फिर? आरसीबी के हेड कोच ने अपनी वेबसाइट पर कहा कि अब 12 प्लेइंग टीमें बनेंगी. क्योंकि ज्यादातर टीमें चाहेंगी की उनके टॉप बैटिंग या बॉलिंग स्लॉट में पक्के खिलाड़ी को ही जगह मिले.

आखिर क्या है मकसद

टॉस के बाद टीम का ऐलान करने से टॉस में जीतना या हारना उतना मायने नहीं रखेगा. इंडिया में खासकर दूसरी पारी में फील्ड में नमी आ जाती है इसलिए बॉलिंग टीम के लिए मैच मुश्किल हो जाता है. नए नियम के बाद टीमें जरूरत के हिसाब से अपनी टीम के प्लेयर्स चुन सकेंगी.

इस रूल को सबसे पहले SA20 टूर्नामेंट में ट्राई किया गया था. हालांकि उन वेन्यू पर नमी की इतनी नहीं थी. लेकिन आईपीएल में लगभग सभी 12 वेन्यू पर नमी रहनी तय है. कोच और प्लेयर्स सभी का मानना है कि यह फैक्टर ना सिर्फ प्लेइंग XI बल्कि इंपैक्ट प्लेयर के सेलेक्शन को भी प्रभावित करेगा.

अगर कोई टीम जल्दी निपट जाती है तो इनिंग को संभालने के लिए टीम धुरंधर बैटर को इंपैक्ट प्लेयर के तौर पर ला सकती है.

अगर शुरुआत मजबूत होती है तो स्ट्रॉन्ग बैटर को इंपैक्ट प्लेयर की तरह लाकर रन और बढ़ाए जा सकते हैं.

अगर पिच स्पिन के लिहाज से अच्छी रहती है और अगर शुरुआती टीम में तीन फास्ट बॉलर रखे गए हैं तो बाद में एक स्पिनर को लाया जा सकता है.

इस नियम के अलावा आईपीएल में इस बार टाइम पेनल्टी का कॉन्सेप्ट भी पेश किया गया है, ताकि ओवर रेट्स को कंट्रोल किया जा सके. जैसे इंटरनैशनल T20 और वन-डे इंटरनैशनल क्रिकेट में अगर फील्डिंग टीम तय समय के अंदर ओवर नहीं खत्म कर पाती तो उसे 30 यार्ड सर्किल के बाहर फील्डर्स की संख्या कम करनी होती है.

इसके अलावा ब्रॉडकास्टिंग के लिए भी नए रूल्स पेश किए गए हैं. पहली बार दो ब्रॉडकास्टर आईपीएल होंगे. डिज्नी स्टार के पास टीवी राइट्स हैं और वायकॉम18 के पास डिजिटल राइट्स हैं.


Edited by Upasana