इस दिवाली ISRO लॉन्च करेगा ब्रिटिश कंपनी के 36 सेटेलाइट, होगी हज़ारों करोड़ की कमाई

By रविकांत पारीक
October 17, 2022, Updated on : Mon Oct 17 2022 10:04:06 GMT+0000
इस दिवाली ISRO लॉन्च करेगा ब्रिटिश कंपनी के 36 सेटेलाइट, होगी हज़ारों करोड़ की कमाई
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो (ISRO) का सबसे भारी रॉकेट GSLV MK3 आगामी 23 अक्टूबर को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के स्पेसपोर्ट से ब्रिटिश स्टार्टअप OneWeb के 36 ब्रॉडबैंड सैटेलाइट को लॉन्च करेगा. इसके लॉन्च के साथ ही GSLV MK3 ग्लोबल कमर्शियल लॉन्च सर्विस मार्केट में प्रवेश कर जाएगा.


इसरो ने कहा कि LVM3 – M2 / OneWeb India-1 मिशन के लॉन्च का समय 23 अक्टूबर 2022 को सुबह 7 बजे है. क्रायो स्टेज इक्विपमेंट बे (ईबी) असेंबली पूरी हो गई है. सैटेलाइट को इनकैप्सुलेट किया गया है और व्हीकल में असेंबल किया गया है. अंतिम जांच प्रगति पर है.


इसरो इस लॉन्चिंग को न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (इसरो की वाणिज्यिक शाखा) और यूके स्थित लो अर्थ ऑर्बिट सैटेलाइट संचार कंपनी वनवेब के बीच एक अनुबंध के हिस्से के रूप में कर रहा है. अंतरिक्ष एजेंसी ने लॉन्च देखने के लिए लोगों के लिए व्यूइंग गैलरी भी खोली है. कोरोना महामारी के बाद यह पहली बार किया जा रहा है कि लोगों को लॉन्च देखने के लिए मौका मिला है.

isros-heaviest-rocket-gslv-mk3-ready-for-first-commercial-flight-on-oct-23-oneweb-sriharikota

न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड ने नेटवर्क एक्सेस एसोसिएटेड लिमिटेड के साथ दो अनुबंधों पर हस्ताक्षर किए हैं, जो बाद के ब्रॉडबैंड संचार उपग्रहों को कम पृथ्वी की कक्षा में लॉन्च करने के लिए है. वनवेब के 36 सैटेलाइट्स के एक और सेट को जनवरी 2023 में कक्षा में स्थापित करने की योजना है.


वनवेब ने कहा था, इस साल एक अतिरिक्त लॉन्च किया जाएगा और अगले साल की शुरूआत में तीन और लॉन्च किए जाने का लक्ष्य रखा गया है. वनवेब भारत की भारती ग्लोबल और यूके सरकार का एक जॉइंट वेंचर है. सैटेलाइट कंपनी संचार सेवाओं की पेशकश करने के लिए निम्न-पृथ्वी की कक्षा में 650 सैटेलाइट्स के एक समूह की योजना बना रही है.


भारत के सबसे भारी रॉकेट लॉन्च को यूनाइटेड किंगडम स्थित नेटवर्क एक्सेस एसोसिएटेड लिमिटेड द्वारा न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड के माध्यम से खरीदा गया था. भारती समूह समर्थित OneWeb ब्रॉडबैंड सेवाएं प्रदान करने के लिए पृथ्वी के ऑर्बिट में उपग्रहों का एक समूह है. यह पहली बार है जब भारत के सबसे भारी रॉकेट को कमर्शियल प्रक्षेपण के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है.


इसके अलावा, यह पहली बार होगा जब भारत के वर्कहॉर्स पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (PSLV) के अलावा किसी रॉकेट का इस्तेमाल कमर्शियल लॉन्च करने के लिए किया जा रहा है. वर्तमान में भारत के पास तीन ऑपरेशनल लॉन्च व्हीकल हैं – PSLV, GSLV, और GSLV MK3. अंतरिक्ष एजेंसी ने एक छोटा सैटेलाइट लॉन्च यान भी तैयार किया है, जिसकी पहली उड़ान इस साल की शुरुआत में आंशिक सफल रही थी.


आपको बता दें कि इसरो के LVM3 या हेवी लॉन्च व्हीकल को पहले GSLV Mk III या जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल मार्क III कहा जाता था.


यह GSLV Mk III की पहली कमर्शियल उड़ान होगी और कुल मिलाकर दूसरी उड़ान होगी. इससे पहले इसने 22 जुलाई, 2019 को भारत के दूसरे चंद्र मिशन चंद्रयान -2 अंतरिक्ष यान को अपनी नियोजित कक्षा में पहुँचाया. प्रक्षेपण सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र शार, श्रीहरिकोटा के दूसरे लॉन्च पैड से हुआ.


GSLV-Mk3 को एक लिक्विड कोर स्टेज, दो सॉलिड मोटर स्ट्रैप-ऑन और एक हाई-लिफ्टर क्रायोजेनिक अपर स्टेज लॉन्च करने के लिए डिज़ाइन किया गया है. इसकी कुल लंबाई 43.5 मीटर है, और इसका वजन लगभग 660 टन है. GSLV-Mk-3 को 4,000 किलोग्राम वर्ग के सैटेलाइट्स को एक विश्वसनीय और लागत प्रभावी लॉन्च क्षमता प्रदान करने के लिए विकसित किया गया था. यह 4t श्रेणी के सैटेलाइट्स को GTO और लगभग 10t से LEO तक उठाने में सक्षम है.


कंपनी ने कहा कि वह आने वाले महीनों में विभिन्न साझेदारियों के साथ अपने समूह को पूरा करने के लिए चार और उपग्रहों को लॉन्च करने की योजना बना रही है.


यह पहली बार होगा जब भारत के Polar Satellite Launch Vehicle (PSLV) के अलावा किसी अन्य रॉकेट का उपयोग कमर्शियल लॉन्चिंग के लिए किया जा रहा है. PSLV ने कम से कम केवल आठ कमर्शियल लॉन्च किए हैं और दूसरी ओर GSLV ने अब तक 14 लॉन्च किए हैं.


2020 में, सरकार ने निजी कंपनियों को अंतरिक्ष क्षेत्र में भाग लेने की अनुमति दी. यह मुख्य रूप से उन्हें विभिन्न प्रकार की अंतरिक्ष से संबंधित सेवाएं प्रदान करने की अनुमति देने पर केंद्रित था, जबकि इसरो वैज्ञानिक मिशनों पर ध्यान केंद्रित करता है. अब तक, देश में सौ से अधिक स्टार्टअप स्थापित किए जा चुके हैं. ये कंपनियां सैटेलाइट्स बनाने, लॉन्चिंग सेवाओं और डाउनस्ट्रीम ऐप्लीकेशंस सहित कई सेवाएं प्रदान करती हैं.